Lok Sabha Election 2024: चुनाव प्रचार के दौरान इन नेताओं की फिसली जुबान, सोशल मीडिया पर बने मजाक

चुनाव में नेताओं की अपील काफी मायने रखती है। मतदाता को कब कौन-सी बात पसंद आ जाए और कौन-सी बात उसका मन बदल दे, यह कहना मुश्किल है।

103

– अमन दुबे

देश में लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Elections) होने में अब कुछ ही दिन बचे हैं। ऐसे में सत्ता पक्ष (Ruling Party) और विपक्ष (Opposition) एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप लगाते नहीं थक रहे हैं। अलग-अलग राज्यों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi), राहुल गांधी (Rahul Gandhi) और कई अन्य नेता अपनी पार्टी के उम्मीदवारों के लिए प्रचार में जुटे हुए हैं। जहां पीएम मोदी की बयानबाजी से भाजपा उम्मीदवार की जीत की गारंटी बढ़ जाती है, वहीं विपक्षी नेताओं द्वारा दिए गए भाषण उनके उम्मीदवार की जीत की गारंटी कम कर देती है।
चुनाव प्रचार के बीच फिसलती जुबान

चुनाव में नेताओं की अपील काफी मायने रखती है। मतदाता को कब कौन-सी बात पसंद आ जाए और कौन-सी बात उसका मन बदल दे, यह कहना मुश्किल है। मतदाताओं से अपील करने के लिए अक्सर स्टार प्रचारकों का इस्तेमाल किया जाता है। वह कोई कलाकार, पार्टी का कोई बड़ा चेहरा या किसी बड़े नेता के परिवार का सदस्य हो सकता है। ऐसे ही एक स्टार प्रचारक हैं कांग्रेस सांसद और नेता राहुल गांधी। इंटरनेट से लेकर उनकी सभा तक लोग उनकी स्पीच सुनने का बेसब्री से इंतजार करते हैं। हर किसी का ध्यान इस बात पर रहता है कि वह क्या कहते हैं और क्या कुछ ऐसा कहते हैं,जिसके कारण वे हंसी के पात्र बन जाते हैं।

यह भी पढ़ें- Delhi Liquor Scam Case: मनी लॉन्ड्रिंग मामले में न्यायालय ने बढ़ाई केजरीवाल की न्यायिक हिरासत

राहुल की बार-बार फिसल जाती है जुबान
अक्सर देखा गया है कि भाषण देते वक्त राहुल गांधी को खुद नहीं पता होता कि उन्हें क्या बोलना है। मुंबई के दादर स्थित शिवजी पार्क में इंडी गठबंधन की सभा में राहुल ने हिंदू धर्म का जिक्र किया।  उनका कहना है कि वह न तो भाजपा के खिलाफ लड़ रहे हैं और न ही नरेंद्र मोदी के खिलाफ। वे हिंदू धर्म की शक्ति से लड़ रहे हैं। इस पर विवाद हो गया और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसे मुद्दा बनाते हुए कांग्रेस की जमकर आलोचना की। उसके बाद कुछ दिन पहले राहुल गांधी अपने शक्ति वाले बयान पर सफाई देते समय भी गड़बड़ कर गए। उन्होंने दिल्ली स्थित कांग्रेस मुख्यालय के बाहर आकर मीडिया से कहा कि उनकी लड़ाई असुरा शक्ति से है। नफरत भरी असुरा शक्ति से लड़ाई है, जबकि सही शब्द असुरा नहीं, आसुरी शक्ति है।

मल्लिकार्जुन ने राहुल को बता दिया हुतात्मा!
कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे राजनीति में काफी मशहूर हैं। वह कई बड़े फैसले लेने के लिए जाने जाते हैं। आजकल उनका एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। जिसमें उन्होंने राहुल गांधी को हुतात्मा तक कह दिया। इसे लेकर भाजपा खूब मजाक उड़ा रही है। भाषण देते वक्त मल्लिकार्जुन खड़गे की जुबान फिसल गई और उन्होंने अपने भाषण में कहा कि राहुल गांधी जैसे नेताओं ने देश की एकता के लिए अपनी जान कुर्बान कर दी। लेकिन भाजपा इस वीडियो का मजाक उड़ाकर सोशल मीडिया पर खड़गे को जमकर ट्रोल कर रही है।

