Ayodhya: 51 घाटों पर दीपों को सजाने का कार्य प्रारंभ, जानिये जलाए जाने हैं कितने दीये

944

प्रान्तीयकृत दीपोत्सव को एतिहासिक बनाने के लिए जय श्रीराम के उद्घोष के साथ राम की पैड़ी व चौधरी चरण सिंह के 51 घाटों पर वालंटियर्स द्वारा दीपों को सजाने का कार्य डाॅ. राममनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय प्रशासन ने शुरू किया। उत्तर प्रदेश शासन द्वारा निर्धारित 21 लाख दीप प्रज्ज्वलित किए जाने के लक्ष्य को लेकर वालंटियर्स द्वारा 24 लाख से अधिक दीप प्रज्ज्वलित किए जायेंगे।

विवि की कुलपति प्रोफेसर प्रतिभा गोयल के कुशल प्रबंधन में प्रान्तीयकृत दीपोत्सव मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मंशानुरूप भव्य बनाया जाएगा। 25 हजार से अधिक वालंटियर्स दीपोत्सव में पुनः विश्व रिकार्ड स्थापित करेंगे। 8 नवंबर की देर शाम तक सभी घाटों पर वालंटियर्स द्वारा 60 से 70 प्रतिशत दीपों को पर्यवेक्षकों, घाट प्रभारी, घाट समन्वयकों की निगरानी में बिछाया गया।

सुरक्षा का पुख्ता इंतजाम
विवि प्रशासन द्वारा दीपोत्सव को आलौकिक बनाने के लिए समस्त समन्वयकों व वालंटियर्स को दीयों, बाती, कैंडल एवं अन्य सामग्री का निर्धारण सुनिश्चित किया जा चुका है। दीपोत्सव स्थल पर दीपोत्सव से संबंधित जिम्मेदारियों का निवर्हन करने वाले पदाधिकारियों का प्रवेश अनुमन्य होगा। विवि प्रशासन एवं जिला प्रशासन द्वारा जारी किए गए पहचान-पत्र के साथ ही दीपोत्सव स्थल पर वालंटियर्स एवं अन्य का प्रवेश होगा। इसके अतिरिक्त इन्हें दीपोत्सव पहचान-पत्र के साथ आधार कार्ड लाना अनिवार्य होगा। वालंटियर्स द्वारा दीयों को प्रज्ज्वलित करने के लिए 2.5 फीट का तथा 16 गुणे 16 दीयों (256) के ब्लाक के लिए 4.50 गुणे 4.50 वर्ग फीट का स्पेस निर्धारित किया गया है। इसी तरह 14 गुणे 14 का भी ब्लाक बनाया गया है। इन्हीं ब्लाकों के दीयों को वालंटियर्स द्वारा जलाया जायेगा।

 24 एमएल होगी दीयों की साइज
दीपों में प्रयुक्त होने वाले दीयों की साइज 24 एमएल की होगी। इसमें 25 से 30 एमएल सरसों का तेल वालंटियर्स द्वारा डाला जायेगा। 09 नवम्बर तक वालंटियर्स द्वारा घाट प्रभारी की देखरेख में सभी घाटों पर दीपों को बिछाने का कार्य होगा। 10 नवम्बर को दीपों के सजाने व लक्ष्य प्राप्ति के बाद घाटों की साफ-सफाई व गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड टीम द्वारा दीयों की गणना की जायेगी। विवि प्रशासन द्वारा तेल की बर्बादी को रोकने के लिए दीयों में तेल डालने के लिए एक-एक लीटर की बोतल की आपूर्ति की जायेगी। वालंटियर्स द्वारा 30 एमएल तेल डाले जायेंगे। इसके लिए उन्हें प्रशिक्षित किया गया है। वालंटियर्स एवं घाट प्रभारियों को दीपोत्सव के दिन सूती कपड़ों में रहना होगा। दीपों को प्रज्ज्वलित करते समय स्वयं के साथ अन्य का भी ध्यान रखना होगा।

राम के पैड़ी के लिए बसें होती हैं रवाना
दीपोत्सव नोडल अधिकारी प्रोफेसर संत शरण मिश्र ने बताया कि दीपोत्सव की तैयारियों को लेकर वालंटियर्स एवं अन्य पदाधिकारियों को अवगत करा दिया गया है। विश्वविद्यालय से वालंटियर्स के लिए दीपोत्सव तक बसों को इंतरजाम किया गया है। प्रतिदिन बसें विश्वविद्यालय में प्रातः 8 बजे से राम की पैड़ी के लिए रवाना की जा रही हैं। इसमें आवासीय परिसर, सम्बद्ध महाविद्यालयों, इण्टर काॅलेजों एवं स्वयंसेवी संस्थाएं शामिल हैं।

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.