Char Dham: चार धाम मंदिर तक कैसे पहुंचे ?

चार धाम यात्रा, या तीर्थयात्रा, आध्यात्मिक मोक्ष और आशीर्वाद की तलाश करने वाले भक्तों द्वारा की जाती है। ये मंदिर सामूहिक रूप से भारत के आध्यात्मिक सार और विरासत का प्रतिनिधित्व करते हैं, जो सालाना लाखों तीर्थयात्रियों को आकर्षित करते हैं।

101

Char Dham:

(Char Dham) चार धाम, जिसका अर्थ है “चार निवास”, भारत (India) में चार पवित्र तीर्थ स्थलों (Pilgrimage Sites) का एक समूह है, जो हिंदू धर्म में अत्यधिक पूजनीय हैं। उत्तराखंड (Uttarakhand) राज्य में स्थित ये स्थल यमुनोत्री, गंगोत्री, केदारनाथ और बद्रीनाथ हैं। चार धाम यात्रा, या तीर्थयात्रा, आध्यात्मिक मोक्ष और आशीर्वाद की तलाश करने वाले भक्तों द्वारा की जाती है। ये मंदिर सामूहिक रूप से भारत के आध्यात्मिक सार और विरासत का प्रतिनिधित्व करते हैं, जो सालाना लाखों तीर्थयात्रियों को आकर्षित करते हैं। (Char Dham)

यह भी देखें : Mandarmani Hotels : 8 सबसे बेहतरीन मंदारमणि होटलें जो आपको पता होनी चाहिए

1. यमुनोत्री (Yamunotri)-

यमुनोत्री यमुना नदी का स्रोत है, जिसे देवी यमुना के रूप में पूजा जाता है। यह 3,293 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है और अपने गर्म झरनों और प्राकृतिक सुंदरता के लिए जाना जाता है। यहाँ का मंदिर देवी यमुना को समर्पित है। (Char Dham)
कैसे पहुँचें-
हवाई मार्ग:
निकटतम हवाई अड्डा देहरादून में जॉली ग्रांट हवाई अड्डा है, जो यमुनोत्री से लगभग 210 किमी दूर है। हवाई अड्डे से आप टैक्सी किराए पर ले सकते हैं या यमुनोत्री ट्रेक के लिए आधार जानकी चट्टी तक बस ले सकते हैं।
ट्रेन से:
यमुनोत्री से लगभग 175 किमी दूर देहरादून सबसे नज़दीकी रेलवे स्टेशन है। देहरादून से जानकी चट्टी तक पहुँचने के लिए बसें और टैक्सियाँ उपलब्ध हैं।
सड़क मार्ग से:
देहरादून, ऋषिकेश या हरिद्वार से आप जानकी चट्टी तक बस या टैक्सी ले सकते हैं। जानकी चट्टी से यमुनोत्री 6 किमी की दूरी पर है। जो लोग पैदल नहीं चलना चाहते उनके लिए टट्टू और पालकी उपलब्ध हैं।

2. गंगोत्री (Gangotri)-

गंगोत्री गंगा नदी का उद्गम स्थल है, जिसे हिंदू धर्म में सबसे पवित्र नदी माना जाता है। 3,100 मीटर की ऊँचाई पर स्थित यह मंदिर देवी गंगा को समर्पित है। तीर्थयात्री प्रार्थना करने और अनुष्ठान करने के लिए गंगोत्री आते हैं। (Char Dham)
कैसे पहुँचें-
हवाई मार्ग से:
देहरादून में जॉली ग्रांट हवाई अड्डा निकटतम हवाई अड्डा है, जो गंगोत्री से लगभग 250 किमी दूर है। हवाई अड्डे से आप टैक्सी किराए पर ले सकते हैं या उत्तरकाशी के लिए बस ले सकते हैं और फिर गंगोत्री जा सकते हैं।
ट्रेन से:
निकटतम रेलवे स्टेशन ऋषिकेश है, जो गंगोत्री से लगभग 234 किमी दूर है। ऋषिकेश से उत्तरकाशी होते हुए गंगोत्री के लिए टैक्सी और बसें उपलब्ध हैं।
सड़क मार्ग से:
देहरादून, ऋषिकेश और हरिद्वार से उत्तरकाशी के लिए नियमित बसें और टैक्सियाँ उपलब्ध हैं। उत्तरकाशी से गंगोत्री 100 किमी की ड्राइव पर है। सड़क यात्रा से हिमालय और भागीरथी नदी के सुंदर दृश्य दिखाई देते हैं।

