FIR: नाबालिग बच्चों के अपहरण व तस्करी के मामले में समझौता संभव? Delhi High Court ने की ये टिप्पणी

दिल्ली हाई कोर्ट ने कहा कि अगर गंभीर मामलों में समझौते स्वीकार किए गए तो इसका बच्चों के पुनर्वास पर असर तो पड़ेगा ही। ये बच्चों के अधिकारों और उनकी गरिमा के खिलाफ होगा।

542
Delhi Waqf Board
दिल्ली वक्फ बोर्ड संपत्ति का मालिक नहीं, सिर्फ संरक्षक

दिल्ली उच्च न्यायालय(Delhi High Court )ने एक महत्वपूर्ण फैसले में कहा है कि नाबालिग बच्चों के अपहरण और उनकी तस्करी के मामले(Cases of kidnapping and trafficking of minor children) समझौते के जरिये नहीं सुलझाए जा सकते हैं। 7 दिसंबर को जस्टिस स्वर्णकांता शर्मा की बेंच ने कहा कि समझौते के आधार पर इन मामलों में दर्ज एफआईआर(FIR) को निरस्त नहीं किया जा सकता है।

माफ नहीं किए जा सकते ऐसे कृत्य
न्यायालय ने कहा कि बच्चों का अपहरण और उनकी तस्करी एक गंभीर अपराध है और इसका समाज पर बुरा प्रभाव पड़ता है। जिन बच्चों का अपहरण होता है, उनके भविष्य और विकास पर असर होता है। कोर्ट ने एक नाबालिग बच्ची के माता-पिता की ओर से किए गए समझौते पर गौर करते हुए कहा कि ऐसे कृत्य को माफ नहीं किया जा सकता, क्योंकि बच्ची कोई वस्तु नहीं है। ऐसा करना न्याय के सिद्धांत के खिलाफ है। कोर्ट ने कहा कि ऐसे समझौते न तो नैतिक रूप से स्वीकार्य हैं और न ही कानूनी रूप से।

Maharashtra: जानिये, नवाब मलिक को लेकर अजीत पवार को लिखे फडणवीस के पत्र में है क्या?

ये बच्चों के अधिकारों और उनकी गरिमा के खिलाफ
कोर्ट ने कहा कि अगर ऐसे समझौते स्वीकार किए गए तो इसका बच्चों के पुनर्वास(Rehabilitation of children) पर असर तो पड़ेगा ही। ये बच्चों के अधिकारों और उनकी गरिमा के खिलाफ होगा। इससे ऐसी परिपाटी को बल मिलेगा, जो कानून और न्याय के अनुरूप नहीं है।

यह है मामला
दरअसल, एक तीन वर्षीय नाबालिग बच्ची के अपहरण के मामले में हाई कोर्ट में याचिका दायर दोनों पक्षों के बीच हुए समझौते के आधार पर एफआईआर(FIR) निरस्त करने की मांग की गई थी। कोर्ट ने कहा कि सरकार और कोर्ट को अपने फैसलों के जरिये ऐसे मामलों में एक मजबूत संदेश देना चाहिए ताकि बच्चों के लिए एक सुरक्षित वातावरण बन सके।

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.