Maharashtra: जानिये, नवाब मलिक को लेकर अजीत पवार को लिखे फडणवीस के पत्र में है क्या?

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी नेता नवाब मलिक को लेकर महागठबंधन में विवाद पैदा होने के आसार दिख रहे हैं।

1101

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी विधायक(Nationalist Congress Party MLA) और महाराष्ट्र के पूर्व मंत्री नवाब मलिक(Former minister Nawab Malik) ने 7 दिसंबर को शीतकालीन सत्र(winter session) के मौके पर विधानसभा की कार्यवाही(Assembly proceedings) में हिस्सा लिया। इस समय, इस बात पर बहस हुई कि वे हॉल में कहां बैठेंगे। लेकिन अंततः उन्होंने सत्तारूढ़ विधायकों के साथ बैठने का फैसला किया। इसके बाद विधान परिषद में प्रतिक्रिया शुरू हो गई। विपक्षी  नेता अंबादास दानवे ने सवालिया निशान खड़ा कर उप मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस (Deputy Chief Minister Devendra Fadnavis) पर आरोप लगाया, लेकिन फडणवीस ने दानवे के आरोप को खारिज कर दिया। अब फडणवीस ने उपमुख्यमंत्री अजीत पवार को पत्र लिखा है और इस मुद्दे पर विस्तार से अपना पक्ष रखा है।

सत्ता से ज्यादा महत्वपूर्ण देशः फडणवीस
फडणवीस ने पत्र में लिखा है, “सत्ता आती है और जाती है। लेकिन सत्ता से ज्यादा महत्वपूर्ण देश है।” फडणवीस ने यह पत्र ट्विटर और फेसबुक पर पोस्ट किया है। उपमुख्यमंत्री अजीत पवार(Deputy Chief Minister Ajit Pawar) को लिखे पत्र में फडणवीस ने कहा है, ”पूर्व मंत्री और विधानसभा सदस्य नवाब मलिक विधानमंडल परिसर आये और कार्यवाही में भाग लिया। विधान सभा सदस्य के रूप में उन्हें भी यह अधिकार प्राप्त है। मैं शुरू में ही स्पष्ट कर दूं कि हमारी उनसे कोई व्यक्तिगत दुश्मनी या शिकायत नहीं है। लेकिन, जिस तरह से उन पर आरोप लगाए गए हैं, उसे देखते हुए हमारी राय है कि उन्हें महागठबंधन में लेना उचित नहीं होगा।”

IT Raid: आयकर विभाग ने की बड़ी कार्रवाई, कांग्रेस सांसद के ठिकानों पर मारा छापा

“फिलहाल वे सिर्फ मेडिकल आधार पर जमानत पर बाहर हैं। अगर उन पर लगे आरोप साबित नहीं हुए तो हमें उनका स्वागत करना चाहिए। हालांकि, हमारी स्पष्ट राय है कि ऐसे आरोप लगने पर उन्हें महागठबंधन का हिस्सा बनाना ठीक नहीं है। बेशक, यह चुनना पूरी तरह हमारा अधिकार है कि किसे हमारी पार्टी में शामिल करना है। हालांकि, हर घटक दल को यह सोचना होगा कि इससे महागठबंधन में कोई बाधा नहीं आएगी, इसलिए हम इसके खिलाफ हैं।”

देवेन्द्र फडणवीस ने आगे लिखा, ”अगर उन्हें देशद्रोहियों से संबंध रखने के आरोप में गिरफ्तार भी कर लिया जाए, तो भी मंत्री बनाए रखने के हम तत्कालीन मुख्यमंत्री और महा विकास आघाड़ी सरकार के विचारों से सहमत नहीं हो पाएंगे,  मुझे आशा है कि आप हमारी भावनाओं पर ध्यान देंगे।”

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.