बच्चों को भी मंगल टीका… विश्व स्वास्थ्य संगठन की अनुमति के बाद भारत की एक और लंबी छलांग

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा निर्मित कोरोना टीके को आपात उपयोग की अनुमति दे दी है। इस टीके के निर्माण के संबंध में सीरम इंस्टिट्यूट के आदार पूनावाला ने कुछ दिन पहले ही जानकारी साझा की थी। इस अनुमति के बाद टीका निर्माण में भारत की एक और लंबी छलांग मानी जा रही है।

भारतीय दवा निर्माता सीरम इंस्टिट्यूट द्वारा निर्मित कोवोवैक्स विश्व स्वास्थ्य संगठन से आपात उपयोग की अनुमति प्राप्त करनेवाला नौंवा टिका है। कोवोवैक्स का निर्माण भारतीय कंपनी सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया कर रही है, जिसके पास अमेरिकी दवा कंपनी नोवावैक्स का लाइसेंस है।

ये भी पढ़ें – समीर वानखेडे अब कहां जाएंगे? एनसीबी से सेवा समाप्ति

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने दी जानकारी
कोरोना वायरस निर्मूलन की दिशा में कदम बढ़ाते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन ने बच्चों के लिए निर्मित कोवोवैक्स को आपात उपयोग की अनुमति दी है। इस संदर्भ में विश्व स्वास्थ्य संगठन ने एक सूचना सार्वजनिक की है। जिसमें कहा गया है कि कोवोवैक्स को अनुमति देकर विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोविड-19 वैक्सीन के झोले में एक और वैक्सीन दे दी है।

सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया के मालिक और सीईओ अदार पूनावाला ने विश्व स्वास्थ्य संगठन का आभार माना है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here