भारत ने कनाडा के इस फैसले का किया स्वागत, दबाव तंत्र आया काम

2017-19 के दौरान कनाडा घए भारतीय छात्र वापस भेजे जा सकते हैं। वे पढ़ने के लिए वहां गए थे।

192

भारत सरकार ने कनाडा से भारतीय छात्रों को वापस भेजे जाने के कुछ मामलों में रोक लगाए जाने के फैसला का स्वागत किया है।

विदेश मंत्रालय के सूत्रों का कहना है कि भारत की ओर से लगातार किया जा रहा प्रयास इसमें मददगार साबित हुआ है। इसी चलते कनाडाई प्रशासन मामले के मानवीय पहलू को देख रहा है और छात्रों के दृष्टिकोण को भी समाहित कर रहा है।

2017-19 के दौरान कनाडा पहुंचे भारतीय छात्र भेजे जा सकते हैं वापस
बता दें कि 2017-19 के दौरान कोरोना काल में कनाडा पहुंचे भारतीय छात्र वापस भेजे जा सकते हैं। वे पढ़ने के लिए वहां गए थे । कुछ वहां वर्किंग वीजा पर काम कर रहे हैं और कुछ अभी भी पढ़ रहे हैं। कनाडा प्रशासन का कहना है कि छात्रों ने वीजा पाने के लिए यहां के विश्वविद्यालयों के फर्जी प्रवेश पत्र पेश किए गए थे।

वाराणसीः जी-20 बैठक को प्रधानमंत्री करेंगे संबोधित, इन मुद्दों पर करेंगे बात

भारत लगातार उठा रहा है मामला
भारत सरकार लगातार इनका मामला उठा रहा है। विदेश मंत्री ने अपने कनाडाई समकक्ष से मामला उठाया था। वहीं स्थानीय स्तर पर भी नेताओं की ओर से छात्रों के समर्थन में आवाज उठाई जा रही है।

भारत ने कमियों को किया उजागर
सूत्रों के मुताबिक भारत ने कनाडा प्रशासन से उनकी वीजा जारी करने की व्यवस्था की कमियों को उजागर किया है। वीजा देते समय ठीक से मेहनत नहीं की जाती। इसके चलते छात्रों को वीजा मिल जाता है।

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.