9 years of Mann Ki Baat: सरकारी योजनाओं को लेकर पीएम ने किया ये दावा

136

भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के आर्थिक विभाग और भारतीय प्रबंधन संस्थान- बेंगलुरु (आईआईएम- बेंगलुरु) की विशेष शोध रिपोर्ट के अनुसार, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के ‘मन की बात’ ने पिछले 9 सालों में विभिन्न सरकारी योजनाओं को लोकप्रिय बनाने में अहम भूमिका निभाई है।

प्रधानमंत्री ने 3 अक्टूबर को अपने मासिक रेडियो कार्यक्रम के नौ साल पूरे होने पर ‘मन की बात’ में शामिल कुछ विषयों और उनके सामाजिक प्रभाव पर प्रकाश डालते हुए एसबीआई और आईआईएम के उक्त अध्ययन को साझा किया है।

एक्स पर किया पोस्ट
प्रधानमंत्री ने एक्स पर पोस्ट किया, “आज, जब मन की बात ने 9 साल पूरे कर लिए हैं, तो यहां भारतीय स्टेट बैंक और भारतीय प्रबंधन संस्थान- बेंगलुरु (आईआईएम- बेंगलुरु) द्वारा एक दिलचस्प अध्ययन किया गया है, जिसमें शामिल कुछ विषयों और उनके सामाजिक प्रभाव पर प्रकाश डाला गया है। यह आश्चर्यजनक है कि हमने इस माध्यम से कई जीवन यात्राओं और सामूहिक प्रयासों का जश्न कैसे मनाया है।”

खास बातेंः
-एसबीआई और आईआईएम बेंगलुरु के एक शोध कार्य में पिछले 9 वर्षों में प्रधानमंत्री के ‘मन की बात’ के 105 एपिसोड के प्रभाव का विश्लेषण किया गया है। इसमें मन की बात के नीतिगत निहितार्थ पर प्रकाश डाला गया है। रिपोर्ट के अनुसार, पीएम मुद्रा, स्वनिधि, सुकन्या समृद्धि, जन धन खाते और प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण (डीबीटी) जैसी सरकारी योजनाओं के परिणामस्वरूप जागरूकता का स्तर बढ़ा है जो इन योजनाओं को अपनाने के बढ़ते स्तर को दर्शाता है। रिपोर्ट में कहा गया है कि ऐसी योजनाओं में महिलाओं की भागीदारी और महिला सशक्तिकरण में भी वृद्धि हुई है।

-रिपोर्ट में कहा गया है, “मन की बात संबोधन के दौरान योजनाओं का जिक्र होने के बाद उनकी औसत खोज में तेज उछाल आया है।” इसमें कहा गया है कि जनवरी 2015 में शुरू की गई ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ योजना ने मन की बात कार्यक्रम में योजना का जिक्र आने के बाद इसने गूगल सर्च में लोकप्रियता हासिल की। बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान के एक भाग के रूप में शुरू की गई सुकन्या समृद्धि योजना (एसएसवाई), भारत सरकार की एक छोटी जमा योजना जो विशेष रूप से बालिकाओं के लिए है, एक बड़ी सफलता रही है। रिपोर्ट के मुताबिक, सुकन्या समृद्धि योजना (एसएसवाई) के तहत अब तक 3.6 करोड़ खाते खोले जा चुके हैं, जिनमें करीब 2 लाख करोड़ रुपये बकाया हैं। एसएसवाई भारत सरकार की एक छोटी जमा योजना है जो विशेष रूप से बालिकाओं के लिए है, जिसे बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान के एक भाग के रूप में शुरू किया गया है।

-रिपोर्ट में कहा गया है कि 15 नवंबर से मन की बात के बाद मुद्रा लोन एप्लिकेशन सर्च ने भी गूगल सर्च में तेजी पकड़ी है, लेकिन इसे सबसे ज्यादा लोकप्रियता कोविड-19 की शुरुआत के साथ मिली है।

-रिपोर्ट में कहा गया है कि योग, वह शब्द जो अनादि काल से चला आ रहा है, 14 दिसंबर को मन की बात के बाद गूगल सर्च में लोकप्रियता हासिल की, लेकिन मई और जून 2015 में मन की बात पर भारी संचार के बाद, इसने इतनी लोकप्रियता हासिल की कि इसका मतलब बढ़ गया।

-हमारे स्वतंत्रता संग्राम के दौरान खादी को काफी लोकप्रियता मिली, लेकिन बदलते समय के साथ यह अपनी लोकप्रियता खोती जा रही है। मन की बात के साथ, खादी को काफी लोकप्रियता मिली है, साथ ही बिक्री में भी वृद्धि हुई है। खादी का सोशल मीडिया कवरेज भी बढ़ गया है।

-2022 की शुरुआत के साथ मोटा अनाज (मिलिट) की खोजों में थोड़ी तेजी आई और मन की बात के साथ इसमें और तेजी आई, जिससे औसत पहले के 0.026 से बढ़कर 55.77 हो गया। फरवरी 2020 में उल्लेखित होने के बाद से पीएम स्वनिधि ने लोकप्रियता हासिल की है। यह पाया गया है कि मन की बात एपिसोड में स्वामी विवेकानंद का उल्लेख होने के बाद उनके बारे में औसत खोजों में 25% की वृद्धि हुई थी। मन की बात में उल्लेख के बाद अक्टूबर 2018 से स्टैच्यू ऑफ यूनिटी से संबंधित खोजों में तेजी आई है।

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.