Section 318: जानिए, धारा 318 पहले और अब – इसका महत्व और परिणाम

93
Section 318: जानिए, धारा 318 पहले और अब - इसका महत्व और परिणाम
Section 318: जानिए, धारा 318 पहले और अब - इसका महत्व और परिणाम

Section 318, यूके कंपनियों कानून 2006 में धारा 318 एक महत्वपूर्ण धारा है जो निदेशकों के बीच हिस्सेदारी के बारे में जानकारी का प्रकाशन संरचित करती है। पहले, इस धारा ने निदेशकों को अपनी कंपनी या संबंधित कंपनी के शेयर या डिबेंचर में किसी भी हिस्सेदारी को बोर्ड के अन्य सदस्यों को घोषित करने के लिए सूचित करने की अपेक्षा की थी। इसका मुख्य उद्देश्य निदेशकों के बीच संघर्षों को रोकना और त्रांसपेरेंसी को बढ़ावा देना था।

यह भी पढ़ें-Amarnath Yatra: कड़ी सुरक्षा के बीच 4,885 यात्रियों का 14वां जत्था जम्मू से अमरनाथ रवाना

अब, यह धारा “प्रस्तावित लेनदेन या व्यवस्था में हिस्सेदारी घोषित करने का कर्तव्य” के रूप में जानी जाती है। इसके अनुसार, निदेशकों को बोर्ड को सूचित करने के लिए घोषित करना होता है कि वे किसी प्रस्तावित लेनदेन या व्यवस्था में सीधी या अप्रत्यक्ष रूप से किसी भी हिस्सेदारी में हैं। इससे निदेशकों को अपने व्यक्तिगत लाभ या संघर्षित हितों से प्रभावित होने से बचाया जाता है और कंपनी और उसके हितधारकों के हित में निर्णय लिया जा सकता है।

धारा 318 की यह व्याख्या और प्रासंगिकता दर्शाती है कि इसका महत्व क्यों है और कैसे यह सुनिश्चित करता है कि कंपनी के निदेशक निष्पक्ष और पारदर्शी तरीके से कार्य करते हैं। इसके द्वारा, संघर्षों की संभावना को कम किया जाता है और निदेशकों के निर्णय को उनके पेशेवर दायित्वों के आधार पर लिया जा सकता है।

यह भी देखें-

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.