बिहार : नीतीश मंत्रिमंडल में ऐसे घटेगा मंत्रियों का बोझ!

बिहार सरकार के मंत्रीमंडल विस्तार की प्रतीक्षा नेता ही नहीं बल्कि विपक्ष को भी थी। इसमें जितनी देर हो रही थी उतनी ही गठबंधन में अनबन की खबरें प्रबल हो रही थीं। इस मु्द्दे पर नीतीश कुमार ने भी भाजपा की सूची न मिलने के कारण मंत्रीमंडल विस्तार में देरी की बात कई बार कह चुके हैं।

115

नीतीश कुमार के मंत्रीमडल में नए मंत्री शामिल होंगे। इसको लेकर बहुत समय से विवाद जैसी स्थिति बनी हुई थी। इसमें विपक्ष ने भी हमला जारी रखा हुआ है। लेकिन अब गठबंधन के दलों में सहमति बन गई है।

नीतीश के साथ 14 विधायकों ने मंत्रीपद की शपथ ली थी। जबकि 24 मंत्रियों का स्थान रिक्त है। मंत्रियों की पूरी संख्या न भरने के कारण एक-एक मंत्री के पास कई विभागों की जिम्मेदारी थी। मंत्रीमंडल विस्तार को लेकर विपक्ष बार-बार आरोप लगाता रहा है कि नीतीश मंत्रिमंडल में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है।

ये भी पढ़ें – ‘आंदोलन जीवी’ ‘एफडीआई’ से सावधान पीएम का क्या है संकेत?

इनको मिल सकता मंत्रिपद
भाजपा से विधान परिषद सदस्य बने शाहनवाज हुसैन, सम्राट हुसैन, नितिन नवीन, संजीव चौरसिया, संजय सरावगी, भागीरथी देवी और नीरज बबलू भी मंत्री बन सकते हैं। जबकि जनता दल युनाइटेड से मदन साहनी, नीरज कुमार, जयंत कुशवाहा, सुमित सिंह, संजय झा, जामा खान का नाम आगे चल रहा है।

ये भी पढ़ें – क्रिकेट मैच का अब ‘नभ’ से शूट

वर्तमान में किसके कितने मंत्री 
16 नवंबर, 2020 को नीतीश कुमार समेत 14 विधायकों ने मंत्रीपद की शपथ ली थी।  इसमें मेवालाल चौधरी ने इस्तीफा दे दिया था। इसके बाद भारतीय जनता पार्टी के 7 मंत्री, जनता दल युनाइटेड के 4, हिंदुस्थानी अवाम मोर्चा और विकासशील पार्टी के एक-एक मंत्री हैं।

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.