यह भी देखें : 18th Lok Sabha: सांसद कैसे लेते हैं शपथ? अगर कोई सांसद जेल में हो तो क्या होगा?

3. केदारनाथ (Kedarnath)-

3,583 मीटर की ऊँचाई पर स्थित केदारनाथ भगवान शिव के बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक है। राजसी हिमालय के बीच बसा यह मंदिर चुनौतीपूर्ण चढ़ाई के बाद पहुँचा जा सकता है। यह शिव भक्तों के लिए एक महत्वपूर्ण स्थल है। (Char Dham)
कैसे पहुँचें-
हवाई मार्ग से:
देहरादून में जॉली ग्रांट हवाई अड्डा सबसे नज़दीकी हवाई अड्डा है, जो केदारनाथ के आधार गौरीकुंड से लगभग 238 किमी दूर है। हवाई अड्डे से आप गौरीकुंड के लिए टैक्सी किराए पर ले सकते हैं।
रेल मार्ग से:
गौरीकुंड से लगभग 216 किमी दूर ऋषिकेश सबसे नज़दीकी रेलवे स्टेशन है। ऋषिकेश से गौरीकुंड पहुँचने के लिए बसें और टैक्सियाँ उपलब्ध हैं।
सड़क मार्ग से:
हरिद्वार, ऋषिकेश और देहरादून से गौरीकुंड के लिए बसें और टैक्सियाँ चलती हैं। गौरीकुंड से केदारनाथ 16 किमी की चढ़ाई है। केदारनाथ की तेज़ और अधिक आरामदायक यात्रा के लिए फाटा, सेरसी और गुप्तकाशी से हेलीकॉप्टर सेवाएँ भी उपलब्ध हैं।

4. बद्रीनाथ (Badrinath)-

3,133 मीटर की ऊँचाई पर स्थित बद्रीनाथ भगवान विष्णु को समर्पित है। यह मंदिर अलकनंदा नदी के किनारे स्थित है और चार धाम और बड़े छोटा चार धाम तीर्थ यात्रा सर्किट दोनों का हिस्सा है। (Char Dham)
कैसे पहुँचें-
हवाई मार्ग से:
निकटतम हवाई अड्डा देहरादून में जॉली ग्रांट हवाई अड्डा है, जो बद्रीनाथ से लगभग 310 किमी दूर है। हवाई अड्डे से बद्रीनाथ के लिए टैक्सियाँ उपलब्ध हैं।
ट्रेन से:
निकटतम रेलवे स्टेशन ऋषिकेश है, जो बद्रीनाथ से लगभग 295 किमी दूर है। ऋषिकेश से बद्रीनाथ के लिए टैक्सियाँ और बसें उपलब्ध हैं।
सड़क मार्ग से:
हरिद्वार, ऋषिकेश और देहरादून से बद्रीनाथ के लिए नियमित बसें और टैक्सियाँ चलती हैं। जोशीमठ और गोविंदघाट के खूबसूरत शहरों से गुज़रते हुए यह यात्रा सुंदर है।
इस गाइड का पालन करके, तीर्थयात्री श्रद्धेय चार धाम मंदिरों की एक सुगम और अधिक संतुष्टिदायक यात्रा कर सकते हैं। (Char Dham)

यह भी देखें :

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.