Arabian Sea: भारतीय समुद्री डकैती रोधी गश्त ने एमवी रुएन को रोका

विमान ने 15 दिसंबर, 2023 की सुबह अपहृत पोत के ऊपर से उड़ान भरी। इसके बाद भारतीय नौसेना का विमान लगातार इसकी गतिविधि की निगरानी कर रहा था। एमवी रुएन पोत सोमालिया के तट की ओर बढ़ रहा था।

904

Arabian Sea: अरब सागर में समुद्री अपराध (maritime crime) की घटनाओं को रोकने के लिए भारतीय नौसेना (Indian Navy) के मिशन के तहत तैनात मंचों ने माल्टा ध्वज वाले पोत एमवी रुएन के अपहरण (Hijacking of MV Rouen) पर अपनी त्वरित प्रतिक्रिया (Instant reaction) दी है। 18 चालक दल वाले इस पोत ने यूकेएमटीओ पोर्टल, पीएम पर 14 दिसंबर, 2023 पर मईडे संदेश भेजा था, जिसमें लगभग छह अज्ञात कर्मियों के सवार होने का संकेत दिया गया था।

अदन की खाड़ी में भेजा डकैती रोधी युद्धपोत
भारतीय नौसेना ने संकट की इस स्थिति पर त्वरित प्रतिक्रिया दी और इस क्षेत्र में निगरानी करने वाले अपने समुद्री गश्ती विमान को पहले भेजा। इसके बाद एमवी रुएन पोत का पता लगाने और उसकी सहायता करने के लिए अदन की खाड़ी में समुद्री डकैती रोकने के लिए तैनात अपने युद्धपोत को भी भेजा।

अपहृत पोत के ऊपर भरी उड़ान
विमान ने 15 दिसंबर, 2023 की सुबह अपहृत पोत के ऊपर से उड़ान भरी। इसके बाद भारतीय नौसेना का विमान लगातार इसकी गतिविधि की निगरानी कर रहा था। एमवी रुएन पोत सोमालिया के तट की ओर बढ़ रहा था।
भारतीय नौसेना के युद्धपोत, जिसे समुद्री डकैती रोधी गश्त (anti-piracy patrol) के लिए अदन की खाड़ी में तैनात किया गया था, ने भी 16 दिसंबर, 2023 की सुबह एमवी रुएन को रोक लिया है।

व्यापारी पोत परिवहन की सुरक्षा की प्रतिबद्धता
इस क्षेत्र में अन्य एजेंसियों/एमएनएफ के समन्वय से पूरी स्थिति की गहराई से निगरानी की जा रही है। भारतीय नौसेना, इस क्षेत्र में सबसे पहले प्रतिक्रिया देने और अंतरराष्ट्रीय साझेदारों व मित्र देशों के साथ व्यापारी पोत परिवहन की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध है।

यह भी पढ़ें – Janta Darshan: मत हो परेशान, हर समस्या का होगा समाधान: मुख्यमंत्री योगी

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.