Veer Savarkar: ‘सावरकर पुरस्कार ने मेरी जिम्मेदारी बढ़ा दी है’: डॉ. सुहास जोशी

स्वातंत्र्यवीर सावरकर की 141वीं जयंती के मौके पर हर साल की तरह इस साल भी पुरस्कारों की घोषणा की गई है। स्वातंत्र्यवीर सावरकर की जयंती के अवसर पर वीर सावरकर के आदर्शों पर चलते हुए राष्ट्रीय सुरक्षा और रक्षा के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान देने वाले व्यक्ति को 'स्वातंत्र्यवीर सावरकर शौर्य' और 'स्वातंत्र्यवीर सावरकर विज्ञान पुरस्कार' से सम्मानित किया जाता है।

347

स्वातंत्र्यवीर सावरकर राष्ट्रीय स्मारक (Swatantraveer Savarkar National Memorial) द्वारा दिए गए विज्ञान पुरस्कार (Science Award) से हम अभिभूत हैं, इसलिए मुझे लगता है कि अच्छे काम को जारी रखने की जिम्मेदारी मुझ पर बढ़ गई है। आईआईटी इंदौर (IIT Indore) के निदेशक प्रो. डॉ. सुहास जोशी (Dr. Suhas Joshi) का मानना ​​है कि इस पुरस्कार से लोगों को सूचना एवं प्रौद्योगिकी (Information and Technology) के क्षेत्र में नए तरीकों से प्रशिक्षित करने की प्रेरणा मिली है और सूचना एवं प्रौद्योगिकी का उपयोग लोगों के विकास के लिए करने का प्रयास किया जाएगा।

स्वातंत्र्यवीर सावरकर की 141वीं जयंती के मौके पर हर साल की तरह इस साल भी पुरस्कारों की घोषणा की गई है। स्वातंत्र्यवीर सावरकर की जयंती के अवसर पर वीर सावरकर के आदर्शों पर चलते हुए राष्ट्रीय सुरक्षा और रक्षा के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान देने वाले व्यक्ति को ‘स्वातंत्र्यवीर सावरकर शौर्य’ और ‘स्वातंत्र्यवीर सावरकर विज्ञान पुरस्कार’ से सम्मानित किया जाता है। स्वातंत्र्यवीर सावरकर के विचार सर्वकालिक और उतने ही प्रभावशाली हैं। इन विचारों का प्रचार और प्रसार करने वाले व्यक्ति को ‘स्वातंत्र्यवीर सावरकर स्मृति पुरस्कार’ से सम्मानित किया जाता है।

यह भी पढ़ें- Swatantrya Veer Savarkar Award: भव्य समारोह में स्वातंत्र्यवीर सावरक शौर्य, विज्ञान, समाज सेवा, स्मृति चिन्ह पुरस्कार प्रदान किये गये 

मैकेनिकल इंजीनियरिंग के क्षेत्र में डॉ. जोशी का योगदान
भारतीय राष्ट्रीय इंजीनियरिंग अकादमी द्वारा ‘स्वातंत्र्यवीर सावरकर विज्ञान पुरस्कार-2024’ डॉ. सुहास जोशी को मैकेनिकल इंजीनियरिंग के क्षेत्र में उनके योगदान के लिए प्रशस्ति पत्र, स्मृति चिह्न और रुपये देने की घोषणा की गई। पुरस्कार की प्रकृति 51,000 है। रविवार, 25 मई, 2024 को दादर के सावरकर मेमोरियल हॉल में आयोजित एक शानदार समारोह में बिहार के राज्यपाल राजेंद्र आर्लेकर ने डॉ. जोशी को विज्ञान पुरस्कार से सम्मानित किया। इस अवसर पर स्वातंत्र्यवीर सावरकर राष्ट्रीय स्मारक के अध्यक्ष प्रवीण दीक्षित, स्वातंत्र्यवीर सावरकर राष्ट्रीय स्मारक के कार्यकारी अध्यक्ष रणजीत सावरकर, सावरकर स्ट्रैटेजिक सेंटर के प्रमुख ब्रिगेडियर हेमंत महाजन, सावरकर विचार प्रसारक संस्था के विद्याधर नारगोलकर और ‘स्वातंत्र्यवीर’ फिल्म निर्माता, लेखक, अभिनेता रणदीप हुड्डा मौजूद रहे।

सावरकर का योगदान अमूल्य है: डॉ. जोशी
डॉ. जोशी ने अपनी भावनाएं व्यक्त करते हुए पुरस्कार पाने के लिए स्वातंत्र्यवीर सावरकर राष्ट्रीय स्मारक को धन्यवाद दिया। साथ ही, चयन समिति ने हमें डाॅ. विजय भटकर, डॉ. जयन्त नार्लिकर, डाॅ. अनिल काकोडकर को ऐसे आदर्श व्यक्तित्वों और वैज्ञानिकों की श्रेणी में अपना नाम जोड़ने के लिए बधाई। जोशी ने आभार व्यक्त किया। उन्होंने इस बात पर संतोष व्यक्त किया कि स्मारक ने अतीत में समाज के लिए ऐसे कई कार्यक्रम आयोजित किए हैं, उन्होंने कहा कि मैं कला, संगीत और साहित्य में उनके अमूल्य योगदान के साथ-साथ राष्ट्र और समाज के लिए उनकी अग्रणी सेवा के लिए स्वातंत्र्यवीर सावरकर को नमन करता हूं।

कार्यक्रम के अंत में मुख्य अतिथि स्वातंत्र्यवीर सावरकर राष्ट्रीय स्मारक के अध्यक्ष प्रवीण दीक्षित, पुरस्कार विजेता एवं पुरस्कार चयन समिति के सदस्य प्रवीण दीक्षित ने शौर्य पुरस्कार के चयन के लिए अमोल गोखले और ब्रिगेडियर हेमंत महाजन को भी धन्यवाद दिया।

देखें यह वीडियो- 

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.