बिहार में शराब माफिया पर ऐसे बढ़ी सख्ती!

आयुक्त ने शराब के अवैध उत्पादन, सेवन, भंडारण, बिक्री और परिवहन के खिलाफ कार्रवाई तेज करने का निर्देश दिया है।

बिहार में शराबबंदी तो बहुत पहले से ही लागू है, लेकिन शराबी हैं कि मानते नहीं। वे कभी पड़ोसी राज्य झारखंड से शराब मंगाकर अपने नशे की लत को पूरा करते हैं, तो कभी ब्लैक में कहीं और से जुगाड़ कर लेते हैं। पटना में तो बॉलीवुड अभिनेत्रियों के नाम से विभिन्न तरह की शराब की तस्करी किए जाने का पर्दाफाश हुआ था। मसलन कैटरीना, करीना, आलिया आदि के नाम पर विभिन्न ब्रांड की शराब के नाम रखे गए थे। लेकिन कानून के हाथ भी लंबे होने की बात कही जाती है। प्रशासनिक अधिकारियों को  जल्द ही इस तरह के गोरखधंधों के बारे में जानकारी मिल गई। अब इस शराबबंदी अभियान को और प्रभावी तरीके से लागू करने के लिए शराब तस्करी में शामिल लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए गए हैं। इसके तहत अगर किसी मकान एवं गोदाम से शराब जब्त की जाती है तो उस मकान और गोदाम को नीलाम कर दिया जाएगा। प्रमंडलीय आयुक्त संजय कुमार अग्रवाल ने इस आदेश का सख्ती से पालन करने का निर्देश जारी किया है।

शराब के अवैध उत्पादन, सेवन, भंडारण, बिक्री और परिवहन के खिलाफ कार्रवाई तेज
प्रमंडलीय आयुक्त ने सभी डीएम को पिछले दो महीने में नीलाम किए गए वाहनों की समीक्षा रिपोर्ट पेश करने को कहा है। इसके साथ ही उत्पाद विभाग द्वारा जब्त वाहनों की स्थिति व उनकी नीलामी को लेकर भी रिपोर्ट मांगी है। आयुक्त ने शराब के अवैध उत्पादन, सेवन, भंडारण, बिक्री और परिवहन के खिलाफ कार्रवाई तेज करने का निर्देश दिया है। उन्होंने बताया कि जब्त वाहनों की जिलावार समीक्षा करने पर जानकारी मिली है कि वाहनों की नीलामी प्रक्रिया में तेजी आई है।

ये भी पढ़ेंः किसान आंदोलनः कब तक टिके रहेंगे टिकैत?…. पढ़िए पूरी खबर

असामाजिक तत्वों पर नजर
आयुक्त ने अपराध पर अंकुश लगाने के लिए सभी पुलिस थानों को पेट्रेलिंग तेज करने तथा डीएसपी को मॉनिटरिंग करने का निर्देश दिया है। इस दौरान असामाजिक तत्वों पर विशेष नजर रखने का निर्देश जारी किया गया है। साथ ही उन्होंने एसएसपी और डीएसपी को थानों का औचक निरीक्षण करने तथा कार्यरत अधिकारियों एवं कर्मचारियों को तत्पर रखने का निर्देश दिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here