Israel-Hamas war: गाजा युद्ध के बीच अमेरिकी राजदूत बेरूत पहुंचे, क्या हैं मायने ?

होचस्टीन ने संसद अध्यक्ष नबीह बेरी से मुलाकात के बाद संवाददाताओं से कहा कि लेबनान की दक्षिणी सीमा पर शांति बहाल करना ‘अत्यंत महत्वपूर्ण’ है।

392

Israel-Hamas war: अमेरिका (America), इजरायल और हमास के बीच जारी गाजा युद्ध का विस्तार नहीं चाहता है। इसी क्रम में अमेरिका में शीर्ष राजदूत ने 07 नवंबर को बेरुत (Beirut) में एक बयान में कहा कि वाशिंगटन नहीं चाहता है कि गाज़ा में जारी लड़ाई का विस्तार लेबनान तक हो। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन के वरिष्ठ सलाहकार अमोस होचस्टीन ने यह टिप्पणी लेबनान की यात्रा के दौरान की। वह लेबनान के संसद के अध्यक्ष और कार्यवाहक प्रधानमंत्री के साथ हालात पर चर्चा करने आए हैं।

लेबनान की दक्षिणी सीमा पर शांति बहाल करना ‘अत्यंत महत्वपूर्ण
होचस्टीन ने संसद अध्यक्ष नबीह बेरी से मुलाकात के बाद संवाददाताओं से कहा कि लेबनान की दक्षिणी सीमा पर शांति बहाल करना ‘अत्यंत महत्वपूर्ण’ है। होचस्टीन ने कहा कि उन्होंने लेबनान-इज़रायल सीमा पर तनाव पर बेरी की चिंताओं को सुना है, जहां सात अक्टूबर को इज़रायल-हमास युद्ध शुरू होने के बाद से चरमपंथी समूह हिज़बुल्ला और उसके सहयोगियों के लड़ाके लगभग एक महीने से इज़रायली सैनिकों से लड़ रहे हैं।

हिज़बुल्ला की चेतावनी
होचस्टीन ने एक संक्षिप्त बयान में कहा, ‘अमेरिका गाज़ा में संघर्ष को बढ़ते और इसका विस्तार लेबनान तक होते नहीं देखना चाहता।’ वहीं, इज़रायली हमले में रविवार को मारी गई एक लेबनानी महिला और उसकी तीन पोतियों को दो दिन बाद दफन कर दिया गया। हिज़बुल्ला के अधिकारियों ने चेतावनी दी है कि अगर इज़रायल लेबनानी नागरिकों को मारता है, तो वह असैन्य ठिकानों पर हमला करके जवाबी कार्रवाई करेगा।

यह भी पढ़ें – Uttar Pradesh: मेडिकल संस्थानों में लागू होगी ई-ऑफिस प्रणाली, जानें क्या बोले ब्रजेश पाठक

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.