Ayodhya में रामलला के दर्शन के लिए उमड़ी भक्तों की भीड़, बनने जा रहा है विश्व रिकॉर्ड

ब्रह्मांड के ब्रह्म शक्ति प्रभु श्रीराम की झलक पाने को बेताब श्रद्धालुओं का जोश आस्था की डगर पर अलौकिक छटा बिखेर रही थी।

249

Ayodhya: श्रीराम जन्मभूमि(Shri Ram Janmabhoomi) पर 22 जनवरी को दोपहर के समय रामलला प्राण प्रतिष्ठा(Ramlala Pran Pratistha) के साथ ही साढ़े पांच सौ साल का इंतजार खत्म हुआ तो देश और दुनिया भर में फैले श्रद्धालु(Devotee) अपने आराध्य का दीदार करना चाह रहे हैं। राम भक्तों की कतार नहीं लग पा रही, हुजूम उमड़ पड़ा(The crowd gathered) है। भक्तों के सैलाब को संभालने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ(Chief Minister Yogi Adityanath) के निर्देश पर प्रमुख सचिव गृह संजय प्रसाद(Principal Secretary Home Sanjay Prasad) समेत अन्य अधिकारी अयोध्या में ही डटे हुए हैं। प्रशासन के अनुसार 23 जनवरी को अपराह्न तीन बजे तक लगभग तीन लाख श्रद्धालु रामलाल के दर्शन कर(Nearly three lakh devotees visited Ramlal) लिए हैं।

स्थानीय प्रशासन का अनुमान है कि 23 जनवरी को 20 लाख श्रद्धालु रामलला के दरबार में पहुंच सकते हैं। ऐसा हुआ तो एक बार फिर अयोध्या विश्व रिकार्ड बनाएगी।

प्रभु श्रीराम की झलक पाने को बेताब श्रद्धालु
ब्रह्मांड के ब्रह्म शक्ति प्रभु श्रीराम(Prabhu Shri Ram) की झलक पाने को बेताब श्रद्धालुओं का जोश आस्था की डगर पर अलौकिक छटा बिखेर रही थी। रामलला के विग्रह की प्राण प्रतिष्ठा से पहले मुख्य यजमान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देशवासियों से आग्रह किया था कि प्राण प्रतिष्ठा के दिन सभी घर पर ही श्रीराम ज्योति जलाएं और दीपोत्सव मनाएं। प्राण प्रतिष्ठा के बाद 23 जनवरी से सबको रामलला का दिव्य दर्शन मिलने लगेगा। ऐसे में सभी को बेसब्री से 23 जनवरी का इंतजार था। सूर्योदय से पहले ही श्रद्धालु प्रभु श्रीराम के दर्शन को राम दरबार में कतारबद्ध थे।

Mumbai: जानिये, मीरा रोड के गाजा पट्टी में पथराव के बाद कैसी है स्थिति और अब तक कितने हुए गिरफ्तार

जय श्रीराम के जयघोष से भक्तिमय हुआ वातावरण
रामलला का दरबार खुलने पर जय श्रीराम के जयघोष से वातावरण भक्तिमय हो गया। दिन चढ़ते-चढ़ते भीड़ इस कदर बढ़ी कि पुलिस प्रशासन के हाथ पांव फूलने लगे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ खुद अयोध्या पर नजर बनाए हुए हैं। स्थितियों को देखते हुए उन्होंने शासन के अधिकारियों को मौके पर रहकर स्थिति को संभालने के निर्देश दिए हैं। स्थानीय पुलिस प्रशासन के साथ आला अफसर भी मंदिर प्रांगण में मौजूद हैं।

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.