जानिये, पीएम जहां मनाएंगे दिवाली, वह जगह भारत के लिए क्यों है खास!

पीएम नियंत्रण रेखा की रखवाली करने वाली नौशहरा ब्रिगेड के साथ दिवाली मनाएंगे। पीएम के आने से यहां के जवान काफी उत्साहित हैं और सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध किए गए हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस बार सीमा पर देश की रक्षा में तैनात सेना के जवानों के साथ दिवाली मनाएंगे। पीएम जहां दिवाली मनाएंगे, वह जगह भारत-पाकिस्तान नियंत्रण रेखा से सटे राजौरी जिले के नौशहरा सेक्टर में स्थित है। यह क्षेत्र देश की सुरक्षा के लिए बहुत ही विशेष है।

पीएम नियंत्रण रेखा की रखवाली करने वाली नौशहरा ब्रिगेड के साथ दिवाली मनाएंगे। वे फिलहाल सुबह नौशहार पहुंच गए हैं और वे दोपहर 1 बजे तक उनके साथ रहेंगे। पीएम के आने से यहां के जवान काफी उत्साहित हैं और सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध किए गए हैं।

इसलिए यह जगह है खास
1947 में पाकिस्तान की शह पर कबायलियों ने दिवाली के दिन ही राजौरी पर हमला कर दिया था। इस हमले में सैकड़ों लोग हुतात्मा हो गए थे। स्थानीय लोगों ने सेना के साथ मिलकर कबायलियों के हमले का करारा जवाब दिया था। 12 अप्रैल,1948 तक चले इस संघर्ष में सेना ने उनके दात खटे कर दिए थे और उन्हें खदेड़कर राजौरी पर फिर से कब्जा कर लिया था। इसलिए दिवाली के दिन हर वर्ष यहां हुतात्मा हुए लोगों को श्रद्धांजलि अर्पित की जाती है।

इस कारण सुर्खियों में है राजौरी
राजौरी और इससे सटा पुंछ जिला पिछले काफी दिनों से सुर्खियों में है। इसका कारण यह है कि पाकिस्तान ने सीमांत क्षेत्रों के बजाय इन जिलों में आतंकवाद फैलाने का अपना षड्यंत्र तेज कर दिया है। पुंछ जिले के भाटाधुलियां के जंगलों में हाल ही में आतंकियो और सेना के बीच 20 दिनों तक मुठभेड़ चली थी। इस दौरान नौ जवान हुतात्मा हो गए थे। वर्तमान में भी सेना के जवान इस क्षेत्र में तैनात हैं। पिछले चार महीनों में यहां 14 सैनिकों ने वीर गति को प्राप्त किया है।

ये भी पढ़ेंः आखिर डब्ल्यूएचओ ने माना कोवैक्सीन का लोहा! जी-20 में मोदी मंत्र काम कर गया?

पाकिस्तान को कड़ा संदेश
इस स्थिति में पीएम का राजौरी दौरा जवानों का मनोबल बढ़ाएगा और पाकिस्तान को कड़ा संदेश पहुंचेगा। इससे पहले जब पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ तनाव बढ़ गया था, तब पीएम ने लद्दाख का दौरा कर वहां तैनात हमारे जवानों का मनोबल बढ़ाया था। तीन साल में दूसरी बार पीएम सेना के जवानों के साथ दिवाली मनाने राजौरी पहुंचे हैं। इससे पहले वे जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 और 35ए हटाए जाने के बाद 2019 में यहां दिवाली मनाने आए थे। इस दौरान उन्होंने राजौरी में सेना के डिव मुख्यालय में आयोजित एक कार्यक्रम में सैनिकों के साथ दिवाली मनाई थी।

खास बात

  • 2014 में पीएम बनने के बाद मोदी लद्दाख में विश्व के सबसे ऊंचे युद्ध क्षेत्र सियाचिन में दिवाली मनाई थी। उन दिनों लद्दाख जम्मू-कश्मीर में था।
  • 2017 में पीएम ने कश्मीर के बांदीपोरा में सेना व सीमा सुरक्षा बल के जवानों के साथ दिवाली मनाई थी।
  • 2019 में राजौरी में सैनिकों के साथ पीएम ने दिवाली मनाई थी।
  • 2020 में पीएम दिवाली के दिन राजस्थान के जैसलेमेर में जवानों के साथ थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here