‘राम भक्त’ को चंदे में मिली मौत?

एक सप्ताह में राम मंदिर निर्माण के लिए चंदा इकट्ठा करनेवाले दूसरे राम भक्त पर हमला होने की खबर है। राजस्थान के कोटा में दीपक शाह पर फायरिंग की गई थी। इसके बाद अब दिल्ली में रिंकू शर्मा को निशाना बनाया गया है।

दिल्ली तो बेरहमों की है, एक राम भक्त माता-पिता, भाई के आंसू यही कहानी कह रहे हैं। बिलखते पिता, बेसुद्ध मां और क्षीण पड़े भाई अपने नौजवान बेटे और भाई के जाने से दुख में है। वो राम भक्त था और मंदिर निर्माण के लिए चंदा इकट्ठा कर रहा था। शर्मा परिवार के इस नौजवान बेटे की दूसरे समुदाय के उन लोगों ने निर्ममता से मॉब लिंचिग कर दी जिसकी पत्नी की जान बचाने के लिए उनके बेटे ने लहू दिया था। जिस आरोपी के भाई का कोरोना संक्रमण होने पर इलाज करवाया था।

मंगोलपुरी क्षेत्र दुख में है। यहां के निवासी शर्मा परिवार को राम भक्त माना जाता है। ये परिवार राम के भव्य मंदिर के संकल्प को लेकर देश में किये जा रहे चंदा एकत्रीकरण का सहयोगी था। कुछ दिनों पहले बेटे रिंकू ने बजरंग दल और हिंदुओं के सहयोग से रैली निकाली थी। जिसके कारण लोग राम मंदिर निर्माण के लिए चंदा दें। इससे मंगोलपुरी का हिंदु समुदाय एकत्र हो रहा था। लेकिन रिंकू का ये राम काज किसी को चुभ रहा था।

ये भी पढ़ें – सोशल मीडिया, फेक न्यूज, सरकार और सर्वोच्च न्यायालय!… जानिये क्या है मामला

पड़ोसियों ने दी थी धमकी
रिंकू शर्मा के भाई के अनुसार पड़ोस में रहनेवाला इस्लाम का परिवार राम मंदिर के लिए चंदा इकट्ठा करने से आक्रोशित था। परिवार से मिली जानकारी के अनुसार पड़ोसियों ने रिंकू को धमकी भी दी थी कि वो ये सब न करे। लेकिन राम काज के लिए समर्पित रिंकू शर्मा ने इसकी चिंता नहीं की।

ये भी पढ़ें – क्या भारत की दवा से मिटेगा कनाडा का खालिस्तानी दर्द?

उनका था सिलिंडर ब्लास्ट का प्रयत्न?
पीड़ित रिंकू शर्मा के भाई के अनुसार बुधवार सायंकाल को रिंकू एक जन्मदिन पार्टी में गया था। जब वो पार्टी से लौट रहा था उस बीच ही उसे पड़ोसी लड़कों ने उसे घेर लिया और इन लोगों में विवाद हो गया। मिली जानकारी के अनुसार उन लोगों के पास धारदार हथियार थे। विवाद बढ़ने पर रिंकू घर भागकर आया। जहां उसका पीछा करते हुए आरोपी भी आ गए। आरोप है कि आरोपियों ने शर्मा परिवार को पीटा और रिंकू पर उसके माता-पिता की आंखों के सामने ही चाकू से हमला कर दिया और उसकी पीठ में चाकू गोद दिया। आरोपियों ने शर्मा के घर में रखे सिलिंडर को भी खोल दिया था। उनके इरादे गंभीर थे और वो योजनाबद्ध थे।

जिन्हें दिया था लहू उन्हीं ने लहू-लुहान कर मार डाला
रिंकू के भाई मनु ने बताया वो राम भक्त था। उसे जिन लोगों ने निर्ममता से मारा है उसमें से एक आरोपी की पत्नी को प्रसव के दौरान उसने दो बार अपना लहू दान किया था। रिंकू ने आरोपी इस्लाम के भाई शकुरू को कोरोना संक्रमण होने पर अस्पताल ले जाकर इलाज करवाया था।

ये भी पढ़ें -किसान आंदोलनः टोल वसूली नहीं होने से कितने करोड़ की चपत?… जानिए इस खबर में

ये हैं रिंकू की हत्या के आरोपी
इस मामले में दिल्ली पुलिस ने अब तक चार लोगों को गिरफ्तार किया है। इनमें मोहम्मद दानिश, मोहम्मद इस्लाम, जाहिद और मोहम्मद मेहताब हैं। पुलिस इस मामले में जन्मदिन पार्टी में हुए विवाद को कारण बता रही है जबकि रिंकू के परिवार का आरोप है कि ये धार्मिक उन्माद का हिस्सा है। राम मंदिर निर्माण के लिए चंदा एकत्रीकरण और हिंदु जनजागरण से आरोपी आक्रोशित थे।

भाजपा हुई हमलावर
भाजपा ने रिंकू शर्मा की हत्या पर दुख व्यक्त किया है। दिल्ली प्रदेशाध्यक्ष आदेश गुप्ता ने कहा है कि राजधानी में हुई इस घटना से उन्हें दुख है। इसकी कड़ी निंदा करता हूं।

ये भी पढ़ें – हाथरस में पीएफआई की थी बड़ी साजिश!

जबकि भाजपा नेता कपिल मिश्रा ने मीडिया और नेताओं को कटघरे में खड़ा किया है।

विश्व हिंदू परिषद ने भी इस हत्या का तीव्र निषेध किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here