Drishti-10 Drone: पाकिस्तान की उड़ेगी नींद, अब सीमा पर तैनात होंगे हर्मीस-900 ड्रोन

फिलहाल भारतीय सेना हेरॉन मार्क 1 और मार्क 2 ड्रोन का इस्तेमाल कर रही है। सरकार द्वारा स्वीकृत आपातकालीन खरीद की आखिरी किश्त के तहत सेना ने दृष्टि-10 यानी हर्मीस-900 ड्रोन का ऑर्डर दिया है। इसे मेक इन इंडिया के तहत बनाया गया है।

250
File Photo

पाकिस्तान सीमा (Pakistan Border) पर अपनी निगरानी क्षमताओं (Surveillance Capabilities) को बढ़ाते हुए, भारतीय सेना (Indian Army) 18 मई को पहला हर्मीस-900 स्टारलाइनर ड्रोन (Hermes-900 Starliner Drone) प्राप्त करने के लिए तैयार है। दृष्टि-10 ड्रोन (Drishti-10 Drone) के रूप में जाना जाने वाला हर्मीस-900, अदानी डिफेंस सिस्टम्स (Adani Defense Systems) द्वारा भारतीय सेनाओं (Indian Army) को आपूर्ति की जा रही है।

भारतीय सेना को मिलने वाले दो ड्रोनों में से पहला ड्रोन 18 मई को हैदराबाद को सौंपा जाएगा। यह आपूर्ति रक्षा मंत्रालय द्वारा बलों को दी गई आपातकालीन शक्तियों के तहत हस्ताक्षरित सौदे का हिस्सा है।

यह भी पढ़ें – Shakti 2024: भारत और फ्रांस की सेनाएं मेघालय में करेंगी शक्ति अभ्यास का आयोजन, सैन्य शक्ति का उद्देश्य

सेना में फिलहाल हेरॉन मार्क 1 और मार्क 2 ड्रोन का इस्तेमाल
फिलहाल भारतीय सेना हेरॉन मार्क 1 और मार्क 2 ड्रोन का इस्तेमाल कर रही है। सरकार द्वारा स्वीकृत आपातकालीन खरीद की आखिरी किश्त के तहत सेना ने दृष्टि-10 यानी हर्मीस-900 ड्रोन का ऑर्डर दिया है। इसे मेक इन इंडिया के तहत बनाया गया है।

बठिंडा बेस पर होगा तैनात
सैन्य अधिकारियों ने आगे जानकारी देते हुए बताया कि इन ड्रोनों को भारतीय सेना द्वारा पंजाब के बठिंडा बेस पर तैनात किया जाएगा। इससे भारतीय सेना रेगिस्तानी इलाके के साथ-साथ पंजाब के उत्तरी इलाकों समेत एक बड़े इलाके पर नजर रख सकेगी।

ये हैं ड्रोन की खासियतें
हर्मीस-900 ड्रोन 10 घंटे से ज्यादा समय तक हवा में रह सकता है। ये 30 हजार फीट की ऊंचाई तक उड़ सकते हैं। साथ ही ये 450 किलो तक वजन भी उठा सकते हैं। इसके अलावा इनका उपयोग टोही मिशनों के साथ-साथ हवाई बमबारी के लिए भी किया जाता है।

देखें यह वीडियो – 

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.