ममता बनर्जी को गुस्सा क्यों आया?

पश्चिम बंगाल में भाजपा और टीएमसी के बीच काफी समय से अनबन चल रही है। वहां विधानसभा चुनाव होने हैं और इसके पहले भाजपा द्वारा ममता बनर्जी की पार्टी को एक के बाद एक झटके दिये जा रहे हैं।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री का गुस्सा एक बार फिर फूटा है। इस बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के समक्ष ये घटना हुई जब मंच पर संबोधन के लिए बुलाए जाने पर श्रोताओं ने जय श्रीराम के नारे लगाने शुरू कर दिये। जिसके बाद ममता बनर्जी ने अपनी तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए संबोधन से इन्कार करके वापस अपने स्थान पर लौट गईं।

कोलकाता के विक्टोरिया मेमोरियल हॉल में नेताजी सुभाषचंद्र बोस की 125वीं जयंती पर एक कार्यक्रम आयोजित किया गया था। यह कार्यक्रम केंद्र सरकार पराक्रम दिवस के रूप में मना रही है। कार्यक्रम का आयोजन केंद्रीय संस्कृति मंत्रालय द्वारा आयोजित किया गया था।

ये भी पढ़ें – वित्त मंत्रालय में ‘हलवा’ समारोह… जानिये क्या है बजट में इसके मायने?

…और चिढ़कर लौट गईं मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी मंच पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राज्यपाल जगदीप धनखड़ समेत बड़ी संख्या में अतिविशिष्ट व्यक्तियों के साथ बैठी थीं। उन्हें संबोधन के लिए आमंत्रित किया गया। इस बीच श्रोताओं ने जय श्रीराम के नारे लगाने शुरू कर दिये। इससे ममता का चेहरा गुस्से से लाल हो गया।

ये भी पढ़ें – ‘दीदी’ को राजधानी चाहिये या संगीत कुर्सी?

मुख्यमंत्री ने कहा, मैं सोचती हूं कार्यक्रम की एक मर्यादा होनी चाहिए। ये कोई राजनीतिक कार्यक्रम नहीं है… ये आपको शोभा नहीं देता कि जिसे आपने बुलाया है उसका अपमान करें। इसका विरोध करते हुए मैं कुछ नहीं बोलूंगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here