किसान आंदोलनः टिकैत ने अब ऐसे बढ़ाईं मोदी सरकार की मुश्किलें!

केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलााफ पिछले करीब तीन महीने से किसान दिल्ली की सीमाओं पर आंदोलन कर रहे हैं।

भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने राजस्थान के चुरु में आयोजित सरदारशहर किसान महापंचायत में बड़ा ऐलान किया है। टिकैत ने कहा है कि 40 लाख ट्रैक्टरों की रैली निकाली जाएगी। इसके साथ ही उन्होंने किसान आंदोलन को लेकर नया नारा, ‘हल चलानेवाला हाथ नहीं जोड़ेगा’ भी दिया है। टिकैत की इस घोषणा से भविष्य में मोदी सरकार की मुश्किलें बढ़ सकती हैं।

महापंचायत में टिकैत ने मोदी सरकार की जमकर आलोचना की और किसानों को एकजुट रहने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि सरकार को हर हालत में कृषि कानून रद्द करना होगा।

किसानों की आजादी की लड़ाई
टिकैत ने किसान आंदोलन को लंबा चलने की बात करते हुए कहा कि यह किसानों की आजादी की लड़ाई है। उन्होंने कृषि कानूनों को रद्द करने के साथ ही एमएसपी को लेकर भी कानून बनाने की मांग की। उन्होंने कहा कि वर्तमान कृषि कानूनों से किसान और उपभोक्ता दोनों बर्बाद हो जाएंगे।

ये भी पढ़ेंः…. और टूलकिट मामले में दिशा रवि को जमानत मिल गई!

तीन महीने से आंदोलन जारी
केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलााफ पिछले करीब तीन महीने से किसान दिल्ली की सीमाओं पर आंदोलन कर रहे हैं। इन किसानों के आंदोलन का नेतृत्व कर रहे राकेश टिकैत के राजस्थान के चुरु जिले के सरदारशहर में स्थित राजीव गांधी स्टेडियम में आयोजित किसान महापंचायत में कांग्रेस नेता रामेश्वर डूडी, सादुलपुर के विधायक कृष्णा पूनियां और तारानगर के विधायक नरेंद्र बुडानिया आदि भी मौजूद थे।

ये भी पढ़ेंः जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग में एनकाउंटर, चार आतंकवादी ढेर

केंद्र सरकार ने कही ये बात
टिकैत के इस ऐलान पर केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने प्रतिक्रिया व्यक्त की है। उन्होंने कहा है कि भारत सरकार किसानों की आय दोगुनी करने और कृषि कल्याण के लिए काम करने के लिए प्रतिबद्ध है। कई बार चर्चाएं हो चुकी हैं, अगर उनके पास अब भी कोई मुद्दा है, तो हम चर्चा के लिए तैयार हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here