Ayodhya : प्राण प्रतिष्ठा समारोह में 50 परम्पराओं के संत सहित 13 अखाड़ों के प्रमुख होंगे शामिल, इस तिथि से शुरू होगा पूजन

चंपत राय ने बताया कि वर्तमान में जहां भगवान विराजमान हैं, वहां दर्शन पूजन बंद करने पर विचार चल रहा है। ताकि भीतरी कार्य अतिशीघ्र पूरे हो सकें।

1338

Ayodhya: श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट महासचिव चम्पत राय(Shri Ram Janmabhoomi Teerth Kshetra Trust General Secretary Champat Rai) ने 18 दिसंबर को ट्रस्ट के प्राण प्रतिष्ठा समारोह(Pran pratishtha ceremony) के रामघाट पत्थर कार्यशाला स्थित संवाद केंद्र में पत्रकार वार्ता को संबोधित करते हुए कहा कि भगवान के नवीन मन्दिर के लिए 16 जनवरी से प्राण प्रतिष्ठा के लिए पूजन प्रारम्भ होगा। यह 22 जनवरी यानी प्राण प्रतिष्ठा तक चलेगा। उसके बाद 24 जनवरी से 48 दिनों का उत्तर भारत की परम्परा के अनुसार मंडल पूजन होगा। उन्होंने कहा कि 23 जनवरी से आमजन रामलला के दर्शन कर सकेंगे।

चंपत राय ने बताया कि वर्तमान में जहां भगवान विराजमान हैं, वहां दर्शन पूजन बंद करने पर विचार चल रहा है। ताकि भीतरी कार्य अतिशीघ्र पूरे हो सकें। उन्होंने बताया कि आगामी 15 जनवरी तक ट्रस्ट की ओर से की जा रहीं सभी तैयारियां पूरी हो जाएगीं।

150 परम्पराओं के साधु-संतों समेत 13 अखाड़े और छह दर्शन परम्परा के शंकराचार्य होंगे शामिल
उन्होंने बताया कि समारोह में विभिन्न प्रदेशों के 150 परम्पराओं के साधु-संतों समेत 13 अखाड़े और छह दर्शन परम्परा के शंकराचार्य आदि शामिल होंगे। करीब चार हजार संतों को आमंत्रित किया गया है । इसके अलावा 2200 गृहस्थों को भी निमंत्रण दिया गया है। ट्रस्ट महासचिव राय ने कहा कि काशी विश्वनाथ, वैष्णोदेवी जैसे प्रमुख मंदिरों के प्रमुखों, धार्मिक व संवैधानिक संस्थाओं के प्रतिनिधियों को भी आमंत्रित किया गया है।

Varanasi: प्रधानमंत्री ने दिया 19 हजार करोड़ की परियोजनाओं का उपहार, देश के गरीबों के लिए कही ये बात

उन्होंने बताया कि विश्व विख्यात आध्यात्मिक गुरु दलाई लामा, केरल की अम्मा, योग गुरू बाबा रामदेव समेत सिने स्टार रजनीकांत, अमिताभ बच्चन, माधुरी दीक्षित, अरुण गोविल, निर्देशक मधुर भंडारकर समेत प्रमुख उद्योगपतियों में अनिल अंबानी, मुकेश अंबानी, रतन टाटा के पुत्र, प्रख्यात चित्रकार वासुदेव कामत, इसरो निदेशक नीलेश देसाई समेत तमाम विशिष्ट हस्तियां समारोह की साझी होंगी।

अतिथियों के ठहरने के उचित प्रबंध
उन्होंने बताया कि अयोध्या के तीन से अधिक स्थानों पर अतिथियों के ठहरने के उचित प्रबंध किए गए हैं। इसके अलावा विभिन्न मठ-मंदिरों और गृहस्थ परिवारों की ओर से 600 कमरे उपलब्ध कराए गए हैं। 25 दिसम्बर से तीन प्रमुख स्थानों पर भंडारा भी प्रारम्भ हो जाएगा।

 आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी नहीं होंगे शामिल
ट्रस्ट महासचिव चंपत राय ने बताया कि स्वास्थ्य और आयु कारणों से पूर्व गृह मंत्री लाल कृष्ण आडवाणी और वरिष्ठ नेता मुरली मनोहर जोशी(Former Home Minister Lal Krishna Advani and senior leader Murli Manohar Joshi) नहीं आ रहे हैं। दोनों परिवार के बुजुर्ग हैं और उनकी आयु देखते हुए न आने का निवेदन किया गया जिसे दोनों महानुभावों ने स्वीकार किया है। पूर्व प्रधानमंत्री देवगौड़ा(Former Prime Minister Deve Gowda) को आमंत्रित करने के लिए तीन सदस्यों की समिति बनी है।इस अवसर पर विहिप मीडिया प्रभारी शरद शर्मा उपस्थित रहे।

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.