Election Commission ने सियासी दलों पर कसा शिकंजा, अब अपराधियों को टिकट देने पर करना होगा ये काम

मुख्य चुनाव आयुक्त ने बताया कि वोटिंग प्रतिशत बढ़ाने और वोटिंग को सुविधाजनक बनाने के लिए नई पहल के तहत बुजुर्ग मतदाताओं और 40 फीसदी दिव्यांगों को घर से वोट देने की सुविधा दी जाएगी।

53

चुनाव आयोग (Election Commission) देश में स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव कराने के लिए अपनी प्रतिबद्ध जताते हमेशा नया-नया प्रयोग करता रहता है। इसी कड़ी में चुनाव आयोग ने राजनीति में अपराधियों (criminals) के प्रवेश को रोकने के लिए कुछ नये नियम बनाये हैं। इसके तहत अब सियासी दलों (Political parties) को समाचार पत्रों (newspapers) में आपराधिक पृष्ठभूमि वाले व्यक्ति को टिकट देने का कारण और उनके अपराधों की पूरी जानकारी भी प्रकाशित कराने होंगे।

राजनीतिक दलों को देना होगा जवाब
मुख्य चुनाव आयुक्त राजीव कुमार (Rajiv Kumar) ने चुनावी राज्य राजस्थान के जयपुर में कहा कि चुनाव आयोग ने राजनीति में अपराधियों के प्रवेश को रोकने के लिए कठोर कदम उठाया है। राजनीतिक दलों को अब इसका जवाब देना होगा कि उन्होंने अपनी पार्टी से आपराधिक उम्मीदवार (criminal candidate) क्यों बनाया।

बुजुर्ग मतदाताओं और दिव्यांगों को घर से वोटिंक की सुविधा
मुख्य चुनाव आयुक्त ने बताया कि वोटिंग प्रतिशत बढ़ाने और वोटिंग को सुविधाजनक बनाने के लिए नई पहल के तहत बुजुर्ग मतदाताओं और 40 फीसदी दिव्यांगों को घर से वोट देने की सुविधा दी जाएगी। बता दें कि इसी साल के अंत में राजस्थान में विधानसभा का चुनाव होना है। इसी संदर्भ में देश के मुख्य चुनाव आयुक्त राजीव कुमार इस समय राजस्थान के दौरे पर हैं।

यह भी पढ़ें – विकसित राष्ट्र के लिए आधुनिक हथियारों के साथ मजबूत सशस्त्र बल भी जरूरी : Rajnath Singh

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.