Rajaji National Park : राजाजी राष्ट्रीय उद्यान के लिए यात्रा गाइड

हिमालय (Himalaya) की तलहटी में बसा राजाजी राष्ट्रीय उद्यान (Rajaji National Park) प्रकृति प्रेमियों और वन्यजीव प्रेमियों के लिए एक स्वर्ग है। जानिए यात्रा गाइड-

330

Rajaji National Park: 

हिमालय (Himalaya) की तलहटी में बसा राजाजी राष्ट्रीय उद्यान (Rajaji National Park) प्रकृति प्रेमियों और वन्यजीव प्रेमियों के लिए एक स्वर्ग है। भारतीय राज्य उत्तराखंड (Uttarakhand) के 3 जिलों- हरिद्वार (Haridwar), देहरादून (Dehradun) और पौड़ी गढ़वाल (Pauri Garhwal) में फैला यह पार्क 820 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है। इसे 1983 में तीन वन्यजीव अभयारण्यों: राजाजी, मोतीचूर और चिल्ला को मिलाकर स्थापित किया गया था।
  • राजाजी राष्ट्रीय उद्यान के लिए यात्रा गाइड : 

1. वनस्पति और जीव (Flora and Fauna): राजाजी राष्ट्रीय उद्यान अपनी विविध वनस्पतियों और जीवों के लिए प्रसिद्ध है। पार्क की वनस्पति में नम पर्णपाती वन, नदी के किनारे के जंगल, चौड़ी पत्ती वाले मिश्रित वन, झाड़ियाँ और घास के मैदान शामिल हैं। साल के पेड़ जंगल के परिदृश्य पर हावी हैं, बीच-बीच में सागौन, रोहिणी, अमलतास और सेमल के पेड़ भी हैं।
यह भी पढ़ें : Rajkot Game Zone Fire: गेम जोन अग्निकांड में 25 लोगों के डीएनए मैच, परिजनों को सौंपे गए शव, यहां देखिये पूरी सूची
यह पार्क हाथियों, बाघों, तेंदुओं, हिरणों (जैसे चीतल और सांभर), जंगली सूअर और सुस्त भालू सहित स्तनधारियों की 50 से अधिक प्रजातियों का घर है। यह एशियाई हाथियों की अपनी महत्वपूर्ण आबादी के लिए विशेष रूप से प्रसिद्ध है, जिन्हें अक्सर बड़े झुंडों में देखा जा सकता है। (Rajaji National Park)
2. कैसे पहुँचें (How To Reach): राजाजी राष्ट्रीय उद्यान (Rajaji National Park) सड़क, रेल और हवाई मार्ग से आसानी से पहुँचा जा सकता है। निकटतम हवाई अड्डा देहरादून में जॉली ग्रांट हवाई अड्डा है, जो लगभग 35 किलोमीटर दूर है। देहरादून और हरिद्वार निकटतम प्रमुख रेलवे स्टेशन हैं, जो भारत भर के प्रमुख शहरों से अच्छी तरह से जुड़े हुए हैं। इन शहरों से, पार्क के प्रवेश द्वार तक पहुँचने के लिए कोई टैक्सी किराए पर ले सकता है या बस ले सकता है। (Rajaji National Park)
3. घूमने का सबसे अच्छा समय (Best Time To Visit): राजाजी राष्ट्रीय उद्यान घूमने का सबसे अच्छा समय नवंबर और जून के बीच है। इन महीनों के दौरान, मौसम सुहावना होता है, और वन्यजीवों के दर्शन अधिक बार होते हैं। भारी वर्षा और भूस्खलन के जोखिम के कारण, मध्य जून से मध्य नवंबर तक मानसून के मौसम में पार्क बंद रहता है।
4. प्रवेश बिंदु और क्षेत्र (Entry Points and Zones): राजाजी राष्ट्रीय उद्यान (Rajaji National Park) में कई प्रवेश बिंदु हैं, जिनमें से मुख्य हरिद्वार, चिल्ला, मोतीचूर और रानीपुर हैं। प्रत्येक प्रवेश बिंदु पार्क के भीतर अलग-अलग क्षेत्रों की ओर जाता है, जो वन्यजीवों को देखने के लिए अद्वितीय अनुभव और अवसर प्रदान करता है।

