IMD’s Red Alert: दिल्ली में तापमान 44.4 डिग्री सेल्सियस, हीटवेव से कोई राहत नहीं

दिल्ली के प्राथमिक मौसम केंद्र सफदरजंग वेधशाला ने अधिकतम तापमान 44.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया, जो मौसमी मानक से चार डिग्री अधिक है।

347

IMD’s Red Alert: दिल्ली (Delhi) में 19 मई (रविवार) को प्रचंड गर्मी (extreme heat) पड़ी और तापमान इस मौसम के उच्चतम स्तर 44.4 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया। भारत मौसम विज्ञान विभाग (India Meteorological Department) (आईएमडी) के अनुसार, राष्ट्रीय राजधानी (National Capital) को आने वाले सप्ताह में भीषण गर्मी से कोई राहत नहीं मिलेगी क्योंकि राजस्थान से गर्म हवाएँ इस क्षेत्र में चलती रहेंगी।

दिल्ली के प्राथमिक मौसम केंद्र सफदरजंग वेधशाला ने अधिकतम तापमान 44.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया, जो मौसमी मानक से चार डिग्री अधिक है। न्यूनतम तापमान भी बढ़ा, जो औसत से दो डिग्री अधिक 28.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

यह भी पढ़ें- Ebrahim Raisi: ईरानी राष्ट्रपति रायसी के हेलीकॉप्टर की ‘हार्ड लैंडिंग’ के बाद तलाशी जारी- रिपोर्ट

अधिकतम तापमान 46.4 डिग्री सेल्सियस
दिल्ली के कई इलाकों में इससे भी अधिक तापमान, 45 से 47 डिग्री सेल्सियस तक का अनुभव हुआ। नजफगढ़ शहर का सबसे गर्म इलाका बनकर उभरा, जहां पारा 47.8 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया। मुंगेशपुर और पीतमपुरा में क्रमश: 47.7 डिग्री सेल्सियस और 47 डिग्री सेल्सियस तापमान दर्ज किया गया। आयानगर, पालम और रिज में भी गर्मी बढ़ी, जहां अधिकतम तापमान क्रमश: 46.4 डिग्री सेल्सियस, 45.1 डिग्री सेल्सियस और 45.9 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया।

यह भी पढ़ें- IPL 2024: अभिषेक शर्मा की शानदार पारी ने सनराइजर्स को दिलाई 4 विकेट से जीत

गंभीर हीटवेव की चेतावनी
आईएमडी ने पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़-दिल्ली और राजस्थान सहित कई क्षेत्रों में हीटवेव से लेकर गंभीर हीटवेव की चेतावनी जारी की है। इसके अतिरिक्त, उत्तर प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, मध्य प्रदेश, ओडिशा, गुजरात, सौराष्ट्र और कच्छ के कुछ हिस्सों में 23 मई, 2024 को लू की स्थिति का अनुभव होने की उम्मीद है।

यह भी पढ़ें- West Bengal Politics: बंगाल में कांग्रेस कार्यकर्ता नाराज, कांग्रेस अध्यक्ष की तस्वीर पर पोती गई स्याही

आईएमडी की सलाह
अपने सात दिनों के पूर्वानुमान में हीटवेव के प्रभाव पर प्रकाश डालते हुए, आईएमडी ने निवासियों से अत्यधिक सावधानी बरतने का आग्रह किया, विशेष रूप से शिशुओं, बुजुर्गों और पुरानी बीमारियों वाले लोगों जैसे कमजोर समूहों का। उन्होंने सभी उम्र के लोगों में गर्मी से संबंधित बीमारियों और हीट स्ट्रोक की उच्च संभावना पर जोर दिया। आईएमडी ने सलाह दी, “गर्मी से बचने और ठंडे रहने के लिए, निर्जलीकरण को रोकें।” उन्होंने हाइड्रेटेड रहने के लिए पर्याप्त पानी पीने और ओआरएस या घर पर बने पेय जैसे लस्सी, तोरानी (चावल का पानी), नींबू पानी और छाछ का उपयोग करने की सलाह दी।

यह वीडियो भी देखें-

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.