Madhya Pradesh: भोजशाला में ASI का सर्वे जारी, 13वें दिन पहुंचीं अधिवक्ता रंजना अग्निहोत्री

हिंदू फ्रंट फॉर जस्टिस की राष्ट्रीय अध्यक्ष और लखनऊ की अधिवक्ता रंजना अग्निहोत्री तीन दिवसीय प्रवास पर बुधवार को धार पहुंचीं।

101

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट (Madhya Pradesh High Court) की इंदौर खंडपीठ (Indore Bench) के आदेश पर धार (Dhar) की ऐतिहासिक भोजशाला (Bhojshala) में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग (Archaeological Survey of India Department) का सर्वे (Survey) बुधवार को 13वें दिन भी जारी रहा। दिल्ली और भोपाल के अधिकारियों की 25 सदस्यीय सर्वे टीम सुबह करीब आठ बजे मजदूरों के साथ भोजशाला पहुंची और शाम पांच बजे बाहर आई। इसी दौरान टीम ने करीब नौ घंटे वैज्ञानिक पद्धति से सर्वे गया। टीम के साथ हिंदू पक्ष के गोपाल शर्मा, आशीष गोयल और मुस्लिम पक्ष के अब्दुल समद खान भी मौजूद रहे। इस दौरान बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात रही। सुरक्षा व्यवस्था के चाक चौबंद इंतजाम किए गए हैं।

बुधवार को सर्वे के दौरान दोपहर बाद हिंदू फ्रंट फॉर जस्टिस की राष्ट्रीय अध्यक्ष और भोजशाला प्रकरण की याचिकाकर्ता रंजना अग्निहोत्री भोजशाला पहुंचीं और सर्वे कार्य को देखा। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि सर्वे में अभी काफी समय लगेगा। इसलिए एएसआई को अयोध्या की तर्ज पर न्यायालय में आवेदन देकर सर्वे का समय बढ़वाना चाहिए।

यह भी पढ़ें- MNS: महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना को क्यों नहीं चाहिये दक्षिण मुंबई सीट? जानिये इस खबर में

सर्वे कार्य में काफी वक्त लगेगा
उन्होंने बताया कि सर्वे में अभी क्लीनिंग, ब्रशिंग की प्रक्रिया की जा रही है। जो अवशेष मिल रहे हैं, उनके पैकेट बनाकर रखे जा रहे हैं। भोजशाला के कुछ भाग में काम शुरू हुआ है, जो पहले चरण में चल रहा है। उन्होंने बताया कि यह बहुत ही धीमी प्रक्रिया होती है। इसमें एएसआई अपने हिसाब से कार्य को धीरे-धीरे करती है। मेरा अनुमान है कि सर्वे कार्य में काफी वक्त लगेगा।

सर्वे का काम सुरक्षित तरीके से किया जा रहा
उन्होंने कहा कि छह सप्ताह में सर्वे का काम पूरा होना संभव नहीं है। ऐसे में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण को न्यायालय के समक्ष आवेदन प्रस्तुत कर समय सीमा बढ़वानी होगी। जिस तरह अयोध्या में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण ने दो से तीन बार आवेदन देकर समय बढ़वाया था। ठीक इसी तरह यहां भी समय बढ़वाना होगा। सर्वे में किसी भी तरह से किसी भी लेयर को नुकसान नहीं हो, इसलिए धीमे और सुरक्षित तरीके से काम होता है। खोदाई में भी कुछ अवशेष प्राप्त हुए हैं, जिनकी फोटोग्राफी, वीडियोग्राफी भी करवाई गई है।

देखें यह वीडियो- 

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.