5. सफारी अनुभव (Safari Experience): राजाजी राष्ट्रीय उद्यान (Rajaji National Park) के मुख्य आकर्षणों में से एक जंगल सफ़ारी (Jungle Safari) है। जीप सफ़ारी और हाथी सफ़ारी दोनों उपलब्ध हैं, जो आगंतुकों को पार्क के जंगल का पता लगाने का एक रोमांचक तरीका प्रदान करते हैं। सफ़ारी आमतौर पर सुबह और देर दोपहर में आयोजित की जाती है, जिससे वन्यजीवों को देखने की संभावना अधिकतम हो जाती है।
6. निवास (Accommodation): राजाजी राष्ट्रीय उद्यान विभिन्न बजट और प्राथमिकताओं के अनुरूप आवास के कई विकल्प प्रदान करता है। पार्क के भीतर, कई वन विश्राम गृह और इको-लॉज हैं जो बुनियादी सुविधाएँ और प्रकृति के करीब का अनुभव प्रदान करते हैं। (Stay in Rajaji)
7. गतिविधियाँ और आकर्षण (Activities and Attractions): वन्यजीव सफारी के अलावा, राजाजी राष्ट्रीय उद्यान (Rajaji National Park) आगंतुकों के लिए कई अन्य गतिविधियाँ प्रदान करता है। ट्रैकिंग और प्रकृति की सैर लोकप्रिय हैं, जिससे पर्यटक पैदल ही पार्क के विविध परिदृश्यों का पता लगा सकते हैं। बर्डवॉचिंग एक और प्रमुख आकर्षण है, जिसमें कई ट्रेल्स दुर्लभ और प्रवासी पक्षी प्रजातियों को देखने के बेहतरीन अवसर प्रदान करते हैं।
सांस्कृतिक अनुभवों में रुचि रखने वालों के लिए, हरिद्वार और ऋषिकेश जैसे आस-पास के शहर इस क्षेत्र की आध्यात्मिक और सांस्कृतिक विरासत की झलक पेश करते हैं। हरिद्वार, अपने पवित्र घाटों और शाम की गंगा आरती के साथ, और ऋषिकेश, जो अपने आश्रमों और रिवर राफ्टिंग जैसे साहसिक खेलों के लिए जाना जाता है, राजाजी राष्ट्रीय उद्यान की प्राकृतिक सुंदरता के पूरक हैं।
यह भी पढ़ें : Maharashtra: तासगांव-मनेराजुरी रोड पर नहर में गिरी वाहन, एक ही परिवार के 6 लोगों की मौत
8. संरक्षण प्रयास (Conservation Efforts): राजाजी राष्ट्रीय उद्यान (Rajaji National Park) वन्यजीवों और उनके आवासों के संरक्षण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। लुप्तप्राय प्रजातियों की रक्षा, अवैध शिकार को रोकने और स्थायी पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए कई पहल की गई हैं। स्थानीय समुदायों को संरक्षण गतिविधियों में शामिल करने, उन्हें वैकल्पिक आजीविका प्रदान करने और प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण के महत्व के बारे में जागरूकता बढ़ाने के प्रयास भी किए जाते हैं।
राजाजी नेशनल पार्क (Rajaji National park) उत्तराखंड (Uttarakhand) का एक रत्न है, जो रोमांच, शांति और प्राकृतिक सुंदरता का एक आदर्श मिश्रण प्रदान करता है। चाहे आप वन्यजीव उत्साही हों, पक्षी प्रेमी हों या फिर साधारण I
यह भी देखें :
Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.