Newsclick Case: करोड़ों की फंडिंग के आरोप में अमेरिकी करोड़पति नेविल रॉय सिंघम को ED ने भेजा समन

प्रवर्तन निदेशालय ने न्यूजक्लिक मामले में अमेरिकी करोड़पति नेविल रॉय सिंघम को समन भेजा।

374

देश विरोधी गतिविधियों में शामिल वेबसाइट ‘न्यूजक्लिक’ (Newsclick) के संस्थापक प्रबीर पुरकायस्थ (Prabir Purkayastha) के खिलाफ कार्रवाई चल रही है। इस बीच गुरुवार को प्रवर्तन निदेशालय (Enforcement Directorate) ने इस मामले में पूछताछ के लिए अमेरिकी करोड़पति नेविल रॉय सिंघम (Neville Roy Singham) को समन (Summons) जारी किया है।

अमेरिकी बिजनेसमैन और आईटी कंसल्टिंग फर्म थॉटवर्क्स के पूर्व चेयरमैन नेविल रॉय सिंघम पिछले कुछ दिनों से राजनीति में काफी सक्रिय हैं। द न्यूयॉर्क टाइम्स की एक जांच के अनुसार, उन्होंने न्यूजक्लिक को लाखों डॉलर की फंडिंग की।

यह भी पढ़ें- नेपाल के रास्ते भारत में घुस रहे थे पाकिस्तानी मां-बेटे, SSB जवानों ने किया गिरफ्तार

कौन हैं नेविल रॉय सिंघम?
नेविल रॉय सिंघम एक अमेरिकी व्यवसायी और सामाजिक कार्यकर्ता हैं। वह थॉटवर्क्स के संस्थापक और पूर्व अध्यक्ष भी हैं। यह कंपनी कस्टम सॉफ़्टवेयर, सॉफ़्टवेयर टूल और परामर्श सेवाएँ प्रदान करती है। सिंघम पर कई संस्थाओं को फंडिंग करने का आरोप है। ये संस्थाएं चीन के विचारों को बढ़ावा देती हैं। वहीं, उइगर नरसंहार को झूठ बताते हैं। वह चीनी पार्टी के मुखर समर्थक भी रहे हैं।

न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, सिंघम नेटवर्क ने दिल्ली स्थित न्यूज वेबसाइट न्यूजक्लिक को फंडिंग की है। रिपोर्ट में कहा गया है कि न्यूजक्लिक को 38 करोड़ रुपये की फंडिंग दी गई थी। दावा किया गया है कि सिंघम चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के लिए काम करता है। जानकारी के अनुसार, वह चीन के शंघाई में रहते हैं।

न्यूजक्लिक का कहना है कि उसने नेविल रॉय सिंघम से कोई फंड नहीं लिया है। न्यूजक्लिक को प्राप्त सभी फंडिंग उचित बैंकिंग चैनलों के माध्यम से की गई है।

आपको बता दें कि कुछ दिन पहले चीन के पक्ष में प्रायोजित खबरें चलाने के लिए चीनी कंपनियों के जरिए 38 करोड़ रुपये की फंडिंग के मामले में आरोपी न्यूज पोर्टल न्यूजक्लिक ने हाई कोर्ट से मामले रद्द करने की मांग की थी।

दिल्ली पुलिस ने न्यूजक्लिक के एचआर विभाग के प्रमुख अमित चक्रवर्ती और न्यूजक्लिक के संस्थापक प्रबीर पुरकायस्थ के खिलाफ यूएपीए के तहत एफआईआर दर्ज की थी और उन्हें 3 अक्टूबर को गिरफ्तार कर लिया था।

देखें यह वीडियो- 

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.