IPC 352: जानिए क्या है आईपीसी धारा 352, कब होता है लागू और क्या है सजा

भारतीय दंड संहिता की धारा 352 दंड के बारे में बात करती है यदि कोई व्यक्ति बिना किसी उकसावे के अपने आपराधिक बल का उपयोग करता है ।

508

IPC 352: कुछ लोग बहुत धैर्यवान होते हैं लेकिन कुछ बहुत क्रोधी होते हैं। हर किसी के पास धैर्य की कुछ सीमा होती है और कुछ लोगों के पास कुछ ट्रिगर बिंदु होते हैं उदाहरण के लिए बहनें भाई हैं कमजोर बिंदु भाई अपनी बहनों के बारे में एक शब्द भी नहीं सुन सकते हैं, बच्चे अपने माता-पिता के बारे में कोई भी बुरी बात नहीं सुन सकते हैं, आदि।

कुछ लोग ऐसे होते हैं जो बहुत शांत होते हैं लेकिन कुछ शब्द या किसी चीज़ के बारे में बात करना या कोई उन्हें उकसा सकता है, उकसावे से कोई व्यक्ति कुछ ऐसा कर सकता है जो वह व्यक्ति अपने सामान्य अर्थों में नहीं कर सकता है। गुस्सा किसी से कुछ ऐसा करवा सकता है जो वह सामान्य परिस्थितियों में नहीं चाहता/चाहती। हम हमले और आपराधिक बल पर चर्चा करने जा रहे हैं, सज़ा क्या है? गंभीर और अचानक उकसावा क्या है?

यह भी पढ़ें- Swati Maliwal Assault: एयरपोर्ट पर केजरीवाल के साथ दिखे विभव कुमार, भाजपा ने किया यह दावा

क्या है धारा 352?
भारतीय दंड संहिता की धारा 352 दंड के बारे में बात करती है यदि कोई व्यक्ति बिना किसी उकसावे के अपने आपराधिक बल का उपयोग करता है या हमला करता है, इसमें कहा गया है कि यदि कोई किसी अन्य व्यक्ति पर हमला करता है या ऐसे व्यक्ति द्वारा उकसाए बिना किसी पर आपराधिक बल का उपयोग करता है तो यह दंडनीय अपराध है।

यह भी पढ़ें- Swati Maliwal Assault: स्वाति मालीवाल से जुड़े सवालों पर केजरीवाल की चुप्पी, अखिलेश ने कही यह बात

आपराधिक बल (Criminal force) क्या होता है ?
भारतीय दंड संहिता की धारा 350 में आपराधिक बल की चर्चा की गई है, इसमें कहा गया है कि जब कोई व्यक्ति दूसरे व्यक्ति की सहमति के बिना उससे कुछ करने या न करने के लिए बल का प्रयोग करता है या कोई अपराध करने या करने के लिए बल का प्रयोग करता है। डरा हुआ व्यक्ति या इस तथ्य से अवगत है कि ऐसे व्यक्ति का उपयोग या तो दूसरे व्यक्ति को घायल कर सकता है या मार सकता है, यह एक आपराधिक बल है जो एक दंडनीय अपराध है।

यह भी पढ़ें- Anita Goyal: जेट एयरवेज के संस्थापक नरेश गोयल की पत्नी का कैंसर से निधन

हमला करना (Assault) क्या होता है ?
जब कोई व्यक्ति कुछ ऐसा करता है या कुछ करने की तैयारी करता है जिससे दूसरे व्यक्ति को लगे कि किसी प्रकार का हावभाव दिखाने वाला व्यक्ति उसे चोट पहुँचाने वाला है या आपराधिक बल का प्रयोग करने वाला है तो उसे हमला कहा जाता है।

यह भी पढ़ें- Jammu Kashmir: लोकसभा चुनाव से पहले कुपवाड़ा में बड़ी साजिश नाकाम, 4 आतंकवादी ढेर

क्या होती है सजा ?
यदि किसी व्यक्ति पर भारतीय दंड संहिता की धारा 352 के तहत आरोप लगाया जाता है, तो उस व्यक्ति को तीन महीने तक की कैद या पांच सौ रुपये तक का जुर्माना या दोनों से दंडित किया जाएगा। आईपीसी की धारा 352 एक जमानती और गैर-संज्ञेय अपराध है। इसका समझौता उस व्यक्ति द्वारा किया जा सकता है जो ऐसे आपराधिक बल या हमले का शिकार है और उस पर किसी भी मजिस्ट्रेट के समक्ष मुकदमा चलाया जा सकता है, इसलिए यह भी एक समझौता योग्य अपराध है। इसका मुकदमा किसी भी मजिस्ट्रेट के समक्ष चलाया जा सकता है।

यह वीडियो भी देखें-

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.