Tender Commission Scam: झारखंड के ग्रामीण विकास मंत्री आलमगीर गिरफ्तार, जानिये कितना गंभीर है आरोप

ईडी) ने राज्य के ग्रामीण विकास मंत्री आलमगीर आलम को दिनभर की पूछताछ के बाद 15 मई की शाम टेंडर कमीशन घोटाले में गिरफ्तार कर लिया।

86

Tender Commission Scam: प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने राज्य के ग्रामीण विकास मंत्री आलमगीर आलम को दिनभर पूछताछ के बाद 15 मई की शाम टेंडर कमीशन घोटाले में गिरफ्तार कर लिया। ईडी की पूछताछ में वे 35.23 करोड़ रुपये बरामदगी के मामले में संतोषजनक जवाब नहीं दे पाए। इससे पूर्व 13 मई को ईडी के अधिकारियों ने मंत्री से साढ़े नौ घंटे तक पूछताछ की थी। साथ ही 15 मई को फिर ईडी के क्षेत्रीय कार्यालय आने को कहा था।

ईडी ने की मैराथन पूछताछ
ग्रामीण विकास मंत्री के पीएस संजीव लाल और उसके सहायक जहांगीर आलम के घर से 35.23 करोड़ रुपये बरामद होने के बाद ईडी ने मंत्री को 12 मई को समन जारी कर 14 मई को 11:00 बजे पूछताछ के लिए रांची के हिनू स्थित क्षेत्रीय कार्यालय में आने को कहा था। बताया जा रहा है कि आलमगीर, संजीव और उसकी पत्नी रीता को आमने-सामने बैठाकर ईडी ने पूछताछ की। ईडी ने आलमगीर आलम से बरामद कैश के बारे में पूछताछ की लेकिन उनके जवाब से ईडी संतुष्ट नहीं हुई। ईडी ने आलमगीर से रुपये के स्रोत के बारे में पूछताछ की। पूछा गया कि कहां-कहां से रुपये आए और कमीशन की राशि कहां-कहां बंटती थी।

यह है आरोप
उल्लेखनीय है कि ईडी ने बीते पांच मई को टेंडर कमीशन घोटाले में मंत्री आलमगीर के निजी सचिव संजीव लाल सहित अन्य लोगों के ठिकानों पर छापेमारी की थी। इस दौरान ईडी ने संजीव लाल के नौकर जहांगीर और बिल्डर मुन्ना सिंह के ठिकानों से कुल 35.23 करोड़ रुपये नकदी बरामद किये थे। इस मामले में ईडी ने कार्रवाई करते हुए पांच मई की देर रात को आलमगीर आलम के निजी सचिव संजीव लाल और उसके सहायक जहांगीर आलम को गिरफ्तार कर लिया था। इसके बाद ईडी ने दोनों को कोर्ट में पेश किया और रिमांड पर लिया है।

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.