आतिशबाजी बाजार में लगी आग और दहकने लगीं दुकानें , कई की हालत गंभीर

सभी घायलों के इलाज के लिये जिला अस्पताल के सभी डॉक्टरों को बुला लिया गया।

339

मथुरा के थाना राया क्षेत्र अंतर्गत गोपालबाग में 12 नवंबर की दोपहर आतिशबाजी बाजार (fireworks market) में अचानक आग (Fire) लग गयी, जिससे पूरे क्षेत्र में अफरा-तफरी मच गयी। वहां लगी 22 दुकानों में से सात दुकानों में भयंकर आग लग गई। जिनमें नौ लोग झुलस (burnt)गए। जिन्हें उपचार के लिए जिला अस्पताल भेजा गया है। यहां से तीन लोगों को गंभीर हालत में आगरा रेफर कर दिया गया है।

सूचना पाकर पहुंचे विधायक पूरन प्रकाश, जिलाधिकारी शैलेन्द्र कुमार सिंह, एसएसपी शैलेश कुमार पांडेय अन्य प्रशासनिक अधिकारियों ने नौ लोगों के घायल होने की पुष्टि करते हुए जांच टीम गठित की है। वहीं फायर बिग्रेड की बात पर जिलाधिकारी ने कहा कि एक घंटे के अंतराल में फायर बिग्रेड की टीम यहां पहुंची और आग पर पूरी तरह से काबू पा लिया है।

शार्ट सर्किट से आग लगी!
12 नवंबर की दोपहर लगभग दो बजे गोपालबाग स्थित आतिशबाजी की एक दुकान में लगी आग के बाद पूरे बाजार में यह आग फैल गयी। ( यहां लगभग 22 दुकानें लगाई गई थी। जिनमें अधिकांश तौर पर नौहझील, मुरसान और आसपास के क्षेत्रों के लोगों ने आतिशबाजी की दुकानें लगायी थीं। माना जा रहा है कि शार्ट सर्किट (short circuit) से आग लगी है। इस दौरान यहां खड़ी डेढ़ दर्जन से अधिक बाइकें भी पूरी तरह जलकर राख हो गयीं। घटना की सूचना मिलते ही पुलिस और प्रशासन में हड़कंप मच गया। सूचना के काफी समय बाद स्वास्थ्य विभाग की टीम मौके पर पहुंची और घायलों को उपचार के लिये सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र ले जाया गया, जिनकी संख्या नौ बताई गई है। जिन्हें उपचार हेतु जिला अस्पताल भेजा गया। पटाखा बाजार में आग की वजह शार्ट सर्किट बताई जा रही है। बाजार में कुल 22 दुकानें लगी थी। आग बुझाने के यहां समुचित इंतजाम नहीं थे।

जिला अस्पताल में उपचार के लिये लाये गये लोगों में लोकमन ( 19 ), सतनाम सिंह (22), अनिल (20), ठाकुरदास (35) निवासी बवनई मुरसान हाथरस, राजेश (16 ) और रिंकू (23) निवासी नौहझील व अन्य शामिल हैं। यहां से गंभीर हालत देखते हुये तीन लोगों को आगरा के लिये रेफर किया गया है।

छुट्टी के बाद भी डॉक्टरों को बुलाया
जिला अस्पताल में डॉक्टरों की टीम और स्वास्थ्यकर्मी पूरे तरह से इनके उपचार में जुट गये। सीएमओ और सीएमएस ने स्वयं झुलसे हुये लोगों के उपचार में जुटे देखा गया। वहीं, इन सभी घायलों के इलाज के लिये जिला अस्पताल के सभी डॉक्टरों को बुला लिया गया। अधिकांश डॉक्टर रविवार और दीपावली का अवकाश मना रहे थे, लेकिन राया में हुयी इस बड़ी घटना की खबर लगते ही अधिकांश चिकित्सक जिला अस्पताल पहुंच गये और झुलसे लोगों के उपचार में जुट गये।

यह भी पढ़ें – Madhya Pradesh: ट्रक और कार की भीषण टक्कर, एक ही परिवार पर गिरा दुखों का पहाड़

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.