Maldives: आखिर मालदीव अपनी औकात में आया, भारत सरकार से लगाई यह गुहार

भारत और मालदीव के साझा इतिहास पर जोर देते हुए पर्यटन मंत्री इब्राहिम फैसल ने कहा कि नवनिर्वाचित सरकार भारत के साथ काम करना चाहती है।

332

Maldives: भारत और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणियों (derogatory comments) के बाद तनावपूर्ण द्विपक्षीय संबंधों (strained bilateral relations) के बीच, मालदीव के एक मंत्री ने भारतीयों से “उनके पर्यटन का हिस्सा बनने” का आग्रह किया है क्योंकि उनकी अर्थव्यवस्था “इस पर निर्भर करती है”। भारत और मालदीव के साझा इतिहास पर जोर देते हुए पर्यटन मंत्री इब्राहिम फैसल (Ibrahim Faisal) ने कहा कि नवनिर्वाचित सरकार भारत के साथ काम करना चाहती है।

मालदीव के मंत्री ने कहा, ”हमारा एक इतिहास है। हमारी नवनिर्वाचित सरकार भी (भारत के साथ) मिलकर काम करना चाहती है। हम हमेशा शांति और मैत्रीपूर्ण वातावरण को बढ़ावा देते हैं। हमारे लोग और सरकार आने वाले भारतीयों का गर्मजोशी से स्वागत करेंगे। पर्यटन मंत्री के रूप में, मैं भारतीयों से कहना चाहता हूं कि कृपया मालदीव के पर्यटन का हिस्सा बनें। हमारी अर्थव्यवस्था पर्यटन पर निर्भर है।”

यह भी पढ़ें- pro-Palestine Protests: कोलंबिया विश्वविद्यालय ने मुख्य स्नातक समारोह किया रद्द, जानें क्या है फिलिस्तीन कनेक्शन ?

लक्षद्वीप द्वीप समूह की तस्वीरें पोस्ट
मालदीव के तीन अधिकारियों द्वारा अपने एक्स हैंडल पर लक्षद्वीप द्वीप समूह की तस्वीरें पोस्ट करने के बाद भारत और पीएम मोदी पर अपमानजनक टिप्पणी करने के बाद सैकड़ों भारतीयों ने मालदीव जाने की अपनी योजना छोड़ दी थी। जनवरी के बाद से, द्वीप राष्ट्र में आने वाले पर्यटकों की संख्या में 42 प्रतिशत की गिरावट आई है। पिछले साल, जनवरी से मई तक मालदीव जाने वाले भारतीयों की संख्या 73,785 थी, जबकि 2024 में इसी समय के दौरान 42,638 थी।

यह भी पढ़ें- Lok Sabha Elections: “भ्रष्टाचार में पार्टनर हैं कांग्रेस-बीआरएस, राजकुमारी जेल में तो सोनिया, राहुल…!” सीएम धामी ने साधा निशाना

मालदीव पर्यटन
4 मार्च को द्वीप राष्ट्र के पर्यटन मंत्रालय द्वारा जारी एक दैनिक रिपोर्ट के अनुसार, मालदीव पर्यटन की ‘शीर्ष 10 बाजारों’ की सूची में भारत छठे स्थान पर खिसक गया। मोहम्मद मुइज्जू के मालदीव बनने के बाद से मालदीव पर्यटन चार्ट पर भारत की रैंक गिर रही है।’ इस बीच, भारत और मालदीव ने “इंडिया आउट” अभियान को आगे बढ़ाते हुए भारतीय सैन्य कर्मियों के प्रतिस्थापन पर चर्चा करने के लिए एक द्विपक्षीय बैठक की, जिसका वादा राष्ट्रपति मोहम्मद मुइज्जू ने चुनाव अभियान के दौरान किया था।

यह भी पढ़ें- Maharashtra: सीएम शिंदे ने हुतात्मा हेमंत करकरे को लेकर जारी विवाद पर कांग्रेस को घेरा, कसाब और पाकिस्तान से जोड़ा कनेक्शन

आपसी हित के मुद्दों पर चर्चा
“विकास और रक्षा सहयोग सहित आपसी हित के कई मुद्दों पर चर्चा हुई। दोनों पक्षों ने इस बात पर संतोष व्यक्त किया कि भारत सरकार 10 मई तक तीन विमानन प्लेटफार्मों में से अंतिम पर सैन्य कर्मियों और सभी साजो-सामान को बदल देगी।” प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है, व्यवस्थाएं तय कार्यक्रम के अनुसार आगे बढ़ रही हैं।

यह वीडियो भी देखें-

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.