Ovary Health: अंडाशय से जुड़ी ऐसी बातें, जो महिलाओं को जानना है जरुरी

अंडाशय छोटी, अंडाकार आकार की ग्रंथियां होती हैं जो आपके गर्भाशय के दोनों ओर स्थित होती हैं।

406

हम में से अधिकांश को अपने फेफड़ों (Lungs), लीवर (Liver) और हृदय (Heart) के बारे में अच्छी जानकारी है, लेकिन यौन स्वास्थ्य (Sexual Health) एक ऐसी चीज है जिसके बारे में शायद हर कोई नहीं जानता है। यौन स्वास्थ्य एक ऐसा विषय है जिसके बारे में महिलाएं (Women), खासकर महिलाएं अक्सर बात करने से झिझकती हैं। इसी वजह से कई ऐसी अहम बातें हैं जिनके बारे में वह अनजान रहती हैं। जानकारी के अभाव का नतीजा यह होता है कि उन्हें कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

ऐसा ही एक अंग है अंडाशय (Ovaries), जिसके बारे में हम शायद ही ज्यादा जानते हों। यह शरीर का वही हिस्सा है जहां महिला को मां बनाने वाले अंडे पैदा होते हैं। अंडे ही एकमात्र ऐसे जीव हैं जो शुक्राणु के साथ मिलकर बच्चा पैदा कर सकते हैं। आपको अंडाशय से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण बातें जाननी चाहिए। इसलिए आज हम आपको महिलाओं के अंडाशय के बारे में महत्वपूर्ण बातें बताएंगे।

क्या है अंडाशय
अंडाशय महिलाओं के प्रजनन तंत्र का एक हिस्सा हैं जो हार्मोन निर्माण करते हैं और हर महीने एक योग्य अंडाणु उत्पन्न करते हैं। हर महीने, एक अंडाशय एक अंडाणु उत्पन्न करता है, जो गर्भधारण के लिए तैयार होता है। यदि गर्भधारण नहीं होता है, तो मासिक धर्म का प्रक्रिया शुरू होता है।

यह भी पढ़ें- प्रधानमंत्री मोदी को गले लगाकर भावुक हुए मोहम्मद शमी, ट्वीट कर कहा- ‘हम दोबारा जरूर लौटेंगे’

वह प्रक्रिया जब आपके अंडाशय अंडे बना रहे होते हैं, ओव्यूलेशन कहलाती है। अगर आप तनाव में हैं तो इसका भी इस प्रक्रिया पर काफी असर पड़ता है। मतलब, यदि आप वास्तव में बहुत अधिक तनाव में हैं, तो आपके अंडाशय अंडे का उत्पादन बंद कर देंगे।

डॉक्टर को दिखाना हमेशा फायदेमंद
ओवरी में सिस्ट होना काफी आम बात है। सिस्ट यानी अंडाशय में गांठ ज्यादातर मामलों में सिस्ट खतरनाक नहीं होता है। इसे ठीक करने के लिए सर्जरी और दवाइयां मौजूद हैं। इनमें से कई सिस्ट तीन से चार महीनों के भीतर अपने आप ठीक हो जाते हैं। इसलिए घबराने की जरूरत नहीं है। हालांकि, इसका मतलब यह नहीं है कि आपको डॉक्टर से सलाह नहीं लेनी चाहिए। डॉक्टर को दिखाना हमेशा फायदेमंद होता है।

अंडाशय का आकार कम होना चिंता का विषय नहीं
शरीर के अधिकांश अंगों का आकार उम्र के साथ स्थिर रहता है, लेकिन अंडाशय हमेशा बदलते रहते हैं। इनका आकार उम्र के साथ और पीरियड्स के दौरान अलग-अलग होता है। जब वे अंडे बना रहे होते हैं, तो उनका आकार लगभग पांच सेंटीमीटर बढ़ जाता है। वहीं, ओवरी में सिस्ट या गांठ होने पर भी इसके आकार में अंतर आ जाता है। हालांकि, अंडाशय का आकार कम होना चिंता का विषय नहीं है। रजोनिवृत्ति के साथ, इसका आकार बदलना बंद हो जाता है और यह उल्टा सिकुड़ जाता है।

गर्भनिरोधक गोलियां अंडाशय के लिए बहुत फायदेमंद
यह आपको अजीब लग सकता है, लेकिन डॉक्टरों के अनुसार, गर्भनिरोधक गोलियां अंडाशय के लिए बहुत फायदेमंद होती हैं। जी हाँ, ये बिल्कुल सच है। लेकिन ध्यान दें कि यहां हम आपातकालीन गोलियों के बारे में बात नहीं कर रहे हैं, हम गर्भनिरोधक गोलियों के बारे में बात कर रहे हैं। इनके सेवन से ओवेरियन कैंसर होने का खतरा काफी कम हो जाता है।

देखें यह वीडियो- 

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.