इसलिए ये मुंबई मनपा का चुनावी बजट!

मुंबई मनपा का बजट पेश किया गया है। इस बार का बजट ऐतिहासिक बजट है। यह देश के छह राज्यों के बजट से बड़ा है।

119

महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई का प्रबंधन संभालनेवाली मुंबई महानगर पालिका का बजट पेश किया गया। मनपा आयुक्त ने 39,038.83 करोड़ रुपए का बजट पेश किया। यह बजट अब तक की सबसे बड़ी राशि का है। मनपा महामारी की मार झेल रही है, राजस्व तेजी से गिरा है। इन सबको किनारे करते हुए इस बजट में साढ़े पाच हजार करोड़ रुपए की बढ़ोतरी का बजट पेश किया।

दो दिन पहले केंद्रीय बजट पर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने प्रतिक्रिया दी थी। उन्होंने कहा था कि, बजट देश का होना चाहिए न कि चुनावों का। लेकिन इसके 48 घंटे बाद शिवसेना जिस मनपा में 30 वर्षों से सत्ता में है उसका बजट पेश किया गया। जिसे मुख्यमंत्री और उनके पुत्र आदित्य ठाकरे के मन की बात वाला बजट कहा जा रहा है। दिवालिया होने की राह पर पहुंच चुकी मुंबई महानगर पालिका के आयुक्त ने दिल खोलकर खर्च को शामिल किया है जबकि आमदनी की राह में कोई प्रयत्न नहीं किया गया है। इस बजट में सीएम उद्धव ठाकरे और पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे की योजनाए साफ दिख रही हैं।

ये भी पढ़ें – महाराष्ट्र : शर्जील की गिरफ्तारी… जानिये पूरी खबर

मत्स्यालय व सागरी संशोधन केंद्र
वरली डेयरी के स्थान पर विश्वस्तर का मत्स्यालय और सागरी संशोधन केंद्र निर्मित किया जाएगा। इसके लिए राज्य सरकार निधि देगी और मुंबई मनपा के माध्यम से परियोजना पूर्ण की जाएगी।

मुंबई के लिए एक विकास प्राधिकरण
शहर में मुंबई महानगर पालिका के अतिरिक्त एमएमआरडीए, म्हाडा, एमआईडीसी, एसआरए और बीपीटी भी स्वतंत्र प्रबंधन व विकास कार्य करती हैं। इन पर मुंबई मनपा का कोई अधिकार नहीं है जबकि इन एजेंसियों के विकास कार्यों के लिए पानी, बिजली, सीवेज सुविधा, कचरा व्यवस्थापन समेत आधारभूत सुविधाएं मनपा उपलब्ध कराती है। इसलिए शहर में मुंबई मनपा यह एक ही विकास प्राधिकरण होना चाहिए।

मुंबई को मिलेगा एक और वॉर्ड
मालाड के पी-उत्तर विभाग को पूर्व व पश्चिम विभाग में बांटा जाएगा। इसके पीछे जनसंख्या को कारण बताया जा रहा है। अप्रैल से इस पर अमल किया जाएगा। इसके अलावा एल विभाग और के पूर्व विभाग का विभाजन हो सकता है।

ये भी पढ़ें – ‘पाप’ सिंगर पर सोशल वॉर!… जानिए पूरी खबर

शहर के सैंदर्यीकरण पर जोर
शहर के सभी विभागों के सहायक आयुक्त से बगीचे व पद पथों के लिए मूलभूत सुविधा उपलब्ध कराने के लिए प्रस्ताव मंगाए गए हैं। इसके अंतर्गत पांच उद्यान, पांच पद पथ, पांच मार्गों, पांच उड़ान पुल को शामिल करके 10 कार्यों की जानकारी मंगाई गई है। इसके प्रबंधन की जिम्मेदारी संबंधित सहायक आयुक्त की होगी। इसके अनुसार उड़ान पुल की रंगाई, उसके नीचे के भंगार की सफाई करके खेल के उपकरण लगवाने का कार्य किया जाएगा। ये कार्य 31 दिसंबर तक पूरे किये जाएंगे।
65 मार्गों पर स्ट्रीट फूड वेंडिंग स्टॉल्स भी लगाए जाएंगे। सायंकाल के 6 बजे से रात 11 बजे तक चिन्हित मार्गों पर गाड़ी लगाकर व्यवसाय किया जा सकेगा।

बिड़ला क्रीडा केंद्र का विकास
मराठी रंगभूमि के रूप में विकसित करने के लिए बिड़ला क्रीडा केंद्र पर 175 करोड़ रुपए खर्च किये जाएंगे।

ये भी पढ़ें – पश्चिम बंगाल : भाजपा की रथ यात्रा पर लगा ब्रेक?

शहर में डिब्बावाला भवन
डिब्बावालों के लिए शहर में भवन का निर्माण किया जाएगा। इसके लिए बजट में एक करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया है।

मीठी नदी का पुनर्जीवन
मीठी नदी को पुनर्जीवित करने के लिए 3,162 करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया है।

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.