Lok Sabha Elections: चुनाव नतीजों से पहले PM Modi का देशवासियों को संदेश, जानें प्रधानमंत्री ने क्या लिखा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोकसभा चुनाव 2024 की राजनीतिक व्यस्तताओं के बाद आध्यात्मिक यात्रा पर तमिलनाडु के कन्याकुमारी में प्रवास किया।

322

देश में लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Elections) का अंतिम नतीजा आने में बस कुछ ही घंटे दूर हैं। लोकसभा क्षेत्र (Lok Sabha Constituencies) में किसकी होगी जीत? किसकी बनेगी सरकार? इसने दुनिया का ध्यान खींचा है। आखिरी चरण के चुनाव प्रचार (Election Campaign) के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) 30 मई को तमिलनाडु (Tamil Nadu) के कन्याकुमारी (Kanyakumari) पहुंचे और वहां विवेकानंद रॉक मेमोरियल (Vivekananda Rock Memorial) में 45 घंटे तक ध्यान किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस ध्यान के अनुभव और भविष्य के पाठ्यक्रम को लेकर अपने विचार व्यक्त किए हैं।

प्रधानमंत्री मोदी ने क्या विचार व्यक्त किये?

मेरे प्यारे देशवासियों,

लोकतंत्र के जन्म में लोकतंत्र के सबसे बड़े उत्सव का एक चरण पूरा हो रहा है। कन्याकुमारी की तीन दिवसीय आध्यात्मिक यात्रा के बाद मैं विमान से दिल्ली के लिए रवाना हो गया हूं। काशी समेत कई अन्य सीटों पर वोटिंग जारी है। अनेक अनुभव, संवेदनाएँ हैं। मैं अपने भीतर ऊर्जा का एक अनंत प्रवाह महसूस करता हूं।

दरअसल, 2024 के इस चुनाव में कई सुखद संयोग देखने को मिले। अमृतकाल के इस पहले लोकसभा चुनाव में मैंने 1857 के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम की जन्मस्थली मेरठ से प्रचार शुरू किया। इस चुनाव में मेरी आखिरी सभा पूरे भारत में यात्रा करते हुए पंजाब के होशियारपुर में हुई थी। संत रविदास जी की पवित्र भूमि और हमारे गुरुओं की भूमि पंजाब में अंतिम बैठक करना भी एक विशेष सौभाग्य है। इसके बाद कन्याकुमारी में भारत माता के चरणों में बैठने का अवसर मिला।

यह भी पढ़ें- Delhi Excise Policy Case: बीआरएस नेता के. कविता को नहीं मिल रही राहत, अब इस तारीख तक बढ़ी न्यायिक हिरासत

मेरी आंखें नम हुईं, मैं शून्यता की ओर बढ़ रहा था: पीएम मोदी
उन शुरुआती क्षणों में मेरे मन में चुनाव की आहट गूंज रही थी। रैलियों और रोड शो में देखे अनगिनत चेहरे मेरी आंखों के सामने आ गए। माताओं, बहनों, बेटियों के अथाह प्रेम की वो लहर, उनका आशीर्वाद, उनकी आंखों में मेरे लिए जो विश्वास, वो स्नेह, वो सब मैं आत्मसात कर रहा था। ‘मेरी आंखें नम हुईं, मैं शून्यता की ओर बढ़ रहा था’।

क्षणिक राजनीतिक बहसें, हमले और पलटवार. आरोप-प्रत्यारोप की जो ध्वनियाँ और शब्द थे, वे सब स्वतः ही शून्य हो गये। मेरे मन में अलगाव की भावना और अधिक तीव्र हो गई, मेरा मन बाहरी दुनिया से पूरी तरह अलग हो गया। इतनी बड़ी ज़िम्मेदारियों के साथ ऐसी साधना करना कठिन है। लेकिन कन्याकुमारी की धरती और स्वामी विवेकानन्द की प्रेरणा ने इसे आसान बना दिया।

दोस्तो, कन्याकुमारी की ये जगह हमेशा से मेरे दिल के बहुत करीब रही है। कन्याकुमारी में विवेकानंद रॉक मेमोरियल का निर्माण श्री एकनाथ रानाडे ने करवाया था। मुझे एकनाथजी के साथ बहुत यात्रा करने का अवसर मिला। इस स्मारक के निर्माण के दौरान कुछ समय कन्याकुमारी में रुकना और वहां का भ्रमण करना स्वाभाविक था।

कश्मीर से कन्याकुमारी तक, हर देशवासी के दिल में ये हमारी साझी पहचान हैं। यह वह शक्तिपीठ है जहां मां शक्ति कन्याकुमारी के रूप में अवतरित हुई थीं। इस दक्षिणी सिरे पर, माँ शक्ति ने तपस्या की और भगवान शिव की प्रतीक्षा की जो भारत के उत्तरी सिरे पर हिमालय में रहते थे।

कन्याकूमारी संगम की भूमि है। हमारे देश की पवित्र नदियाँ अलग-अलग समुद्रों में मिलती हैं और यहाँ उन समुद्रों का संगम होता है और यहाँ एक और महान संगम दिखाई देता है – भारत का वैचारिक संगम। विवेकानन्द रॉक मेमोरियल के साथ-साथ संत तिरुवल्लुवर की एक बड़ी प्रतिमा, गांधी मंडपम और कामराजार मणि मंडपम भी है। यहां महान नायकों की विचार धाराएं राष्ट्रीय चिंतन से मिलती हैं। इससे राष्ट्र निर्माण को बहुत बड़ी प्रेरणा मिलती है, भारत एक राष्ट्र है और जो लोग देश की एकता पर संदेह करते हैं, उन्हें कन्याकुमारी की ये धरती एकता का अमिट संदेश देती है।

मित्रों, स्वामी विवेकानंद जी ने कहा था- हर राष्ट्र के पास एक संदेश होता है, पूरा करने के लिए एक लक्ष्य होता है, पहुँचने के लिए एक नियति होती है। हजारों वर्षों से भारत इसी भावना के साथ एक सार्थक उद्देश्य के साथ आगे बढ़ रहा है। भारत हजारों वर्षों से विचार अनुसंधान का केंद्र रहा है। हम जो कमाते हैं उसे कभी भी हमारी व्यक्तिगत पूंजी नहीं माना जाता है और उसे कभी भी वित्तीय या भौतिक दृष्टि से नहीं मापा जाता है। अत: ‘इदं न मम्’ भारत की प्रकृति का सहज एवं स्वाभाविक अंग बन गया है।

भारत के कल्याण से विश्व का कल्याण होता है, भारत की प्रगति से विश्व की प्रगति होती है, हमारा स्वतंत्रता आंदोलन इसका बहुत बड़ा उदाहरण है। 15 अगस्त 1947 को भारत स्वतंत्र हुआ। उस समय दुनिया के कई देश गुलामी में थे। भारत की आजादी से उन देशों को भी प्रेरणा मिली, ताकत मिली, आजादी मिली। वर्तमान में कोरोना के कठिन काल का उदाहरण हमारे सामने है। हालांकि, गरीब और विकासशील देशों के बारे में संदेह व्यक्त किया गया था, तथापि, भारत के सफल प्रयासों ने कई देशों को प्रोत्साहित और समर्थन किया।

देखें यह वीडियो- 

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.