महाराष्ट्रः10वीं और 12वीं की ऑनलाइन परीक्षा को लेकर शिक्षा मंत्री ने कही ये बात!

महाराष्ट्र की स्कूली शिक्षा मंत्री वर्षा गायकवाड ने स्पष्ट किया है कि 10वीं और 12वीं की परीक्षा ऑन लाइन नहीं आयोजित की जाएगी।

महाराष्ट्र में कोरोना के बढ़ते आंकड़ों के मद्देनजर राज्य में 10वीं और 12वीं की परीक्षा को लेकर लोगों में यह चर्चा जोरों पर है, कि इस हालत में परीक्षा कैसे आयोजित की जाएगी। लोगों में यह भी चर्चा है कि ये परीक्षा ऑनलाइन ली जा सकती है, लेकिन अब राज्य की स्कूली शिक्षा मंत्री वर्षा गायकवाड ने स्पष्ट किया है कि परीक्षा ऑनलाइन नहीं आयोजित की जाएगी। उन्होने कहा है कि 10 और 12वीं बोर्ड की परीक्षा ऑनलाइन संभव नहीं है, इसलिए राज्य में कोरोना की परिस्थिति को देखते हुए इस बारे में बाद में निर्णय लिया जाएगा।

वर्षा गायकवाड ने कहा कि महाराष्ट्र में 10 और 12वीं बोर्ड की परीक्षा ऑनलाइन संभव नहीं है। इसका कारण यह है कि आज भी राज्य के दूरजराज इलाकों में इंटरनेट की सुविधा उपलब्ध नहीं है। इसके साथ ही अगर इस तरह का कोई निर्णय लिया जाता है तो इसके लिए विशेष तैयारी करनी होगी। इसमें काफी समय लग सकता है। इस वजह से अगला शैक्षणिक वर्ष शुरू होने में विलंब हो सकता है।

आ सकती हैं कई तरह की अड़चनें
बता दें कि राज्य में 10वीं और 12वीं की परीक्षा में शामिल होनेवेले विद्यार्थियों की संख्या 31 लाख के आसपास है। इस हालत में लैपटॉप, कंप्यूटर या स्मार्टफोन पर ऑनलाइन परीक्षा लेने में अड़चनें आ सकती हैं। इसमें इंटरनेट कनोक्टिविटी की भी समस्या हो सकती है। ग्रामीण क्षेत्र तो छोड़िए, शहरी भागों में भी कई बार इंटरनेट काफी स्लो होने से अनेक तरह की परेशानियां होती हैं। इस हालत में ऑनलाइन परीक्षा आयोजित करने में अनेक तकीनीकी अड़चनें आ सकती हैं।

ये खबर मराठी में भी पढ़ेंः दहावी-बारावीच्या परीक्षा ऑनलाईन नाहीच!

ये भी पढ़ेंः पीएम कर्ज योजना के नाम पर लोगों को फंसाने वाले गैंग का ऐसे हुआ पर्दाफाश!

हाल ही में किया गया है परीक्षा का ऐलान
हाल ही में 10 और 12वीं की परीक्षा की तारीखों का ऐलान किया गया है। उसके अनुसार 12वीं की परीक्षा 23 अप्रैल से 21 मई तक और 10वीं की परीक्षा 29 अप्रैल से 20 मई तक आयोजित करने की घोषणा की गई है। लेकिन मुंबई में स्कूल-कॉलेज अभी भी बंद हैं। हालांकि विद्यार्थियों की पढ़ाई ऑनलाइन शुरू है। लेकिन ग्रामीण इलाके में ऑन लाइन पढ़ाई में अनेक तरह की बाधाएं आती हैं। इस हालत में उनकी पढ़ाई आधी-अधुरी ही हो पाई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here