मध्य रेलवे को हासिल हुई बड़ी उपलब्धि, विज्ञापन से कमाए ‘इतने’ करोड़

मध्य रेलवे ने अप्रैल से अक्टूबर 2023 के बीच केवल विज्ञापन से 54.51 करोड़ रुपये की आय अर्जित की है। मध्य रेलवे में मुंबई, भुसावल, नागपुर, सोलापुर और पुणे जैसे डिवीजन आते हैं।

1174

भारतीय रेलवे (Indian Railways) ने सभी जोनल रेलवे को गैर-टिकट आय बढ़ाने का निर्देश दिया है। रेलवे की इस कोशिश के जरिए पारंपरिक स्रोतों के अलावा अन्य स्रोतों से भी आय अर्जित (Income Earning) करना है। इसी वजह से सभी रेलवे जोन नॉन-टिकटिंग (Non-Ticketing) से होने वाली आय को बढ़ाने की कोशिश कर रहे हैं।

भारतीय रेलवे की इस पहल का असर मध्य रेलवे (Central Railway) की विज्ञापन आय (Advertising Revenue) पर दिखने लगा है। अप्रैल से अक्टूबर 2023 के बीच मध्य रेलवे को अकेले विज्ञापनों से 54.51 करोड़ रुपये की आय हुई है। इसमें से 8.19 करोड़ रुपये ट्रेन कोचों पर विनाइल रैपिंग से, 28.61 करोड़ रुपये स्टेशनों पर होर्डिंग विज्ञापनों से और 17.72 करोड़ रुपये रेलवे स्टेशनों पर टीवी स्क्रीन विज्ञापनों (TV Screen Advertisements) से कमाए गए हैं।

यह भी पढ़ें- रेलवे बिहार से 6 शहरों के लिए चलाएगी स्पेशल ट्रेने

मध्य रेलवे की कुल आय
आपको बता दें, मध्य रेलवे में मुंबई, भुसावल, नागपुर, सोलापुर और पुणे जैसे डिवीजन हैं। चालू वित्त वर्ष के अप्रैल से अक्टूबर 2023 तक मध्य रेलवे को 90.76 करोड़ यात्रियों से 4,129.30 करोड़ रुपये की आय हुई है। इसमें से उपनगरीय अनारक्षित टिकटिंग से 525.34 करोड़ रुपये, गैर-उपनगरीय अनारक्षित टिकटिंग से 700.31 करोड़ रुपये, यूटीएस से 1225.65 करोड़ रुपये और यात्री आरक्षण प्रणाली से 2903.96 करोड़ रुपये की कमाई हुई है।

अक्टूबर महीने में जोनल रेलवे को पैसेंजर रिजर्वेशन सिस्टम से 436.18 करोड़ रुपये की कमाई हुई। इसी अवधि के दौरान, इसने उपनगरीय टिकट बिक्री से 78.13 करोड़ रुपये, गैर-उपनगरीय टिकट बिक्री से 115.49 करोड़ रुपये और यूटीएस से 193.62 करोड़ रुपये कमाए। जोनल रेलवे ने यात्रियों से असुविधा से बचने और सम्मानपूर्वक यात्रा करने के लिए उचित और वैध रेलवे टिकट के साथ यात्रा करने की अपील की है।

देखें यह वीडियो- 

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.