गणतंत्र दिवस पर परेड में क्या होगा नया?.. जानिए

गणतंत्र दिवस के मौके पर आयोजित परेड में कई बतलाव देखने को मिलेंगे। परेड में सैन्य शक्ति प्रदर्शन के दौरान कुछ नई नई चीजें देखने को मिलेंगी, जबकि कई पुरानी चीजें नजर नहीं आएंगी।

कोरोना महामारी के मद्देनजर देश की राजधानी दिल्ली में गणतंत्र दिवस के मौके पर आयोजित परेड में कई बतलाव देखने को मिलेंगे। परेड में सैन्य शक्ति प्रदर्शन के दौरान कुछ नई नई चीजें देखने को मिलेंगी, जबकि कई पुरानी चीजें नजर नहीं आएंगी।

ये भी पढ़ेंः ट्रैक्टर रैली पर आया बड़ा निर्णय…जानें 10 पॉइंट्स में

  •  ये शामिल होंगे पहली बार
    फ्रांस से खरीदे गए और वायु सेना में शामिल किए गए राफेल लड़ाकू जेट पहली बार परेड में शामिल किए जाएंगे। यह लोगों के आकर्षण के केंद्र होंगे। बता दें कि कुल 36 में से 11 राफेल भारत को डिलेवर किए जा चुके हैं और इन्हें वायु सेना में शामिल किया गया है।
  • पहली बार महिला फाइटर पायलट हिस्सा लेंगी। भारत की पहली महिला फाइटर पायलटों में से एक फ्लाइट लेफ्टिनैंट भावना कंठ भारतीय वायु सेना की झांकी का हिस्सा होंगी। इसमें हल्के लड़ाकू विमान, हल्के लड़ाकू हेलीकॉप्टर और सुखोई 30 लड़ाकू विमानों को शामिल किया जाएगा।
  • परेड में बांग्ला देश सशस्त्र बलों की एक टुकड़ी भी शामिल होगी। इसमें 122 सैनिक शामिल रहेंगे। इससे पहले 2016 में फ्रांस और 2017 में यूएई गणतंत्र दिवस पर परेड में शामिल हुए थे।
  • राम मंदिर की प्रतिकृति को भी इस बार परेड में शामिल किया जाएगा। उत्तर प्रदेश की झांकी में इसे शामिल किया जाएगा। राम मंदिर का निर्माण अयोध्या में किया जा रहा है।
  • गणतंत्र दिवस पर परेड में सीआरपीएफ की झांकी में जवान युद्ध क्षेत्र में इस्तेमाल किए जानेवाले नाइट विजन गॉगल्स से लैस नजर आएंगे। ऐसे ही उपकरण का उपयोग यूएस नेवी सील ने ओसामा बिन लादेन के खात्मे के लिए किया था। इस गॉगल्स को नाइट विजन के राजा के नाम से भी जाना जाता है। इन विशेष चश्मों से कमांडो को अंधेरे में भी आसानी से लक्ष्य को पहचानने में मदद मिलती है।
  • ये भी पढ़ेंः खान मार्केटवाले ‘वो’ आतंकी तो नहीं?

ये नहीं होेंगे शामिल

  • ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन के भारत नहीं आने की वजह से पांच दशक में पहली बार कोई विदेशी मुख्य अतिथि गणतंत्र दिवस के परेड में हिस्सा नहीं लेंगे। ब्रिटेन में कोराना के नये स्ट्रेन के वायरस मिलने के कारण उन्होंने भारत यात्रा रद्द कर दी है। इससे पहले 1952,1953 और 1966 में परेड में कोई मुख्य अतिथि नहीं थे।
  • परेड में दर्शकों की संख्या भी कम रहेगी। इसे डेढ़ लाख की बजाय मात्र 25 हजार कर दिया गया है। मीडियीकर्मियों की संख्या भी 300 से कम कर मात्र 200 कर दी गई है।
  • पूर्व सैनिकों और महिलाओं की वेटर्न परेड समेत सेना और केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल के सैनिकों द्वारा किए जानेवाले मोटरसाइकिल स्टंट कार्यक्रम को भी इस बार रद्द कर दिया गया है।
  • इस बार परेड केवल इंडिया गेट के सी- हक्सागॉन में नेशनल स्टेडियम तक ही जाएगी। लेकिन झांकी लाल किले तक जाएगी।
  • इंडिया गेट लॉन में 15 वर्ष से कम उम्र के किसी भी बच्चे को प्रवेश की इजाजत नहीं दी जाएगी। इसके साथ ही इस बार स्कूली बच्चे भी परेड नहीं देख पाएंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here