Mumbai: संजय निरुपम मुख्यमंत्री की मौजूदगी में शिवसेना में शामिल, सीएम शिंदे से किया यह वादा

मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे की मौजूदगी में संजय निरुपम और उनके कार्यकर्ताओं ने शिवसेना का झंडा थाम लिया। दो दिन पहले ही उन्होंने सीएम शिंदे से मुलाकात की थी। उसके बाद यह स्पष्ट हो गया था कि उनकी घर वापसी होगी।

414

Mumbai: संजय निरुपम आखिरकार कांग्रेस छोड़कर शिवसेना में शामिल हो गए हैं। मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे की मौजूदगी में संजय निरुपम और उनके कार्यकर्ताओं ने शिवसेना का झंडा थाम लिया। सबकी निगाहें इस बात पर थीं, कि कांग्रेस से इस्तीफा देने के बाद संजय निरुपम क्या भूमिका निभाएंगे। दो दिन पहले संजय निरुपम ने मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे से मुलाकात की थी। निरुपम आखिरकार 3 अप्रैल को शिवसेना में शामिल हो गए।

Maharashtra: नकली शिवसेना में अब वीर सावरकर का नाम लेने की हिम्मत नहीं, अमित शाह ने दी उद्धव ठाकरे को चुनौती

संजय निरुपम की 20 साल बाद घर वापसी हुई है। उन्होंने इस अवसर पर खुशी जताते हुए कहा कि उन्हें अपने घर में वापस आकर खुशी हो रही है। निरुपम ने कहा कि वे पूरे दल बल के साथ शिवसेना में आए हैं। मुंबई में तीनों सीटों पर भगवा पार्टी को जिताना है। उन्होंने वादा किया कि मुख्यमंत्री शिंदे को कभी भी शिकायत का मौका नहीं मिलेगा।

2005 में कांग्रेस में हुए थे शामिल
संजय निरुपम 2005 में कांग्रेस में शामिल हुए थे और उन्हें महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस कमेटी का महासचिव नियुक्त किया गया था। उन्होंने 2009 के चुनावों में मुंबई उत्तर लोकसभा सीट जीती थी, जिसमें उन्होंने भाजपा के दिग्गज नेता राम नाइक को एक करीबी मुकाबले में मामूली अंतर से हराया था। संजय निरुपम ने पिछले 20 वर्षों में कांग्रेस में विभिन्न पदों पर कार्य किया और पार्टी नेतृत्व से दूर होने से पहले शहर इकाई का नेतृत्व भी किया था।

कांग्रेस ने किया था निष्कासित
कांग्रेस ने पिछले महीने संजय निरुपम को “अनुशासनहीनता और पार्टी विरोधी बयानबाजी” के लिए छह साल के लिए निष्कासित कर दिया था, कुछ दिनों पहले उन्होंने मुंबई उत्तर-पश्चिम सीट पर पार्टी को ‘एक सप्ताह का अल्टीमेटम’ दिया था, जिस पर उनकी नजर थी, लेकिन पार्टी ने उनके अल्टीमेटम को गंभीरता से नहीं लिया था।

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.