क्या ये पंजाब में आईएसआई समर्थित खालिस्तान मूवमेंट का है अंडर करेंट?

पंजाब में प्रधानमंत्री की सुरक्षा में भयंकर कोताही, आतंकियों की गिरफ्तारी, विस्फोटकों की बरामदगी भयंकर प्रशासनिक लापरवाही की ओर भी संकेत देती है।

राज्य में विस्फोटकों की बरामदगी, आतंकियों की गिरफ्तारियां और इंटेलिजेंस कार्यालय में धमाके की घटना क्या इशारा कर रही हैं, इस पर अब ध्यान देने की आवश्यकता है। इन घटनाओं से यह भी स्पष्ट हो रहा है कि पंजाब समेत कई राज्यों में खालिस्तानी आतंकी स्लीपर सेल के रूप में मौजूद हैं। जानकार इसे पंजाब में खालिस्तान मूवमेंट का अडंर करंट मान रह हैं।

खालिस्तान समर्थक आतंकी संगठन सिख फॉर जस्टिस के लीगल कॉउंसिल गुरपतवंत सिंह पन्नू ने हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री को एक धमकी भरा संदेश जारी किया है। पन्नू ने धर्मशाला विधानसभा में खालिस्तानी झंडे लगवाने की जिम्मेदारी ली और चेतावनी दी है कि मोहाली में हुए बम ब्लास्ट से सबक लेना चाहिए। पन्नू ने 6 जून, 2022 को रेफरेंडम 2020 की वोटिंग की घोषणा भी किया है।

ये भी पढ़ें – #PunjabBlast आतंक में झोंकने का है षड्यंत्र!

खालिस्तान मूवमेंट का नया पैटर्न
रक्षा विशेषज्ञों के अनुसार पाकिस्तानी गुप्तचर एजेंसी आईएसआई पंजाब समेत विभिन्न राज्यों में दोबारा आतंकी संगठनों को जिंदा करने में लगी है। इसके लिए बब्बर खालसा इंटरनेशनल के आतंकी हरविंदर सिंह रिंदा को जिम्मा सौंपा गया है। रिंदा का नेटवर्क पूरे साऊथ एशिया में फैला हुआ है। इस नेटवर्क के जरिए वह ड्रग और हथियारों की तस्करी को करवाता रहा है। खूफिया सूत्रों के अनुसार देश में बब्बर खालसा आतंकी सगंठन के 120 स्लीपर सेल हैं। पिछले साल दिसंबर में लुधियाना कोर्ट में जो धमाका हुआ था उसमें रिंदा का ही हाथ था। सूत्रों के अनुसार रिंदा समुद्र के रास्ते आतंकियों के घुसपैठ की योजना में लगा हुआ है ।

पूर्व आईएसआई चीफ की खतरनाक योजना
आईएसआई का पूर्व चीफ जावेद नासिर पाकिस्तान गुरूद्वारा प्रबंधक कमेटी का अध्यक्ष है और पाकिस्तान स्थित गुरूद्वारों का जिम्मा संभालता है। खालिस्तान मूवमेंट को जिंदा करने के लिए सिख आतंकी सगंठनों को तैयार किया जा रहा है। वाधवा सिंह बब्बर खालसा इंटनेशनल का अध्यक्ष है और डिप्टी चीफ मेहाल सिंह और 20 अन्य आतंकियों के प्रत्यर्पण की मांग भारत कर रहा है ।

ड्रोन से हथियारो की खेप आ रही है
ऐसी जानकारी मिली हैं कि, आतंकी संगठन हथियार भेजने के लिए अब ड्रोन का सहारा ले रहे हैं। फिरोजपुर में मोबाइल ऐप के जरिए हथियारों की लोकेशन भेजी गई है। यहीं के गुरूप्रीत और आकाशदीप के खेतों में ड्रोन के जरिए हथियार भेजे गए थे। रोजाना साजिशों के नये-नये फ्रंट खोले जा रहे हैं। सूत्रों के अनुसार देश में खत्म हो चुके आतंकी संगठनों को आरडीएक्स और नशे की खेप ड्रोन से भेजी जा रही है। पाकिस्तान की आईएसआई एंजेसी पंजाब के अपराधियों और गैगेस्टरों से संपर्क करके खालिस्तान मूवमेंट को चलाने के लिए उनको अपने साथ जोड़ रहे हैं। इसका खुलासा करनाल में पकड़े गए 4 आतंकियों गुरप्रीत ,परमिन्दर , अमनदीप और भूपेन्द्र ने किया है।

कैप्टन अमरिंदर सिंह की चेतावनी
पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा है कि पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान को प्रशासनिक अनुभव नहीं है। पंजाब में हो रही आतंकी घटनाओं को हल्के में नहीं लेना चाहिए। इसलिए पंजाब सरकार को केन्द्र के साथ मिलकर पाकिस्तान के मंसूबों को कुचल देना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here