Uttar Pradesh: उत्सव के शोर के बाद स्वच्छता वाली भोर

स्वच्छ, स्वस्थ और सुरक्षित दिवाली सुनिश्चित करने के लिए प्रयागराज जैसे इलाकों में तो स्वच्छताकर्मी दिवाली के बाद अगले दिन तड़के 5 बजे से ही साफ-सफाई संबंधी कार्यों के लिए सड़कों पर उतर गए।

379

Uttar Pradesh: भारत में सबसे बड़े त्योहार के रूप में मनाए जाने वाले दिवाली महापर्व (Diwali festival) का उत्सव हर ओर अपना शोर और छाप छोड़ जाता है। हर घर से लेकर पूरे शहर में हो रहे आयोजन स्थल तक उत्सवों (celebration) के चलते काफी अपशिष्ट भी निकलता है। ऐसे में इस बार आवासन और शहरी कार्य मंत्रालय (Ministry of Housing and Urban Affairs) के स्वच्छ भारत मिशन-शहरी की ओर से चलाए गए ‘स्वच्छ दिवाली शुभ दिवाली’ अभियान (Swachh Diwali Shubh Diwali Campaign) के अंतर्गत उत्तर प्रदेश के विभिन्न शहरों में सफाई कर्मियों ने नागरिकों के लिए ‘उत्सव के शोर के बाद स्वच्छता वाली भोर’ सुनिश्चित करके पर्व के अनोखे उपहार स्वरूप भेंट दिया।

शाम से ही सफाई में जुटे सफाईकर्मी
कानपुर शहर और सिधौली नगर पंचायत में दिवाली पर्व के उत्सवों की खूब उमंग तो देखने को मिली ही, वहां पर्व के बाद इलाहाबाद के सफाईकर्मियों में भी खासा उत्साह देखा गया जिन्होंने शाम से ही सफाई के काम शुरू कर दिए थे। कई इलाकों में सफाई कर्मचारियों ने वीडियो संदेश भी जारी किए और सभी नागरिकों को दिवाली की शुभकामनाएं देते हुए साथ मिलकर स्वच्छ और स्वस्थ दिवाली मनाने की अपील की।

वहीं मेरठ के किथौर नगर पालिका में स्वच्छता कर्मियों ने 12 नवंबर की शाम से शुरू किए गए काम को देर रात तक जारी रखा। टुंडला इलाके में जहां कुछ ज्यादा कचरा निकला, तो बाजारों में नगर निगम की ओर से जेसीबी के माध्यम से सफाई कराई। उत्तर प्रदेश के फूलपुर और मऊ जैसे हिस्सों में भी दिन-रात जुटकर नागरिकों का पूरा संग निभाया और दिवाली की पूर्व संध्या से ही स्वच्छता पर जोर दिया।

तड़के 5 बजे से ही शुरू हो गई साफ-सफाई
स्वच्छ, स्वस्थ और सुरक्षित दिवाली सुनिश्चित करने के लिए प्रयागराज जैसे इलाकों में तो स्वच्छताकर्मी दिवाली के बाद अगले दिन तड़के 5 बजे से ही साफ-सफाई संबंधी कार्यों के लिए सड़कों पर उतर गए। इस तरह दिवाली जैसे रोशनी के पर्व वाली शाम ढली, तो देश भर के शहरों में नागरिकों को स्वच्छता वाली सुबह मिली।

यह भी पढ़ें – Uttarakhand Tunnel Accident: राजस्थान के सिरोही सहित इन स्थानों पर भी हो चुके हैं ऐसे भीषण हादसे

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.