Punjab: रेल रोको आंदोलन से फंसे हजारों यात्री, 80 ट्रेनें, 100 ट्रेनों के रूट बदले

29सितंबर से 80 से अधिक ट्रेनों को रद्द कर दिया गया है। 100 से अधिक का रूट बदला गया है।

152
फाइल चित्र

पंजाब (Punjab) में किसान-मजदूर संगठनों (farmer-labor organizations) ने रेल रोको आंदोलन के दूसरे दिन 29 सितंबर को  19 जत्थेबंदियों ने 17 जगह ट्रैक जाम कर दिया है। ट्रेनों का चक्का जाम होने से हजारों यात्री पंजाब के रेलवे स्टेशनों में फंस गए हैं। 28 सितंबर को 60 ट्रेनें प्रभावित हुई थीं। 29सितंबर से 80 से अधिक ट्रेनों को रद्द (cancelled) कर दिया गया है। 100 से अधिक का रूट बदला (route changed) गया है।

30 सितंबर तक जारी रहेगा आंदोलन
किसान-मजदूर मोगा रेलवे स्टेशन, अजीतवाल व डगरू, होशियारपुर, गुरदासपुर व डेरा बाबा नानक, जालंधर कैंट, तरनतारन, संगरूर के सुनाम, पटियाला के नाभा, फिरोजपुर के बसती टैंकां वाली व मल्लांवाला, बठिंडा के रामपुरा फूल, अमृतसर के देवीदासपुरा व मजीठा, फाजिल्का, मलेरकोटला के अहमदगढ़ में ट्रैक पर जमा हैं। रेल रोको आंदोलन (Rail Roko movement) 30 सितंबर तक जारी रहेगा।

इन रूटों पर रेल यातायात ठप
इस वजह से दिल्ली से अमृतसर, पठानकोट से अमृतसर और पंजाब से चंडीगढ़, जालंधर, लुधियाना से मोगा, फिरोजपुर, फाजिल्का आदि में रेल यातायात ठप है। किसानों का कहना है कि बाढ़ और बरसात से फसलों को भारी नुकसान हुआ है। इसलिए कम से कम प्रति एकड़ 50 हजार रुपये मुआवजा किसानों को दिया जाए। केंद्र बाढ़ से हुए नुकसान की भरपाई के लिए 50 हजार करोड़ रुपये पंजाब को दे।

अमृतसर-नई दिल्ली शताब्दी को लुधियाना से चलाया गया, जबकि अमृतसर नंदेड़ सच्चखंड एक्सप्रेस को अंबाला से चलाया गया। इसी प्रकार शान-ए-पंजाब को लुधियाना से रवाना किया गया। अमृतसर-नई दिल्ली सुपरफास्ट को रद्द कर दिया गया है।

यह भी पढ़ें – कनाडाई PM Trudeau की निकली हेकड़ी, भारत से संबंधों की जताई प्रतिबद्धता, जानें कारण

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.