New Delhi: थाईलैंड और भारतीय नौसेना के बीच हुआ यह समझौता

रॉयल थाई नौसेना के कमांडर-इन-चीफ एडमिरल एडूंग पैन-इम ने राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर औपचारिक पुष्पांजलि अर्पित करके यात्रा की शुरुआत की। उसके बाद नई दिल्ली के साउथ ब्लॉक में भारतीय नौसेना ने पारंपरिक गार्ड ऑफ ऑनर के साथ उनका स्वागत किया।

77
New Delhi: थाईलैंड और भारतीय नौसेना के बीच हुआ यह समझौता...
New Delhi: थाईलैंड और भारतीय नौसेना के बीच हुआ यह समझौता...

New Delhi: रॉयल थाई नौसेना के कमांडर-इन-चीफ एडमिरल एडूंग पैन-इम(Admiral Edung Pan-im, Commander-in-Chief of the Royal Thai Navy) तीन दिन की भारत यात्रा(three day trip to india) पर 1 अप्रैल को नई दिल्ली पहुंचे। उन्होंने राष्ट्रीय युद्ध स्मारक(National War Memorial) पर जाकर शहीद वीरों को श्रद्धांजलि(tribute to martyred heroes) दी। इसके बाद साउथ ब्लॉक(South Block) में उन्हें गार्ड ऑफ ऑनर(guard of Honour) दिया गया। उन्होंने यात्रा के पहले दिन नौसेना प्रमुख एडमिरल आर हरि कुमार(Navy Chief Admiral R Hari Kumar) के साथ बातचीत की। दोनों प्रमुखों के बीच समुद्री क्षेत्र(Marine area) में आपसी सहयोग, प्रशिक्षण विनिमय कार्यक्रम और सूचना साझा करने के मुद्दों पर वार्ता हुई।

पारंपरिक गार्ड ऑफ ऑनर के साथ स्वागत
एडमिरल एडूंग पैन-इम ने राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर औपचारिक पुष्पांजलि अर्पित करके यात्रा की शुरुआत की। उसके बाद नई दिल्ली के साउथ ब्लॉक में भारतीय नौसेना ने पारंपरिक गार्ड ऑफ ऑनर के साथ उनका स्वागत किया। इस यात्रा के दौरान एडमिरल एडूंग चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल अनिल चौहान, वायु सेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल वीआर चौधरी, रक्षा सचिव गिरिधर अरमाने और राष्ट्रीय समुद्री सुरक्षा समन्वयक से भी मुलाकात करेंगे। दोनों देशों के बीच रक्षा सहयोग को और मजबूत करने के लिए एडमिरल एडुंग पैन-इम नई दिल्ली में भारतीय रक्षा उद्योगों के प्रतिनिधियों और रक्षा उत्पादन विभाग के अधिकारियों से भी मिलेंगे।

भारत की यात्रा पर रॉयल थाई नौसेना के कमांडर-इन-चीफ
कमांडर विवेक मधवाल ने बताया कि रॉयल थाई नौसेना के कमांडर-इन-चीफ 03 अप्रैल तक भारत की आधिकारिक यात्रा पर रहेंगे। इस दौरान जहाज निर्माण में वर्तमान रुझानों का पता लगाने और भारत में जहाज के रखरखाव और मरम्मत के दायरे सहित भविष्य के अवसरों की पहचान करने के लिए युद्धपोत डिजाइन ब्यूरो के भारतीय नौसेना अधिकारियों के साथ एक इंटरैक्टिव सत्र की भी योजना बनाई गई है। रॉयल थाई नौसेना के कमांडर-इन-चीफ की भारत यात्रा दोनों नौसेनाओं के बीच मजबूत द्विपक्षीय संबंधों और स्थायी मित्रता का प्रमाण है।

Indian Defence Exports: राजनाथ सिंह रक्षा निर्यात कि की सराहना, बोले- भारतीय रक्षा निर्यात ने पहली बार 21000 करोड़ रुपये पार

समन्वित गश्ती जारी
उन्होंने बताया कि दोनों नौसेनाएं 2005 से द्विवार्षिक आधार पर नियमित रूप से समन्वित गश्ती कर रही हैं। दोनों देशों की नौसेनाओं के बीच पहला द्विपक्षीय अभ्यास पिछले साल 23 दिसंबर को आयोजित किया गया था। पिछले माह विशाखापट्टनम में हुए बहुराष्ट्रीय अभ्यास ‘मिलन’ में भी रॉयल थाई नेवी जहाज ‘प्राचुप खीरी खान’ ने भाग लिया था। दोनों नौसेनाएं हिंद महासागर नौसेना संगोष्ठी (आईओएनएस) और हिंद महासागर रिम एसोसिएशन (आईओआरए) की भी सक्रिय सदस्य हैं।

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.