370 पर क्या बोल गए खड़गे?
मल्लिकार्जुन खड़गे ने राजस्थान में कहा कि धारा 370 हटने से यहां क्या फर्क पड़ता है? अगर कोई पार्टी कहती है कि कश्मीर के एकीकरण से दूसरे राज्यों में क्या फर्क पड़ता है तो साफ है कि कांग्रेस को कोई फर्क नहीं पड़ता। इस बयान पर भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता सुधांशु त्रिवेदी ने आरोप लगाया कि देश की एकता और अखंडता के लिए सभी ने जो शपथ ली है, उसका सम्मान करें। अमित शाह ने खड़गे की टिप्पणी को ‘शर्मनाक’ बताते हुए कांग्रेस पर निशाना साधा।

महिला कांग्रेसी नेता ने पूछा मंडी का भाव
बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत को हाल ही में केंद्र की सत्ताधारी पार्टी भाजपा ने हिमाचल प्रदेश के मंडी से लोकसभा का टिकट दिया है, जिसके बाद कांग्रेस की राष्ट्रीय प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत के इंस्टाग्राम अकाउंट से एक आपत्तिजनक पोस्ट किया गया, उस पोस्ट में कंगना के फोटो पर लिखा था कि’क्या भाव चल रहा है मंडी में कोई बताएगा?’ उनकी इस पोस्ट पर काफी विवाद हो गया और लोगों ने इसका जमकर विरोध किया। भाजपा नेताओं से लेकर आम लोगों तक ने सुप्रिया श्रीनेत के खिलाफ केस दर्ज करने की मांग की। हालांकि, हंगामे के बाद सुप्रिया श्रीनेत ने न सिर्फ अपना पोस्ट हटा दिया बल्कि ये भी कहा कि ‘मैंने वो पोस्ट नहीं किया है, एक महिला होने के नाते मैं कैसे ये सब लिख सकती हूं।’

लालू यादव का विवादास्पद बयान
राजद नेता लालू प्रसाद यादव की बात करें तो उनका राजनीतिक सफर सिर्फ यहीं तक सीमित है कि कैसे उन्होंने अपने बच्चों को राजनीति में आगे बढ़ाया और कैसे बिहार की जनता को हंसाया। हाल ही में बिहार में इंडी गठबंधन की एक रैली में लालू प्रसाद यादव ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के परिवार को लेकर विवादित टिप्पणी कर दी। उन्होंने पीएम पर निजी हमला बोलते हुए कहा, “अगर नरेंद्र मोदी के पास अपना परिवार नहीं है तो हम कुछ नहीं कर सकते। पीएम मोदी को बताना चाहिए कि उनके पास परिवार क्यों नहीं है।” लालू यादव ने यहां तक कहा कि उन्हें बताना चाहिए कि नरेंद्र मोदी के बच्चे क्यों नहीं हैं।

देश के 140 करोड़ लोग मेरा परिवारः पीएम मोदी
लालू का यह बयान लोकसभा चुनाव में इंडी गठबंधन के नेताओं को महंगा पड़ा। इस टिप्पणी का भाजपा समेत देश की आम जनता ने कड़ा विरोध किया था। प्रधानमंत्री मोदी ने भी एक रैली में इस आरोप का जवाब दिया और कहा, ”मैं विपक्ष के भाई-भतीजावाद पर सवाल उठाता हूं, इसलिए अब ये लोग कहने लगे हैं कि मोदी का कोई परिवार नहीं है। मैं उन्हें बताना चाहता हूं कि 140 करोड़ देशवासी मेरा परिवार हैं।” ‘इसके बाद से भाजपा ने सोशल मीडिया पर ‘मोदी का परिवार’ कैंपेन भी चलाया, जिससे कई आम लोग भी जुड़ गए। (Lok Sabha Election 2024)

नीतीश कुमार की भी फिसल गई जुबान
जुबान फिसलने के क्रम में बिहार के सीएम नीतीश कुमार भी शामिल हैं। बता दें कि पीएम मोदी की जनसभा में नीतीश कुमार की जुबान फिसल गई। उन्होंने कहा कि यह मेरे कार्यकाल का 18वां साल है, जबकि प्रधानमंत्री का दसवां साल है। यह आगे भी जारी रहेगा। पांच साल तक कोई दिक्कत नहीं है। हमें पूरी उम्मीद है कि चार हजार से ज्यादा सांसद हमारे पक्ष में होंगे। दरअसल वह चार सौ से ज्यादा सांसदों की जीत के बारे में बात करना चाहते थे। लेकिन जोश में चार हजार बोल गए।

बता दें कि देश में 7 चरणों में वोटिंग होगी, पहला चरण 19 अप्रैल को, दूसरा 26 अप्रैल को, तीसरा 7 मई को, चौथा 13 मई को, पांचवां 20 मई को, छठा 25 मई को, जबकि सातवां चरण जून 1 को होगा। वोटों की गिनती 4 जून को होगी। (Lok Sabha Election 2024)

देखें यह वीडियो- 

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.