Special on Constitution Day: विधर्मी, अल्पसंख्यक ‘धर्मनिरपेक्ष’ संविधान!

558

रमेश शिंदे
इन दिनों जब भी सीएए, एनआरसी जैसा कोई विषय आता है तो विपक्ष एक ही नारा लगाता है, ‘संविधान खतरे में है, संविधान बचाओ!’ डॉ. बाबा साहब आंबेडकर की अध्यक्षता में बनाए गए संविधान (संविधान) में तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने मनमाने ढंग से संविधान को नष्ट कर दिया। आज वही लोग संविधान को बचाने के लिए ऐसा कर रहे हैं। इससे ज्यादा हास्यास्पद कुछ नहीं है। आम जनता को भ्रमित करने के लिए ऐसे आरोप लगाये जा रहे हैं। तत्कालीन प्रधान मंत्री इंदिरा गांधी ने संविधान में ‘धर्मनिरपेक्ष’ शब्द डाला। आज वही धर्मनिरपेक्ष संविधान अल्पसंख्यकों को विशेष रियायतें देकर उनका पक्ष लेता है, जो कि संविधान के लिए एक मजाक है।

‘धर्मनिरपेक्षता’ संविधान का हिस्सा नहीं
26 नवंबर, 1949 को संविधान की प्रस्तावना को अपनाया गया। इसमें कहीं भी न तो ‘धर्मनिरपेक्ष’ शब्द का उल्लेख है और न ही ‘समाजवाद’ शब्द का। जब संविधान सभा में विभिन्न प्रस्तावों पर चर्चा हो रही थी, तब संविधान में ‘धर्मनिरपेक्ष’ शब्द डालने की भी चर्चा हुई। उस समय डाॅ. बाबा साहब आम्बेडकर और जवाहरलाल नेहरू ने इसका विरोध किया। देश का बंटवारा धर्म के आधार पर हुआ, उसके तुरंत बाद भारत में नया संविधान तैयार किया जा रहा था। इसके चलते संविधान सभा के कुछ सदस्यों ने अल्पसंख्यकों के अधिकारों को लेकर चिंता व्यक्त की और संविधान में ‘धर्मनिरपेक्ष’ शब्द डालने पर जोर दिया। लेकिन उन्हें संतुष्ट करने के लिए, संविधान में ‘धर्मनिरपेक्ष’ शब्द शामिल नहीं किया गया, लेकिन मुस्लिम समुदाय की रक्षा के उद्देश्य से, उन्हें अपने धर्म को मानने, अभ्यास करने और प्रचार करने की स्वतंत्रता देने के लिए अनुच्छेद 25 से 28 जोड़े गए। इसके अलावा अनुच्छेद 30 के तहत अल्पसंख्यकों को अपने स्वतंत्र शैक्षणिक संस्थान स्थापित करने का अधिकार दिया गया। संविधान सभा सदस्य प्रो. के.टी. शाह ने संविधान में ‘धर्मनिरपेक्ष’ शब्द डालने का तीन बार प्रस्ताव रखा, लेकिन हर बार डॉ. आम्बेडकर ने इससे परहेज किया। इसी बैठक में संविधान सभा के उपाध्यक्ष मुखर्जी ने कहा था कि अगर भारत को धर्मनिरपेक्ष बनाने की जिद है तो हम धर्म के आधार पर किसी विशेष समुदाय को धार्मिक अल्पसंख्यक की मान्यता और अधिकार नहीं दे सकते। केरल राज्य 1973 मामले में सुप्रीम कोर्ट की 13 जजों की बेंच के सामने शोध करते हुए बेंच ने कहा था कि किसी भी सरकार को संविधान की मूल प्रकृति से छेड़छाड़ करने वाले बदलाव करने का अधिकार नहीं है।

Bilaspur: 14 टेबलों पर होगी मतगणना, इन दिशानिर्देशों का करना होगा पालन

संविधान निर्माण के समय ‘सेक्युलर’ शब्द पर विवाद के इतिहास और सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद मात्र 2 साल में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने 1975 में पूरे देश में आपातकाल लगा दिया। विपक्षी नेताओं, सांसदों और कार्यकर्ताओं को जेल में रखा गया। उसी 21 महीने के आपातकाल के दौरान, इंदिरा गांधी ने 1976 में संविधान प्रस्ताव में बदलाव करते हुए ‘धर्मनिरपेक्ष’ और ‘समाजवाद’ शब्द जोड़ दिए। इस प्रकार के डाॅ. संविधान पर शोध करने का अम्बेडकर का इरादा अनुच्छेद 386 के प्रावधानों के साथ-साथ सर्वोच्च न्यायालय के आदेश की अवहेलना था, यानी यह अधिनियम असंवैधानिक था। 1949 में संविधान को अपनाते समय लोगों को शपथ दिलाई गई थी। इसके मुताबिक 1976 में तानाशाहीपूर्ण व्यवहार करने वाली इंदिरा गांधी को संविधान में बदलाव का अधिकार नहीं दिया गया।

धर्मनिरपेक्षवादी संविधान हिंदुओं के प्रति अन्यायपूर्ण
संविधान में ‘धर्मनिरपेक्ष’ और ‘समाजवाद’ शब्द तो डाले गए, लेकिन उनकी परिभाषा आज तक आधिकारिक तौर पर स्पष्ट नहीं की गई है। इस कारण से, ‘धर्मनिरपेक्ष’ शब्द का मूल अर्थ गैर-सांप्रदायिक होने पर भी इसका राजनीतिक लाभ लेने के लिए धर्मनिरपेक्ष, सर्व-धार्मिक, गैर-धार्मिक जैसी कई परिभाषाएं प्रचारित की जा रही हैं। ‘धर्मनिरपेक्ष’ का अर्थ है कि कोई भी धर्मनिरपेक्ष सरकार किसी भी धर्म/संप्रदाय के आधार पर अलग कानून नहीं बना सकती। सरकार उन्हें सब्सिडी नहीं दे सकती। यदि एक धर्मनिरपेक्ष सरकार से यह अपेक्षा की जाती है कि वह भारत में सभी धर्मों के साथ समान व्यवहार करेगी तो विशेष रियायतें नहीं दी जा सकती हैं। फिर किसी भी धर्म या समुदाय को धर्म के आधार पर अल्पसंख्यक का दर्जा देना, उन्हें हज-यरुशलम यात्रा के लिए सब्सिडी देना, ‘मुस्लिम पर्सनल लॉ’ को संवैधानिक मान्यता देना और शिक्षा के लिए सरकारी सब्सिडी देकर धार्मिक शिक्षा प्रदान करना असंवैधानिक है। संविधान एक साथ धर्मनिरपेक्ष हो और धर्म के आधार पर किसी समुदाय को अल्पसंख्यक का दर्जा देकर विशेष अधिकार दे सके, यह संभव नहीं है। तो अब उम्मीद है कि वकील और विद्वान लोग एक साथ आकर इस पर चर्चा करेंगे। आज संविधान में दी गई धर्मनिरपेक्षता अल्पसंख्यकों को शक्तिशाली बना रही है और बहुसंख्यक हिंदू समाज के साथ अन्याय कर रही है, यह तय है!

(लेखक हिन्दू जनजागृति समिति के राष्ट्रीय प्रवक्ता हैं।)

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.