उत्तराखंड के सीएम एक और विवादास्पद बयान देकर फंसे!

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत एक और विवादस्पद बयना देकर फंस गए हैं। एक कार्यक्रम में लॉकडाउन के समय में बांटे गए अनाज को लेकर उन्होंने यह विवादस्पद बयान दिया है।

लड़कियों के फटी जींस पहनने के लेकर दिए गए बयान पर मामला अभी पूरी तरह शांत भी नहीं हुआ था कि उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत एक और विवादस्पद बयना देकर फंस गए हैं। एक कार्यक्रम में लॉकडाउन के समय में बांटे गए अनाज को लेकर उन्होंने यह विवादस्पद बयान दिया है।

सीएम रावत ने कहा कि सरकार द्वारा लोगों में बांटे गए चावल को लेकर कई लोगों को जलन होने लगी, कि दो सदस्य वालों को 10 किलो, जबकि 20 सदस्य वालों को एक क्विंटल अनाज दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि इसमें दोष किसका है, उसने 20 पैदा किए तो उसको एक क्विंटल मिला। इसमें जलन किसलिए? जब समय था तो आपने दो ही किए, 20 क्यों नहीं किए?

किसी समुदाय या जाति का नहीं लिया नाम 
उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत प्रदेश के रामनगर में अंतर्राष्ट्रीय वानिकी दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में शामिल हुए थे। यह बयान उन्होंने इसी दौरान दिया। हालांकि अपने बयान में उन्होंने किसी समुदाय या जाति का नाम नहीं लिया। इसके साथ ही उन्होंने एक और तथ्यात्मक गलती कर दी। सीएम रावत ने कहा कि भारत दो सौ साल तक अमेरिका का गुलाम रहा। सच्चाई ये है कि भारत अंग्रेजों का गुलाम रहा था, न कि अमेरिका का।

ये भी पढ़ेः देशमुख को मोहलत: जानें शरद पवार ने क्या कहा?

फटी जींस के बयान पर मांगी माफी
तीरथ सिंह रावत ने करीब एक सप्ताह पहले ही मुख्यमंत्री का कार्यभार संभाला है। इस बीच वे कई बार बयान देकर विवादों में घिर गए हैं। फटी जींस को लेकर दिए गए अपने बयान पर विवाद होने पर उन्होंने माफी मांग ली थी। अब उनके दूसरे विडियो वायरल होने पर विवाद हो गया है। विपक्षी पार्टियां उनके इस बयान की कड़े शब्दों में आलोचना कर रही हैं।

ये भी पढ़ेः लखनऊ विश्वविद्यालय के इस नोटिस पर मचा है बवाल!

पीएम को बताया था भगवान कृष्ण का अवतार
हाल ही में हरिद्वार में उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तुलना भगवान कृष्ण से करते हुए कहा था कि एक दिन लोग पीएम मोदी की पूजा करेंगे। उनके इस बयान की भी काफी आलोचना की गई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here