Uttarakhand: पांचों सीटों को लेकर अमित शाह ने कही बड़ी बात

अमित शाह ने स्थानीय राजनैतिक घटनाक्रम और उसके संदर्भ में संगठनात्मक सक्रियता की जानकारी ली। उन्होंने आह्वान किया कि इस समय सभी लोगों को कड़ी मेहनत करनी है और आम जन तक पहुंचकर उन्हे कल्याणकारी योजनाओं तक लाभांवित करने के अलावा जानकारी देना है।

57

केंद्रीय सहकारिता एवं गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने कहा कि उत्तराखंड (Uttarakhand) की पांचों सीट पर भाजपा (B J P) रिकॉर्ड मतों से परचम लहराएगी। केन्द्र की तरह राज्य की धामी सरकार बेहतर कार्य कर रही है और सांगठनिक प्रयास से निश्चित रूप से लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Elections) में जनता तीसरी बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi)को कमान सौंपने जा रही है।

अमित शाह ने 07 अक्टूबर की देर सायं पार्टी मुख्यालय बलवीर रोड पर आयोजित मीडिया एवं सोशल मीडिया की बैठक को संबोधित करते हुए यह बातें कही। इस दौरान उन्होंने कार्यकर्ताओं को प्रचार के तमाम माध्यमों का सदुपयोग करते हुए जरूरी टिप्स दिये।

पार्टी पदाधिकारियों से लिया फीडबैक
उन्होंने बैठक में प्रतिभाग कर रहे सभी पार्टी पदाधिकारियों से राज्य और केन्द्र सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं के जनता में प्रभाव को लेकर विस्तृत जानकारी ली। उन्होंने सोशल मीडिया और अन्य जनसंचार माध्यमों से केंद्र और राज्य सरकार की जन कल्याणकारी योजनाओं जनता तक इन तमाम योजनाओं को पहुंचाकर, देश में सकारात्मक और उत्साहपूर्ण माहौल को और अधिक प्रभावी तरीके स्थापित करने पर बल दिया।

लोकसभा की सभी सीटें जीतने का दिया लक्ष्य
अमित शाह ने स्थानीय राजनैतिक घटनाक्रम और उसके संदर्भ में संगठनात्मक सक्रियता की जानकारी ली। उन्होंने आह्वान किया कि इस समय सभी लोगों को कड़ी मेहनत करनी है और आम जन तक पहुंचकर उन्हे कल्याणकारी योजनाओं तक लाभांवित करने के अलावा जानकारी देना है। जिससे राज्य की सभी पांचों लोकसभा सीटों को जीतकर नरेंद्र मोदी को लगातार तीसरी बार देश की बागडोर सौंपने के लक्ष्य को पूरा किया जाए। उन्होंने मुख्यमंत्री पुष्कर धामी की तारीफ करते हुए कहा कि केंद्र की तरह प्रदेश में धामी सरकार बेहतर कार्य कर रही है। केंद्र और राज्य सरकार के विकास से जुड़ी जन कल्याणकारी योजनाओं को आमजन को जानकारी दें। जिससे अधिक से अधिक पात्र लाभार्थियों को लाभ मिल सके।

इस मौके पर प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र भट्ट ने संगठन की अब तक की गतिविधियों का लेखा जोखा प्रस्तुत किया। उन्होंने कहा कि विभिन्न संगठनात्मक कार्यक्रमों के माध्यम से हमने केंद्र और राज्य के कामों को बूथ एवं पन्ना स्तर तक प्रचारित किया है।

यह भी पढ़ें – Indian Air Force Day 2023: 8 अक्टूबर को ही क्यों मनाया जाता है भारतीय वायुसेना दिवस? जानिए, इतिहास और महत्व

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.