दिल्ली की घेराबंदी पर पुलिस आयुक्त ने क्या कहा?

दिल्ली की सीमा पर किसान अब भी आंदोलन कर रहे हैं। 6 जनवरी को देशव्यापी चक्का जाम की घोषणा आंदोलन कर रही किसान यूनियन ने की है। इसके लिए पुलिस प्रशासन सतर्क है।

दिल्ली की सीमाओं पर आंदोलन कर रहे किसानों की घेराबंदी के लिए की गई व्यवस्था पर विपक्ष टिप्पणी कर रहा है। इसका उत्तर दिल्ली के पुलिस आयुक्त एसएन श्रीवास्तव के द्वारा मिला। उन्होंने कहा ये आश्चर्य की बात है कि, जब गणतंत्र दिवस पर किसानों ने पुलिस कर्मियों पर हमला किया उस समय किसी ने ऐसा प्रश्न नहीं किया।

दिल्ली की सीमाओं पर किसान का आंदोलन चल रहा है। ऐसे में पुलिस ने किसानों की घेराबंदी कर दी है। ट्रैक्टरों को रोकने के लिए बाड़, सड़कों पर लोहे की नुकीली छड़ें, बैरिकेड लगाए गए हैं। इसके अलवा दिल्ली पुलिस, रैपिड एक्शन फोर्स की टुकड़ियां तैनात हैं। बता दें कि, गणतंत्र दिवस पर किसानों के हमले में 510 पुलिसकर्मी घायल हुए थे।

पुलिसकर्मियों की सराहना
एसएन श्रीवास्तव ने दिल्ली के पुलिसकर्मियों की गणतंत्र दिवस पर सूझबूझ और शांतिपूर्ण व्यवहार के लिए सराहना की। उन्होंने कहा कि, मैं आश्चर्यचकित हूं कि जब ट्रैक्टरों का उपयोग हुआ, पुलिसकर्मियों पर हमले हुए, बैरिकेड तोड़े गए उस समय कोई प्रश्न नहीं पूछा गया। हम अब क्या करें? हमने मात्र बैरिकेडिंग को मजबूत किया है जिससे वो फिर न टूटे।

हमें अपने को मजबूत रखना है – आयुक्त
दिल्ली पुलिस आयुक्त ने बाहरी दिल्ली के पीतमपुरा स्थित डीसीपी ऑफिस जाकर घायल पुलिस कर्मियों से भेंट की। उन्होंने कहा आप लोगों द्वारा जो शांति और नियंत्रण दिखाया गया वो सही है। हमें अपने आपको सुदृढ़ रखना है गुप्त सूचनाओं पर लक्ष्य केंद्रित करना है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here