Nitish Kumar: इंजीनियर से बातचीत के दौरान नीतीश कुमार ने फिर खोया आपा, बोले – ‘पैर छू लूंगा अगर…’

जेपी गंगा पथ एक महत्वपूर्ण परियोजना है जिसका उद्देश्य सिंगल-लेन अशोक राजपथ पर यातायात की भीड़ को कम करना है, जहां दोनों तरफ घने निर्माण के कारण सड़क को चौड़ा करना संभव नहीं है।

78

Nitish Kumar: बिहार के मुख्यमंत्री (Bihar CM) नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने आज (10 जुलाई) पटना के मरीन ड्राइव (Marine Drive Patna) के नाम से मशहूर जेपी गंगा पथ (JP Ganga Pathway) के तीसरे चरण का उद्घाटन किया। दीघा से गायघाट तक 12.5 किलोमीटर लंबा हिस्सा पहले से ही चालू है और 4.5 किलोमीटर का अतिरिक्त हिस्सा बनाया गया है, जो इसे पटना घाट तक ले जाएगा।

जेपी गंगा पथ एक महत्वपूर्ण परियोजना है जिसका उद्देश्य सिंगल-लेन अशोक राजपथ पर यातायात की भीड़ को कम करना है, जहां दोनों तरफ घने निर्माण के कारण सड़क को चौड़ा करना संभव नहीं है।

यह भी पढ़ें- YouTuber Elvish Yadav: यूट्यूबर एल्विश यादव को ईडी ने भेजा नया समन, जानें क्या है मामला

राजनीतिक वाद-विवाद
हालांकि, कार्यक्रम के दौरान सीएम मंच पर गुस्सा हो गए और कथित तौर पर एक इंजीनियर के पैर छूने के लिए उठ खड़े हुए। एक इंजीनियर से बातचीत के दौरान नाराज सीएम ने कहा, “अगर आप चाहते हैं… तो हम आपके पैर छू लेंगे…” मुख्यमंत्री की यह प्रतिक्रिया इसलिए महत्वपूर्ण है क्योंकि पुल ढहने की घटनाओं ने राज्य में राजनीतिक वाद-विवाद को जन्म दिया है। पिछले कुछ हफ्तों में बिहार के कई जिलों में एक दर्जन से अधिक पुलिया और पुल ढह गए, जिसके बाद अधिकारियों ने कम से कम 15 इंजीनियरों को निलंबित कर दिया, हालांकि ऐसी दुर्घटनाओं में कोई हताहत नहीं हुआ है।

यह भी पढ़ें- Worli hit-and-run case: बीएमडब्ल्यू हिट-एंड-रन मामले कार्रवाई, पब के अवैध निर्माण पर चला बुलडोज़र

15 इंजीनियर निलंबित 
एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि बिहार सरकार ने राज्य में पुल ढहने की हाल की घटनाओं के सिलसिले में 15 इंजीनियरों को निलंबित कर दिया है। यह निर्णय एक जांच पैनल द्वारा जल संसाधन विभाग (डब्ल्यूआरडी) को अपनी रिपोर्ट सौंपे जाने के बाद लिया गया। अधिकारियों ने बताया कि पिछले 17 दिनों में सीवान, सारण, मधुबनी, अररिया, पूर्वी चंपारण और किशनगंज जिलों में कुल 10 पुल ढह गए।

यह भी पढ़ें- Konkan Railway: बारिश के कारण कोंकण रेलवे परिचालन प्रभावित, ये ट्रैन हुई रद्द

इंजीनियर “लापरवाह”
जल संसाधन विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव चैतन्य प्रसाद ने कहा था कि रिपोर्ट में पाया गया कि इंजीनियर “लापरवाह” थे और निगरानी “अप्रभावी” थी, जो राज्य में छोटे पुलों और सड़कों के ढहने का मुख्य कारण है।

यह वीडियो भी देखें-

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.