Matheran: माथेरान का इतिहास, इसके औपनिवेशिक अतीत की खोज

इस ब्लॉग में, हम माथेरान की औपनिवेशिक विरासत की जड़ों का पता लगाते हुए एक ऐतिहासिक यात्रा पर निकलेंगे, जिसमें माथेरान के एक प्रतिष्ठित होटल "एडमो द रिसॉर्ट" पर विशेष ध्यान दिया जाएगा।

84

Matheran: भारत के पश्चिमी घाट में बसा माथेरान एक ऐसा हिल स्टेशन है जो न केवल लुभावनी प्राकृतिक सुंदरता समेटे हुए है, बल्कि इसका समृद्ध इतिहास भी इसके औपनिवेशिक अतीत से जुड़ा हुआ है।

इस ब्लॉग में, हम माथेरान की औपनिवेशिक विरासत की जड़ों का पता लगाते हुए एक ऐतिहासिक यात्रा पर निकलेंगे, जिसमें माथेरान के एक प्रतिष्ठित होटल “एडमो द रिसॉर्ट” पर विशेष ध्यान दिया जाएगा।

यह भी पढ़ें- Unnao bus accident: बिहार के एक ही परिवार के छह सदस्यों की मौत, ऐसा होता तो बच जाती जान

माथेरान की औपनिवेशिक विरासत
माथेरान का इतिहास ब्रिटिश औपनिवेशिक प्रभाव के धागों से बुना गया एक ताना-बाना है। 19वीं शताब्दी में, जब ब्रिटिश अधिकारी और उनके परिवार भारतीय मैदानों की भीषण गर्मी और भीड़भाड़ से राहत चाहते थे, तो माथेरान शांति के नखलिस्तान के रूप में उभरा। इस शांत हिल स्टेशन की खोज 1850 में ठाणे के जिला कलेक्टर ह्यूग पोयंट्ज़ मैलेट ने की थी। ब्रिटिश औपनिवेशिक युग के दौरान, माथेरान ने ब्रिटिश अधिकारियों के बीच तेज़ी से लोकप्रियता हासिल की, जो इसके ठंडे मौसम, हरे-भरे जंगलों और शानदार नज़ारों से आकर्षित थे।

यह भी पढ़ें- Seven Sisters Falls: मेघालय के इस खूबसूरत झरने को आप मिस नहीं कर सकते !

ब्रिटिश अभिजात वर्ग
माथेरान के विकास को आकार देने में ब्रिटिश अभिजात वर्ग ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्होंने आकर्षक कॉटेज बनवाए, रास्ते बनवाए और शहर के अद्वितीय औपनिवेशिक चरित्र में योगदान दिया। माथेरान के औपनिवेशिक इतिहास का सबसे प्रतिष्ठित प्रतीक माथेरान हिल रेलवे है। ब्रिटिश इंजीनियर आदमजी पीरभॉय के मार्गदर्शन में 1907 में निर्मित, यह नैरो-गेज रेलवे आज भी चल रही है। यह प्राचीन जंगलों, घाटियों और सुरम्य पुलों के माध्यम से एक आकर्षक यात्रा प्रदान करता है। 2005 में, माथेरान हिल रेलवे को इसके ऐतिहासिक महत्व को स्वीकार करते हुए यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल के रूप में नामित किया गया था।

यह भी पढ़ें- Supreme Court: तलाकशुदा मुस्लिम महिलाओं के गुजारा भत्ते पर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा आदेश, जानें न्यायलय ने क्या कहा?

ब्रिटिश प्रभाव
ब्रिटिश अभिजात वर्ग ने माथेरान के विकास को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्होंने कॉटेज और बंगले बनवाए, जिनमें से कई आज भी औपनिवेशिक युग की वास्तुकला की भव्यता के प्रमाण के रूप में खड़े हैं। ये संरचनाएं पुरानी दुनिया के आकर्षण को दर्शाती हैं और उस समय के स्वाद और शैली को दर्शाती हैं। ब्रिटिश अधिकारियों ने रास्ते भी बनाए और बुनियादी ढाँचा स्थापित किया जिससे शहर के विभिन्न हिस्सों तक आसानी से पहुँचा जा सके। इस बुनियादी ढाँचे ने माथेरान के अनूठे चरित्र और पहुँच में योगदान दिया है।

यह भी पढ़ें- Nainital Tourist Places: अगर आप नैनीताल जा रहें हैं तो इन पर्यटन स्थलों पर जरूर जाएं

माथेरान हिल रेलवे
माथेरान की औपनिवेशिक विरासत के सबसे प्रतिष्ठित प्रतीकों में से एक माथेरान हिल रेलवे है, जिसे अक्सर “टॉय ट्रेन” के रूप में जाना जाता है। ब्रिटिश इंजीनियर, आदमजी पीरभॉय के मार्गदर्शन में 1907 में निर्मित, यह नैरो-गेज रेलवे अपने समय का एक इंजीनियरिंग चमत्कार था। यह न केवल परिवहन के साधन के रूप में काम करता था, बल्कि माथेरान की प्राकृतिक सुंदरता के लिए प्रशंसा भी दर्शाता था। माथेरान हिल रेलवे का संचालन जारी है, जो आगंतुकों के लिए एक सुंदर और अविस्मरणीय यात्रा प्रदान करता है। रेलवे घने जंगलों, हरी-भरी घाटियों और सुरम्य पुलों सहित आसपास के परिदृश्यों के लुभावने दृश्य प्रस्तुत करता है। अपने ऐतिहासिक और सांस्कृतिक महत्व की मान्यता में, माथेरान हिल रेलवे को 2005 में यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल के रूप में नामित किया गया था।

यह भी पढ़ें- Worli hit-and-run case: बीएमडब्ल्यू हिट एंड रन मामले में शिवसेना ने राजेश शाह को किया निलंबित, एक महिला की हुई थी मौत

माथेरान हिल रेलवे
माथेरान की औपनिवेशिक विरासत के सबसे प्रतिष्ठित प्रतीकों में से एक माथेरान हिल रेलवे है, जिसे अक्सर “टॉय ट्रेन” के रूप में जाना जाता है। ब्रिटिश इंजीनियर, आदमजी पीरभॉय के मार्गदर्शन में 1907 में निर्मित, यह नैरो-गेज रेलवे अपने समय का एक इंजीनियरिंग चमत्कार था। यह न केवल परिवहन के साधन के रूप में काम करता था, बल्कि माथेरान की प्राकृतिक सुंदरता के लिए प्रशंसा भी दर्शाता था।

यह भी पढ़ें-  MUDA Scam: कर्नाटक के सीएम सिद्धारमैया और 9 अन्य के खिलाफ शिकायत दर्ज, जानें क्या है मामला

रेलवे का संचालन
माथेरान हिल रेलवे का संचालन जारी है, जो आगंतुकों के लिए एक सुंदर और अविस्मरणीय यात्रा प्रदान करता है। रेलवे घने जंगलों, हरी-भरी घाटियों और सुरम्य पुलों सहित आसपास के परिदृश्यों के लुभावने दृश्य प्रस्तुत करता है। अपने ऐतिहासिक और सांस्कृतिक महत्व की मान्यता में, माथेरान हिल रेलवे को 2005 में यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल के रूप में नामित किया गया था।

यह वीडियो भी देखें-

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.