National Tree Of India: जानें बरगद को भारत का राष्ट्रीय वृक्ष क्यों घोषित किया, इससे जुड़ी कुछ रोचक बातें

National Tree Of India: बरगद का पेड़ विशिष्ट जानवरों और पक्षियों का घर है जो भारत और उसके कई नस्लों, धर्मों और जातियों के लोगों को दर्शाते हैं।

136

National Tree Of India: बरगद का पेड़ (Banyan Tree), जिसे भारतीय अंजीर के पेड़ के रूप में भी जाना जाता है, भारत का राष्ट्रीय वृक्ष है। भारत सरकार ने वर्ष 1950 में बरगद के पेड़ को भारत के राष्ट्रीय वृक्ष (National Tree) के रूप में अपनाया।

बरगद का पेड़ विशिष्ट जानवरों और पक्षियों का घर है जो भारत और उसके कई नस्लों, धर्मों और जातियों के लोगों को दर्शाते हैं। फ़िकस बेंगालेंसिस” इसका वैज्ञानिक नाम है, और यह कई प्रकार के आवासों में उगता है।

यह भी पढ़ें- Bihar: उपेंद्र कुशवाहा की राजनीती में नया मोड़, एनडीए के राज्यसभा उम्मीदवार के रूप में नामित

हिंदू दर्शन में बरगद के पेड़
पेड़ को “कल्पवृक्ष” के रूप में भी जाना जाता है, जिसका अनुवाद “इच्छा पूरी करने वाला पेड़” होता है। बरगद का पेड़ भारत में हर जगह मौजूद है, चाहे वह किसी भी क्षेत्र या जलवायु का हो, जो इसे भारत के राष्ट्रीय वृक्ष के रूप में चुनने का एक प्रमुख कारण है। बरगद के पेड़ के कई चिकित्सीय लाभ हैं और यह दीर्घायु से जुड़ा है। हिंदू दर्शन में बरगद के पेड़ को एक पवित्र वृक्ष माना जाता है। सदियों से, गांव के लोग बरगद के पेड़ के नीचे घटनाओं पर चर्चा करते रहे देश की एकता का प्रतीक इस पेड़ की विशाल संरचना और इसकी गहरी जड़ें हैं।

यह भी पढ़ें- Fazilka Border: पाकिस्तान अपनी हरकतों से नहीं आ रहा बाज, फाजिल्का बॉर्डर पर घुसपैठिया ढेर

सांस्कृतिक या ऐतिहासिक महत्व
“राष्ट्रीय वृक्ष” की अवधारणा हर देश में अलग-अलग होती है, क्योंकि अलग-अलग राष्ट्र कुछ पेड़ों को अपनी संस्कृति, इतिहास या मूल्यों के प्रतीक या प्रतिनिधि के रूप में नामित करते हैं। ये पेड़ अक्सर सांस्कृतिक या ऐतिहासिक महत्व रखते हैं और इन्हें राष्ट्रीय प्रतीकों, लोककथाओं और अभिव्यक्ति के अन्य रूपों में दर्शाया जा सकता है। उदाहरण के लिए:

  • संयुक्त राज्य अमेरिका: ओक ट्री
  • कनाडा: मेपल ट्री
  • भारत: बरगद का पेड़
  • ब्राजील: पाउ ब्रासिल

यह भी पढ़ें- West Bengal: ईडी की पूछताछ, रितुपर्णा ने चिटफंड मामले में जताई ये इच्छा

भारत का राष्ट्रीय वृक्ष बरगद है। नाम और वैज्ञानिक नाम और महत्व
यहाँ हमने बरगद के पेड़ का महत्व बताया है जो भारत का राष्ट्रीय वृक्ष है। नीचे सूचीबद्ध बरगद के पेड़ के महत्व को देखें:

  1. भारत का सबसे बड़ा बरगद का पेड़ कोलकाता में मौजूद है। यह दुनिया के सबसे बड़े बरगद के पेड़ के लिए गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड भी रखता है।
  2. हिंदू पौराणिक कथाओं में, भारत का हमारा राष्ट्रीय वृक्ष यानी बरगद का पेड़ स्वर्गीय और दिव्य माना जाता है। भगवद गीता में बरगद के पेड़ के बारे में एक श्लोक है जो कहता है, “मैं पेड़ों के बीच बरगद का पेड़ हूँ।”
  3. भारत का राष्ट्रीय वृक्ष, बरगद का पेड़ इंडोनेशिया के राष्ट्रीय प्रतीक का हिस्सा है। इसका मतलब इंडोनेशिया की एकता का प्रतिनिधित्व करना है: एक ऐसा देश जिसकी कई काँटेदार जड़ें हैं।
  4. बरगद के पेड़ को अश्वत्थ वृक्ष के रूप में भी जाना जाता है और इसकी बढ़ती हुई शाखाओं के कारण यह चिरस्थायी जीवन प्रदान करता है।
  5. भारत का हमारा राष्ट्रीय वृक्ष, बरगद के पेड़ को “कल्पवृक्ष” भी कहा जाता है जिसका अर्थ है ‘इच्छा-पूर्ति करने वाला दिव्य वृक्ष’।
  6. अंगकोर वाट मंदिर का ता प्रोहम विशाल बरगद के पेड़ों के लिए जाना जाता है जो इसकी दीवारों के ऊपर, चारों ओर और बीच में उगते हैं।

यह वीडियो जी देखें-

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.