Jammu and Kashmir: कठुआ में कैसे टला बड़ा आतंकी हमला? पुलिस ने बताया

ऑपरेशन के दौरान जम्मू-सांबा-कठुआ रेंज के पुलिस उप महानिरीक्षक सुनील गुप्ता और कठुआ के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अनायत अली चौधरी के सरकारी वाहनों पर कई गोलियां लगीं।

113

Jammu and Kashmir के कठुआ जिले में सीमावर्ती गांव में गोलीबारी करने वाले दो आतंकियों को 12 जून को सुरक्षा बलों ने मार गिराया। इस ऑपरेशन के दौरान सीआरपीएफ के एक जवान भी हुतात्मा हो गया। हालांकि, अगर आतंकियों ने गांव वालों से पानी नहीं मांगा होता तो इस आतंकी हमले में बड़ी संख्या में नागरिक हताहत हो सकते थे।

सीआरपीएफ, सेना और पुलिस ने 12 जून को दोपहर कठुआ के सैदा गांव के पास छिपे दूसरे आतंकी को मार गिराया। तड़के 3 बजे उसने सुरक्षा बलों की घेराबंदी तोड़ने की कोशिश में सीआरपीएफ के एक जवान की हत्या कर दी थी।

पानी मांगना पड़ गया भारी
ऑपरेशन के दौरान जम्मू-सांबा-कठुआ रेंज के पुलिस उप महानिरीक्षक सुनील गुप्ता और कठुआ के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अनायत अली चौधरी के सरकारी वाहनों पर कई गोलियां लगीं, लेकिन अधिकारी सुरक्षित बच गए। अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (जम्मू जोन) आनंद जैन ने खुलासा किया कि 11 जून की रात 8 बजे दोनों आतंकी गांव में घुसे थे। उन्होंने पानी मांगने के लिए एक घर का दरवाजा खटखटाया। इस घटना में घरवाले डर गए और उन्होंने पुलिस को सूचना दी।

ग्रेनेड फेंकने की कोशिश
पुलिस को देखकर एक आतंकवादी ने टीम पर ग्रेनेड फेंकने की कोशिश की, लेकिन वह तुरंत मारा गया। एक वरिष्ठ अधिकारी ने एक बयान में कहा, “उन्होंने कुछ घरों से पानी मांगा, जिस पर ग्रामीणों को संदेह हुआ और उन्होंने दरवाजे बंद कर दिए और कुछ ने शोर मचाया। आतंकवादी घबरा गए और हवा में अंधाधुंध फायरिंग की और पास से गुजर रहे एक ग्रामीण पर भी गोलियां चलाईं।”

गांववालों की जागरुकता ने टला हादसा
इस बीच, एक ग्रामीण ने दावा किया कि उसकी त्वरित सूझबूझ और कार्रवाई ने संभावित त्रासदी को टाल दिया। प्रत्यक्षदर्शी सुरिंदर ने कहा कि उसने गांव में आतंकवादियों के बारे में अलार्म बजाया।

Kuwait Fire: मंगाफ के एक इमारत में लगी भीषण आग, 5 भारतीयों सहित 41 की मौत

हो सकता था विनाशकारी
उस व्यक्ति ने बताया, “कई बच्चे खेल रहे थे और लोग बाहर घूम रहे थे। वे आसानी से 15 से 20 लोगों को मार सकते थे, जिनमें ज्यादातर बच्चे थे। लोग शाम को सत्संग के लिए जा रहे थे। यह विनाशकारी हो सकता था।” उन्होंने बताया, “शाम के करीब 7:30 से 7:45 बजे का समय था। मैं अपनी बाइक पर था, तभी एक बच्चे ने मुझे गांव में दो हथियारबंद युवकों के बारे में बताया। मैंने उन्हें काले कपड़े पहने और एके राइफलों के साथ देखा, जो मुझे उनके पास आने के लिए बुला रहे थे। मुझे संदेह हुआ कि वे आतंकवादी हैं और मैंने गांव वालों को चेतावनी दी, जिससे वे घर भाग गए। दुकानें बंद हो गईं और वाहन रुक गए।” यह हमला कुछ दिनों पहले आतंकवादियों द्वारा शिव खोरा से कटरा जा रही हिंदू तीर्थयात्रियों की बस पर हमला करने के बाद हुआ है, जिसमें नौ लोग मारे गए थे और 41 घायल हो गए थे।

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.