West Bengal: प्रधानमंत्री से मुलाकात के बाद ममता बनर्जी ने कही यह बात

प्रधानमंत्री के राजभवन पहुंचने पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने उनसे मुलाकात की। इस मुलाकात को लेकर दावा किया जा रहा था कि मुख्यमंत्री 100 दिनों की रोजगार गारंटी योजना और आवास योजना सहित अन्य केंद्रीय योजनाओं का फंड रिलीज करने की मांग प्रधानमंत्री से करेंगी।

82

West Bengal: लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Elections) से पहले 1 मार्च (शुक्रवार) को पश्चिम बंगाल (West Bengal) में दो दिवसीय दौरे पर पहुंचे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) से मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने राजभवन में मुलाकात (meeting at Raj Bhavan) की। हुगली (Hooghly) जिला के आरामबाग (Arambagh) में प्रधानमंत्री मोदी ने 7200 करोड़ की परियोजना का शिलान्यास और उद्घाटन करने के बाद जनसभा को संबोधित करते हुए तृणमूल कांग्रेस और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर निशाना साधा।

शाम में प्रधानमंत्री के राजभवन पहुंचने पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने उनसे मुलाकात की। इस मुलाकात को लेकर दावा किया जा रहा था कि मुख्यमंत्री 100 दिनों की रोजगार गारंटी योजना और आवास योजना सहित अन्य केंद्रीय योजनाओं का फंड रिलीज करने की मांग प्रधानमंत्री से करेंगी। हालांकि प्रधानमंत्री से करीब एक घंटे की मुलाकात के बाद बाहर निकली मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि कोई राजनीति नहीं, केवल बातचीत हुई है और यह शिष्टाचार मुलाकात थी।

यह भी पढ़ें – Waqf Board: अमानतुल्ला खान पर मनी लॉन्ड्रिंग मामले में भी कसा शिकंजा, राहत की चाहत पर फिरा पानी

”गैर राजनीतिक” मुलाकात
प्रधानमंत्री से मुलाकात के बाद मुख्यमंत्री ने कहा कि यह ”गैर राजनीतिक” मुलाकात थी और उन्हें जो भी कहना होगा वह राजनीतिक बैठक में कहेंगी। ममता ने कहा, “मैं यहां एक शिष्टाचार प्रोटोकॉल के तहत आया हूं। यह एक प्रोटोकॉल है कि यदि प्रधानमंत्री या राष्ट्रपति राज्य का दौरा करते हैं, तो मुख्यमंत्री को उनसे मिलना होता है। मुझे जो भी कहना है, मैं एक राजनीतिक बैठक में कहूंगा, यह बैठक थी राजनीतिक नहीं।”

यह भी पढ़ें – Mega Block: रविवार 3 मार्च को मध्य रेलवे पर मेगा ब्लॉक, यहां पढ़ें पूरी जानकारी

संदेशखाली मामले पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी
संदेशखाली मामले के आरोपित शाहजहां को बचाने के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के आरोप के बारे में पूछे जाने पर मुख्यमंत्री ने कहा कि हम किसी को नहीं बचाते हैं। जो गलती करेगा उसको सजा मिलेगी। प्रधानमंत्री से कोई राजनीतिक बात नहीं हुई। जब भी राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री आते हैं तो शिष्टाचार भेंट होती है। और मेरी मुलाकात भी वही थी। मोदी ने कहा कि संदेशखाली की घटना शर्म की बात है। लगभग दो महीने तक मुख्य आरोपित गिरफ्तार नहीं किया गया। संदेशखाली की बहनों के साथ तृणमूल ने जो किया, उसे देखकर पूरा देश गुस्से में है। जब संदेशखाली की बहनों ने अपनी आवाज बुलंद की, ममता दीदी से मदद मांगी तो बदले में बंगाल सरकार ने तृणमूल नेता को बचाने के लिए पूरी शक्ति लगा दी। लेकिन भाजपा के दबाव में आखिरकार कल बंगाल पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया।

यह वीडियो भी देखें-

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.